यथार्थ सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल ने लिया 50 गांवों को गोद


•       इन गांवों के लोग कम से कम खर्च पर विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं

•       स्वस्थ जीवन के प्रति जन जागरूकता बढ़ाने की सीएसआर पहल

•       लाँच किये  रियायती हेल्थ कार्ड

•       हेल्थ कार्ड योजना के तहत दूसरे चरण में आसपास के 50 से अधिक गांवों को कवर किया

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 22 दिसंबर  2020, नई दिल्ली। ग्रेटर नोएडा। गांव के लोगों को उनके गांव के पास ही कम खर्च में विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के उद्देश्य से उत्तर-भारत के प्रमुख चिकित्सा संस्थान – ग्रेटर नोएडा स्थित यथार्थ सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल ने आज ग्रामीणों के लिए रियायती हेल्थ कार्ड लॉन्च किए। इस अवसर पर 15 गावों से 50 के करीब  ग्रामवासी एवं उनके ग्राम प्रधान मौजूद थे। कार्ड लांच के पहले चरण में इस कार्ड की सुविधाएँ कासना, दनकौर, दादूपुर, घरबारा, बिड़ोदी, बिरोंदा, जगनपुर, खानपुर, दद्दा, खैरपुर, लुखसर, पिपलका, चूहड़पुर साकीपुर, तिलपता, और अमरापुर गावों के लोगों को उपलब्ध कराई जाएंगी यथार्थ सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल की इस सीएसआर पहल के तहत ʺस्वस्थ  गाँव, सुखी गाँव ‘’ नामक इस योजना के लिए गांव के प्रत्येक परिवार को हेल्थ कार्ड प्रदान किया जाएगा और इसके माध्यम से गांव के लोग रियायती दर पर स्वास्थ्य सुविधाएं प्राप्त कर सकेंगे। रियायती दर पर प्राप्त की जाने वाली सेवाओं में ओपीडी परामर्श, पैथोलॉजिकल और रेडियोलॉजिकल डायग्नोस्टिक सेवाएं, एमआरआई और सीटी स्कैन सेवाएं शामिल है जबकि एम्बुलेंस सेवाएं नि: शुल्क  प्रदान की जाएंगी। इस गांव से  भर्ती होने वाले मरीजों को खास रियायतें भी प्रदान की जाएंगी।

यथार्थ सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल्स के प्रबंध निदेशक डॉ कपिल त्यागी ने कहा, ʺगांवों तथा आसपास के काफी लोग चिकित्सा बीमा या स्वास्थ्य कवर से वंचित हैं या उसके बारे में अनजान हैं। इन्हें स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी परामर्शों के लिए भी दूर जाने की जरूरत होती है। डिस्काउंट वाले हेल्थ कार्ड के लॉन्च होने के साथ आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के मरीजों को अतिरिक्त लाभ मिलेंगे और वे कमजोर आर्थिक स्थिति के बावजूद स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं। हमारे हास्पीटल का अनूठा दृष्टिकोण यह है कि लोगों को अन्य हास्पीटलों और यहां तक कि मेट्रो शहरों के अस्पतालों की तुलना में कम से कम खर्च पर सर्वोत्तम चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराया जाए और इस तरह की पहल हमारे समाज के लिए निश्चित ही बहुत महत्वपूर्ण है। इस योजना के तहत आरंभिक चरण में 15 गांवों को कवर किया जाएगा और भविष्य में 50 आसपास के गांवों में इसका विस्तार किया जाएगा। यथार्थ ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स के निदेशक श्री यतार्थ त्यागी ने बताया, “ʺस्वस्थ  गाँव, सुखी गाँव" की सोच हमें गांव वासियों के बीच से ही आई। हम ग्रेटर नॉएडा से जुड़े विभिन्न गावों के प्रधानों के पास जब उनकी स्वास्थ समस्याओं पर विचार करने गए, तब उन्होंने बताया की बड़े अस्पतालों में इलाज महंगा होने के कारण गांव का एक बड़ा तबका स्वास्थय  सेवाओं से वंचित रह जाता है। अगर ग्रामीण भारत स्वस्थ नहीं रहेगा तो नए भारत का निर्माण कैसे होगा। इस योजना के जरिए गांव के लोगों को उनके घर के आसपास ही अंतर्राष्ट्रीय मानकों की सुपर स्पेशियलिटी सेवाएं कम खर्च में ही उपलब्ध हो जाएगी।

नवीनतम चिकित्सा उपलब्धियों तथा बेहतर क्षेत्रीय कनेक्टिविटी के कारण पास के क्षेत्र के मरीज इमरजेंसी की स्थिति में बहुत कम समय में ग्रेटर नोएडा के यथार्थ हास्पीटल पहुंच सकते हैं। यह रोगियों के लिए एक अतिरिक्त सुविधा है। इसकी मदद से उन्हें कम से कम समय में चिकित्सा मिल सकती है बल्कि बहुत कम खर्च पर विश्व स्तरीय विशेषज्ञों की राय मिल सकती है। यथार्थ सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल्स के ग्रुप सीईओ अमित सिंह ने कहा – यर्थाथ सुपर स्पेशलिटी अस्पताल की इस पहल से लोगों के बीच स्वस्थ जीवन के लिए समय पर नियमित चिकित्सा और समय पर जांच के प्रति जागरूकता कायम होगी। पिछले कुछ वर्षों में, यथार्थ अस्पताल देश भर के विभिन्न क्षेत्रों में अंतर्राष्ट्रीय मानकों वाली स्वास्थ्य सुविधाओं को उपलब्ध कराने की दिशा में सक्रिय रूप से काम कर रहा है। अग्रणी स्वास्थ्य एवं चिकित्सा संस्थान होने के नाते यथार्थ हास्पीटल उत्तर भारत के विभिन्न हिस्सों में स्वास्थ्य शिविर, ओपीडी और स्क्रीनिंग शिविर आयोजित करता रहता है। यथार्थ अस्पताल में अनुभवी और योग्य डॉक्टरों हैं जिन्होंने अपने – अपने क्षेत्रों में कीर्तिमान बनाए है और अब वे अधिक से अधिक लोगों को चिकित्सा प्रदान करने के लिए इच्छुक हैं।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान