सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 15 दिसंबर  2020, नई दिल्ली। सचखंड नानक धाम ने संत त्रिलोचन दर्शन दास महाराज जी के आशीर्वाद से सोमवार को किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन किया जिसमें दास करनैल सिंह (लंदन), दास अनिल खुराना, दास हरपाल सिंह, दास अयोध्या प्रसाद, दास नरेंद्र दूस सहित सचखंड नानक धाम के सैकड़ों दास सदस्य अनशन किया। इस अवसर पर किसानो को सम्बोधित करते हुए संत त्रिलोचन दर्शन दास महाराज जी ने सरकार से विनती किया किसानो की इस छोटी सी मांगों को इस समय फौरन मान लें और अगर यह बिल किसनो के हित में है तो फिर बाद में किसानो से चर्चा उपरांत इनको समझा कर लागू कर। इस समय इस बिल पर सरकार जिद न करे जिद छोड़ते हुए सरकार अपना बड़प्पन दिखाते हुए किसानो की बात मान

लें। और इनको अपने खेत में जाकर हमारे लिए अन्न दाता बनने दें। अगर सरकार इस बिल को लाने में गलत नहीं है तो किसानो के इतने बड़े समूह भी शायद गलत नहीं होंगे इसलिए इस बिल में कहीं न कहीं कुछ कमी तो है जिसे सुधारने की जरूरत है। सरकार द्वारा बनाये गए इस प्रकार के शिक्षा, स्वास्थ सहित अनेकों बिल रहा जिसे सरकार जनता के लिए उपलब्धि मानती रही परन्तु वह बिल सरकार की ही संस्थानों को खत्म करती रही और उस पर निजी संस्थानों का कब्जा होता रहा है। इसलिए आज किसानो का विशवास इस बिल के कारण सरकार से उठ गया है किसान मानते है शिक्षा, स्वास्थ जैसी मुलभुत सेवाओं पर आज निजी स्कुल व् अस्पताल पर निर्भर रहना पड़ता है कहीं उसी भांति खेत भी हो न जाए। यह डर आज किसानो को सता रहा है इसलिए में सरकार से फिर विनती करता हूँ देश हित के लिए आज जिद छोड़ें और इनकी बात मान लें।

Comments

Popular posts from this blog

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान