दुनियाभर में कोविड की दूसरी लहर आते ही सोने की कीमतों ने छुआ नया शिखर : प्रभातेश माल्या


शब्दवाणी समाचार, सोमवार 10 अगस्त 2020, नई दिल्ली। अमेरिकी अर्थव्यवस्था को सपोर्ट देने के लिए कोरोनवायरस रिलीफ बिल के पारित होने के विवाद के बीच निवेशकों की नजरें डेमोक्रेटिक नेताओं और व्हाइट हाउस के अधिकारियों के बीच चल रही बातचीत पर रहीं। प्राइवेट पेरोल में तेज गिरावट और मैन्यूफेक्चरिंग और सेवा उद्योग में रोजगार के अवसर कमजोर होने से लेबर मार्केट में कमजोरी के संकेत मिले और इसने निवेशकों को सतर्क बना दिया है।
सोना
गुरुवार को सोने की कीमतें 1.06 प्रतिशत अधिक रही। सोना स्टैंडर्ड 2039.4 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। सोने की कीमतों में वृद्धि का कारण कोरोनोवायरस की दूसरी लहर के कारण होने वाली खराब आर्थिक स्थितियां है। 
अमेरिका ने कोविड-19 का प्रभाव बढ़ने की उम्मीदों से जुड़ी स्टिमुलस इन्फ्यूजन की घोषणा ने सोने की कीमतों को ऊंचा बनाए रखा। अमेरिकी डॉलर में गिरावट की वजह से वास्तविक रिटर्न में उल्लेखनीय गिरावट आई और मार्केट में लोगों ने नॉन-यील्ड वाले गोल्डन असेट की ओर निवेश के लिए रुख किया। 



कच्चा तेल
डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें गुरुवार को 0.57 प्रतिशत कम होकर $42.0 प्रति बैरल पर बंद हुईं। कोविड-19 केस में वृद्धि की खतरनाक दर के कारण अमेरिका में क्रूड ऑइल का आउटलुक संदेह में बना रहा। कोविड-19 का प्रभाव बढ़ने की आशंकाओं के बीच अमेरिका के नए स्टिमुलस डील के कारण कच्चे तेल की मांग संभावना अब भी दबाव में है।  
कमजोर अमेरिकी डॉलर की स्थिति के बीच अमेरिकी इन्वेंट्री के स्तर में गिरावट के कारण कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट सीमित रही। इसके अलावा, अमेरिकी डॉलर में कमजोरी के कारण कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट देखी गई, जिसने अन्य देशों के मुद्रा धारकों के लिए तेल की कीमतों को कम कर दिया।  
हालांकि, एनर्जी इंफर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन की रिपोर्टों के अनुसार, अमेरिकी बाजारों में क्रूड ऑइल के इन्वेंट्री लेवल की उम्मीद (3 मिलियन बैरल) 2020 के अंतिम सप्ताह में बढ़कर 7.4 मिलियन बैरल तक पहुंच गई थी।
बेस मेटल्स 
एलएमई बेस मेटल की कीमतें गुरुवार को सकारात्मक नोट पर समाप्त हुईं। बेस मेटल्स की कीमतें यू.एस. डॉलर में कमजोरी और यू.एस., चीन और यूरोजोन में मैन्यूफेक्चरिंग गतिविधियों की रिकवरी से समर्थित थीं। औद्योगिक धातु की कीमतों में वृद्धि के पीछे प्रमुख कारण सबसे बड़े धातु उपभोक्ताओं में से एक चीन से मांग की दर में मजबूती आना है।
हालांकि, बेस मेटल्स के आउटलुक पर बादल छाए हुए हैं क्योंकि महामारी के व्यापक प्रभाव पर वैश्विक आर्थिक स्थितियों के कारण अन्य देशों से धातु की मांग निराशाजनक बनी हुई है।
औद्योगिक धातु की कीमतों को नीति निर्माताओं की ओर से आ रहे बड़े प्रोत्साहन पैकेजों का सपोर्ट मिल रहा है और ब्याज दरों में गिरावट से महामारी के कारण आर्थिक गिरावट को थामने में कुछ सहायता प्रदान करती हैं।
तांबा
एलएमई कॉपर की कीमतें गुरुवार को 0.25 प्रतिशत कम होकर 6494.5 डॉलर प्रति टन पर बंद हुईं। चिली और पेरू जैसे प्रमुख तांबा निर्माताओं से आपूर्ति पर बढ़ती चिंताओं के कारण लाल धातु की कीमतें कम रहीं। औद्योगिक धातुओं के लिए मांग की संभावनाओं को कोरोनावायरस की अनुमानित दूसरी लहर से जोड़कर देखा जा रहा है।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन