खंड A शहीद नगर SSPS (GZB) के सदस्यों की दूसरी मीटिंग सम्पन्न



• शब्दवाणी समाचार पाठक संघ आम जनता को एकजुट करने का प्रयास कर रहा है
• जब हम एकजुट रहे तभी समाज का हमारे ऊपर ध्यान जाएगा
• संविधान ने जो हमे मूल अधिकार दिया है वो पानी की भाँति है
• जैसे गिरते पानी को हम सही दिशा दें तो वह पानी अपनी सही मंजिल और अधिक दुरी तक पहुंच जाएगा
• पानी की सही दिशा नहीं दिया तो वह अनजाने में जहां भी उसे आसानी से रास्ता मिलेगा उसी और चला जाएगा • चाहे वो गलत जगह जाकर बर्बाद ही क्यों न हो जाए
• वर्तमान समय में जो लोग एक जुट हैं वह पानी की बोतल की भाँति है
• जहां से पानी निकलता है एकजुट लोग अपनी पानी की बोतल को वही ले जाकर भर लेते हैं
• जो लोग एक जुट नहीं हैं उन तक वह पानी नहीं पहुंचता 
• अगर पहुंचता है तो वह भी बोतल भर जाने के बाद वो भी इधर उधर पानी बर्बाद होते हए पहुंचता
• इसी भाँति सरकार और सिस्टम भी कोई भी चीज सभी को एक समान देने की योजना बनाती 
• परन्तु जो लोग किसी संस्था के नाम पर एक जुट हैं जो सरकार से मांगकर ले लेती
• जो लोग किसी भी तरह से एक जुट नहीं है वह उम्मीद में ही रह जाती 
• इसलिए एक जुट रहने की आवश्यकता



शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 6 नवंबर 2020, ग़ाज़ियाबाद। शब्दवाणी समाचार के स्थाई पाठकों की गैर राजनितिक सामाजिक संस्था शब्दवाणी समाचार पाठक संघ की खंड A शहीद नगर SSPS (GZB) के सदस्यों की दूसरी बैठक खंड A शहीद नगर SSPS (GZB) के मुख्य सुचना अधिकारी श्री सुखवीर कुमार (मीनू) की अध्यक्षता में सफलतापूर्वक बीती रात को खंड कार्यालय में सम्पन्न हुई। जिसमें खंड A शहीद नगर SSPS (GZB) के मुख्य सूचना अधिकारी श्री सुखवीर कुमार (मीनू) सहित, श्री सरताज खान, श्री शहाबुद्दीन, श्री पूरन, श्री बिलाल, श्री अब्दुल अजीज, श्री रियाजुद्दीन, श्री मोहम्मद्दीन इत्यादि उपस्थित रहे। इस मीटिंग में सभी सदस्य राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय राजनितिक और गैर राजनितिक बातों पर चर्चा रही। 
शब्दवाणी समाचार पाठक संघ आम जनता को एकजुट करने का प्रयास कर रहा है कियोंकि दुनिया के सबसे बड़े व् सूंदर भारत के लोकतंत्र जो सम्पूर्ण देश वासियो को एक समान मूल अधिकार देने का वादा करता है वो तभी मिलेगा जब हम एकजुट रहे तभी समाज का हमारे ऊपर ध्यान जाएगा शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सलाहकार मोहम्मद जोशी ने मीटिंग को सम्बोधन करते हुए कहा भारत के संविधान ने जो हमे मूल अधिकार दिया है वो पानी की भाँति है जैसे गिरते पानी को हम सही दिशा दें तो वह पानी अपनी सही मंजिल और अधिक दुरी तक पहुंच जाएगा और उसको सही दिशा नहीं दिया तो वह अनजाने में जहां भी उसे आसानी से रास्ता मिलेगा उसी और चला जाएगा चाहे वो गलत जगह जाकर बर्बाद ही क्यों न हो जाए। वर्तमान समय में जो लोग एक जुट हैं वह पानी की बोतल की भाँति है जहां से पानी निकलता है एकजुट लोग अपनी पानी की बोतल को वही ले जाकर भर लेते हैं जिस कारण जो लोग एक जुट नहीं हैं उन तक वह पानी नहीं पहुंचता अगर पहुंचता है तो वह बोतल भर जाने के बाद वो भी इधर उधर पानी बर्बाद होते हए पहुंचता है जिस कारण वो पानी सीमित हो जाता है। इसी भाँति कोई भी सरकार और सिस्टम भी कोई भी चीज सभी को एक समान देने की योजना बनाती है परन्तु जो लोग किसी संस्था के नाम पर एक जुट हैं जो सरकार से मांगकर ले लेती है। और जो लोग किसी भी तरह से एक जुट नहीं है वह उम्मीद में ही रह जाती है इसलिए एक जुट रहने की आवश्यकता है।  



 


Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

जिला हमीरपुर के मौदहा में प्रधानमंत्री आवास योजना में चली गांधी की आंधी