दिल्ली में ऊबर ऑटो राईडरशिप पूर्व-कोविड स्थिति के नज़दीक पहुंची


शब्दवाणी समाचार, बुधवार 19 अगस्त 2020, नई दिल्ली। शहरों में आम जनजीवन बहाल हो रहा है। ऊबर ने घोषणा की है कि इससे मोबिलिटी व्यवसाय में भी तेजी आ रही है। किफायती सेवा उत्पाद जैसे ऑटो एवं मोटो अन्य के मुकाबले ज्यादा तेजी से वृद्धि कर रहे हैं। ऑटो की श्रेणी दिल्ली जैसे शहरों में ज्यादा तेजी से वृद्धि कर रही है तथा कोविड-पूर्व के अपने व्यवसाय के 80 प्रतिशत स्तर तक पहुंच गई है। दिल्ली के बाद जयपुर एवं चंडीगढ़ का नाम आता है, जहां राईडर की मांग बढ़ रही है। पिछले कुछ महीनों में ऊबर ने ड्राईवर्स को सुरक्षा सप्लाई पहुंचाने के लिए काफी निवेश किया। ऑटो रिक्शा में हाई क्वालिटी सुरक्षा स्क्रीन लगाई गईं तथा अभिनव टेक्नॉलॉजी समाधान स्थापित किए गए, जिससे ट्रिप के दौरान राईडर्स व ड्राईवर्स सुरक्षित महसूस करें।
शिवा शैलेंद्रन, जनरल मैनेजर, नॉर्थ एवं वेस्ट इंडिया, ऊबर ने कहा, ‘‘सामान्य जन जीवन पुनः स्थापित होने के बाद नागरिक फिर से यात्रा करना शुरू कर रहे हैं। किफायती उत्पाद, खासकर हमारी ऑटो श्रेणी अन्य माध्यमों की तुलना में ज्यादा तेजी से बहाल हो रही है। हमारी विस्तृत इन-ऐप सुरक्षा विशेषताओं, भरोसेमंद डोर-टू-डोर सेवा एवं किफायती मूल्य के साथ हमें विश्वास है कि ऑटो बाजार में पुनः स्थापित होने में सबसे आगे रहेंगे तथा भविष्य में नए शहरों में हमारी सेवाएं शुरू होने पर मांग बढ़ाएंगे।



पिछले माह ऊबर एवं बजाज ने उद्योग की प्रथम पार्टनरशिप कर देश में 1 लाख ऑटो में सुरक्षा स्क्रीन इंस्टॉल कीं, ताकि ड्राईवर्स व राईडर्स के बीच सोशल डिस्टैंसिंग सुनिश्चित करने के लिए एक अतिरिक्त फिज़िकल बैरियर स्थापित हो। कंपनियों ने नई दिल्ली, गुड़गांव, मुंबई, पुणे, चेन्नई, हैदराबाद, बैंगलोर आदि सहित 20 शहरों में 1 लाख ऑटो रिक्शा ड्राईवर्स को सुरक्षा किट्स वितरित कीं।
ऊबर ने विस्तृत सुरक्षा उपाय प्रस्तुत किए हैं, जिनमें गो ऑनलाईन चेकलिस्ट, राईडर्स व ड्राईवर्स के लिए अनिवार्य मास्क पॉलिसी, ड्राईवर्स के लिए प्रि-ट्रिप मास्क वैरिफिकेशन सेल्फी, सेफ्टी एसओपी की अनिवार्य ड्राईवर एजुकेशन एवं अपडेटेड कैंसेलेशन पॉलिसी शामिल है, जिसके तहत यदि राईडर या ड्राईवर में से कोई भी सुरक्षित महसूस न कर रहा हो, तो वह राईड को कैंसल कर सकता है। इससे इस प्लेटाफॉर्म का उपयोग करने वाले हर व्यक्ति में जिम्मेदारी का अहसास विकसित होगा।
इसके अलावा, ऊबर ने ड्राईवर्स के लिए सुरक्षा सप्लाई, जैसे मास्क, ग्लव, हैंड सैनिटाईज़र एवं डिसइन्फैक्टैंट स्प्रे खरीदने के लिए दुनिया में 50 मिलियन डॉलर का आवंटन किया है। भारत में टीम्स 70 से ज्यादा शहरों, जहां ऑपरेशंस शुरू हो चुके हैं, वहां काम कर रहे ड्राईवर्स को प्रोटेक्टिव उपकरण वितरित कर रही हैं। ऊबर का नया इन-ऐप सेफ्टी फीचर ड्राईवर्स को एक निश्चित संख्या में ट्रिप्स पूरी होने के बाद अपनी पीपीई सप्लाई को पुनः भरने के लिए सूचित करेगा।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन