फिटजी राष्ट्रीय स्तर पर प्रॉक्टर्ड ऑनलाइन टेस्ट आयोजित करने वाला देश का पहला कोचिंग संस्थान बना


शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 25 अगस्त 2020, नई दिल्ली। कोविड-19 के कारण बनी इस जटिल स्थिति के बीच, फिटजी देश का पहला कोचिंग संस्थान बन गया है जिसने राष्ट्रीय स्तर पर ऑनलाइन टेस्ट लाइव परीक्षक के साथआयोजित किया है। इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए भारत के अग्रणी संस्थान के रूप में चर्चित, फिटजी ने यह प्रॉक्टर्ड ऑनलाइन स्कॉलरशिप कम एडमिशन टेस्ट (पीओएसएटी) और प्रॉक्टर्ड ऑनलाइन स्कॉलरशिप टेस्ट (पीओएसटी) बीते 2 अगस्त 2020 को आयोजित किया था। 
फिटजी देश का पहला संस्थान है जिसने रिमोट प्रॉक्टरिंग टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हुए परीक्षा का आयोजन किया है। इसी के साथ फिटजी की सफलता की कड़ी में एक और नई उपलब्धि जुड़ गई है। विभिन्न राज्यों, कस्बों और यहां तक कि गांवों से 15000 से अधिक छात्र किसी भाषा या तकनीकी समस्या के बिना परीक्षा में शामिल हो सके। परीक्षा में देश के हर कोने से छात्र शामिल हुए। छात्रों ने परीक्षा के लिए लैपटॉप, टेस्कटॉप, टैब और स्मार्ट फोन आदि का उपयोग किया।जिन छात्रों ने परीक्षा के लिए मोबाइल का इस्तेमाल किया, वे भी परीक्षा को बिना किसी चुनौती के पूरा कर पाए। यहां तक कि खराब नेटवर्क वाले क्षेत्रों में भी छात्र सफलतापूर्वक परीक्षा दे सके। 



फिटजी ने एक बड़े पैमाने का हेल्प सेंटर तैयार किया था जो छात्रों की तत्काल मदद के लिए हर वक्त उपलब्ध था। यह पूरी प्रक्रिया बहुत ही प्रॉफेशनल तरीके से पूरी की गई। सभी छात्र और उनके माता-पिता ने इस समर्थन की दिल से सराहना की।
परीक्षा से पहले फिटजी ने पंजीकृत छात्रों के लिए मॉक टेस्ट भी आयोजित कराया, जिससे वे अभ्यास कर सकें और प्रॉक्टर्ड टेस्ट का वास्तविक अनुभव प्राप्त कर सकें। छात्रों को मॉक टेस्ट में 3 बार उपस्थित होने की अनुमति दी गई थी। 
यह एक तीन-स्तरीय प्रॉक्टरिंग सिस्टम था, जहां पहला स्तर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस द्वारा, दूसरा स्तर फिटजी के ऑनलाइन प्रॉक्टर द्वारा और तीसरा स्तर एग्जामिनेशन सुपरवाइज़र द्वारा नियंत्रित किया गया, जिसमें समय-समय पर छात्रों की फोटो खीचना, वीडियो रिकॉर्ड करना और ऑडिट ट्रेल आदि शामिल था।
प्रॉक्टर ऑनलाइन टेस्ट पूरी तरह फिटजी के ऑफलाइन टेस्ट जैसा ही था जहां आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से लाइव ऑनलाइन परीक्षक की व्यवस्था की गई थी। छात्रों को उनके लैपटॉप, डेस्कटॉप या मोबाइल के कैमरे और माइक की मदद से सुपरवाइज़ किया गया। टेस्ट के दौरान छात्रों पर निरंतर नजर रखी गई और उनकी सभी गतिविधियों और हरकतोंको रिकॉर्ड भी किया गया। नकल के लिए की कई किसी भी तरह की गतिविधि को प्रॉक्टर द्वारा रिकॉर्ड किया गया है। प्रॉक्टर के पास नकल करते पकड़े जाने वाले छात्रों को चैट की मदद से चेतावनी देने की अनुमति भी थी।
प्रॉक्टर्ड ऑनलाइन स्कॉलरशिप टेस्ट (पीओएसटी) फिटजी के उन सभी क्लासरूम प्रोग्राम के छात्रों के लिए आयोजित किया गया था, जिन्होंने लॉकडाउन में ऑनलाइन टेस्ट के ज़रिए पहले ही प्रवेश ले लिया था। प्रॉक्टर्ड ऑनलाइन स्कॉलरशिप कम एडमिशन टेस्ट (पीओएसएटी) कक्षा छठीं, सातवीं, आठवीं, नवीं, दसवीं, ग्यारहवीं ,बारहवीं और बारहवींप।सके छात्रों के लिए आयोजित की गई थी, जो फिटजी के ऑनलाइन क्लासरूम प्रोग्राम में प्रवेश पाना चाहते है।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन