चार्ल्स स्टर्ट यूनिवर्सिटी ने अपने प्रोग्राम पोर्टफोलियो में दो नए कोर्स पेश किए

भारतीय छात्र अब मास्टर्स ऑफ प्रोजेक्ट मैनेजमेंट एंड लीडरशिप के साथ-साथ डिप्लोमा इन इंफर्मेशन टेक्नोलॉजी का अध्ययन कर सकते हैं, जो यूनिवर्सिटी में बैचलर ऑफ आईटी प्रोग्राम के लिए मार्ग प्रशस्त करता है 

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 24 दिसंबर  2020, नई दिल्ली। नए साल के लिए चल रही आवेदन प्रक्रिया के बीच चार्ल्स स्टर्ट यूनिवर्सिटी के स्टडी सेंटरों ने मार्च 2021 के इनटेक के लिए दो नए कोर्सेस शुरू करने की घोषणा की। बैचलर ऑफ आईटी डिग्री हासिल करने की योजना बना रहे भारतीय छात्रों को पाथवे प्रोग्राम की आवश्यकता होती है, वे अब नए डिप्लोमा ऑफ इंफर्मेशन टेक्नोलॉजी (आईटी) का विकल्प चुन सकते हैं। पहले से ही अपने तकनीकी करियर का विस्तार करने का मन बना चुके छात्र नए मास्टर्स ऑफ प्रोजेक्ट मैनेजमेंट एंड लीडरशिप की पढ़ाई कर सकते हैं। दोनों कार्यक्रमों को स्टडी सेंटरों में वर्तमान में डिग्री के पोर्टफोलियो में जोड़ा जा रहा है।  



लगातार पांचवीं बार ग्रेजुएट एम्प्लॉयमेंट के लिए ऑस्ट्रेलिया की नंबर एक यूनिवर्सिटी के रूप में रैंक (गुड यूनिवर्सिटी गाइड 2020/21) चार्ल्स स्टर्ट यूनिवर्सिटी आईटी एजुकेशन (एजुकेशन, स्किल और एम्प्लॉयमेंट विभाग, हायर एजुकेशन स्टेटिस्टिक्स) का देश का सबसे बड़ा प्रदाता है। स्टडी ग्रुप, जो सीआरआईसीओएस प्रोवाइडर कोड 00005F के तहत यूनिवर्सिटी की ओर से स्टडी सेंटर संचालित करते हैं, के साथ साझेदारी में अपनी आईटी एजुकेशन की सफलता के सहारे और इस उद्योग में उभरते क्षेत्रों पर विचार करते हुए स्टडी सेंटरों ने अपनी आईटी पेशकश के विकास और विस्तार को जारी रखने के लिए दो नए कोर्सेस शुरू किए हैं।

लंबे समय से प्रतीक्षित मास्टर्स ऑफ प्रोजेक्ट मैनेजमेंट एंड लीडरशिप को मार्केट फीडबैक के आधार पर विकसित किया गया है। एक लीडरशिप कोर्स के लिए उच्च मांग है, जो इंजीनियरिंग, आईटी और अन्य तकनीकी उद्योगों के लिए प्रोजेक्ट मैनेजमेंट पर विचार करता है। दो साल के इस प्रोग्राम में छात्रों को 12 मैनेजमेंट और लीडरशिप विषयों का अध्ययन करने का मौका मिलेगा। प्रत्येक विषय को सावधानीपूर्वक क्यूरेट किया गया है ताकि उन्हें प्रोजेक्ट को सफलतापूर्वक डिजाइन करने और पूरा प्रोजेक्ट सॉल्युशन देने के साथ ही व्यक्तियों और टीमों को प्रबंधित करने के लिए तैयार किया जा सके। 

यह कोर्स लोगों के प्रबंधन, नेतृत्व और संचार में सॉफ्ट स्किल्स के साथ-साथ प्रोजेक्ट मैनेजमेंट में तकनीकी कौशल, जैसे कि वित्तीय प्रबंधन, गुणवत्ता नियंत्रण और सूचना प्रौद्योगिकी को साथ में जोड़ता है।

इस बीच डिप्लोमा ऑफ इंफर्मेशन टेक्नोलॉजी उन छात्रों के लिए बैचलर ऑफ इंफर्मेशन टेक्नोलॉजी के दूसरे वर्ष में प्रवेश का मौका देगा जो बैचलर प्रोग्राम के लिए शैक्षणिक और अंग्रेजी भाषा से जुड़े मापदंडों को पूरा नहीं करते हैं। डिप्लोमा कोर्स में छह प्रथम वर्ष के आईटी विषय शामिल हैं और एक नया विकसित लर्निंग और डेवलपमेंट विषय है, जिसका शीर्षक है लर्निंग फॉर सक्सेस। यह विषय बुनियादी अध्ययन कौशल का परिचय देता है और इसका उद्देश्य ऑस्ट्रेलिया में उच्च शिक्षा के स्तर पर अध्ययन की कठोरता के अनुसार अंतरराष्ट्रीय छात्रों को तैयार करने के लिए अंग्रेजी भाषा के इस्तेमाल को लेकर महत्वपूर्ण समझ और आत्मविश्वास विकसित करना है।

आईटी में डिप्लोमा पूरा करने पर छात्रों को आईटी के सिद्धांतों की व्यापक समझ होगी और आईटी में कैरियर के लिए आवश्यक विशेषज्ञ कौशल विकसित हो चुका होगा। वे बैचलर ऑफ आईटी को दूसरे वर्ष में जाने के लिए पात्र होंगे और उनके पास 6 विषयों का क्रेडिट होगा, जिससे उन्हें तीन साल में अपने साथियों के साथ स्नातक करने की योग्यता मिल जाएगी। मेलबर्न और सिडनी में चार्ल्स स्टर्ट यूनिवर्सिटी स्टडी सेंटरों में अध्ययन के लिए मास्टर ऑफ प्रोजेक्ट मैनेजमेंट एंड लीडरशिप दोनों के साथ-साथ सूचना प्रौद्योगिकी का डिप्लोमा भी उपलब्ध होगा।

स्टडी ग्रुप में वर्ल्ड वाइड सेल्स लीडर कैसांद्रा एशवर्थ ने दो नए कोर्सेस शुरू करने पर कहा, “चार्ल्स स्टर्ट यूनिवर्सिटी स्टडी सेंटर इंडस्ट्री की मांग को पूरा करती है और ऐसे कोर्सेस बनाने पर ध्यान केंद्रित करती है जो अंतरराष्ट्रीय छात्रों को कैरियर के कई अवसर प्रदान कर सकते हैं। 2021 में इन दो मांग वाले कोर्सेस को शुरू करने से भारतीय छात्र अपने स्किल को विकसित करने के लिए अवसर का लाभ उठा सकते हैं, और उच्च स्तर की आईटी नौकरी की भूमिका निभाने के लिए तैयार हो सकते हैं, जो 2022 तक उच्च मांग में रहेगी। 



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया