सिटीबैंक और एनसीपीए ने युवा संगीतकारों को छात्रवृत्ति के लिए मिलाए हाथ



शब्दवाणी समाचार, वीरवार 17 दिसंबर  2020, नई दिल्ली। नेशनल सेंटर फॉर द परफॉर्मिंग आर्ट्स (एनसीपीए) भारत में कला एवं संस्कृति के विकास को प्रोत्साहित करने के लिए लगातार कई प्रकार की पहल करता रहा है। एनसीपीए 2009 से ही सिटी के साथ हाथ मिलाकर ऐसे युवा प्रतिभासंपन्न छात्रों को छात्रवृत्ति देता आया है, जो हिंदुस्तानी संगीत (गायन एवं वाद्य) के क्षेत्र में उच्च प्रशिक्षण हासिल करना चाहते हैं। इस वर्ष गायन – खयाल / ध्रुपद और वाद्य - तबला /  पखावज के लिए सिटी-एनसीपीए छात्रवृत्तियां दी जा रही हैं। प्रवृष्टियां 18 से 35 वर्ष के आयु वर्ग की प्रवृष्टियां ही स्वीकार की जाएंगी और 15 जनवरी 2021 तक पहुंचे आवेदन ही मान्य होंगे। एनसीपीए में भारतीय संगीत की हेड – प्रोग्रामिंग डॉ. सुवर्णलता राव ने छात्रवृत्ति कार्यक्रम के बारे में कहा, “हमें उम्मीद है कि इस प्रयास से हम युवा पीढ़ी को उसकी संगीत साधना में सहायता मिलेगी। हम आशा करते हैं कि पूरे देश से बड़ी संख्या में प्रवृष्टियां आएंगी।

अर्हता मानक एवं सामान्य निर्देश: 

उम्मीदवार के बायोडाटा को ही इस छात्रवृत्ति के लिए उसका आवेदन माना जाएगा। अलग से कोई आवेदन पत्र नहीं भरना है।  

आयु सीमा:

खयाल / वाद्य यंत्र के लिए – आयु 18 से 30 वर्ष (1 मार्च 2021 को)

ध्रुपद के लिए – आयु 18 से 350 वर्ष (1 मार्च 2021 को)

अप्रैल 2021 से मार्च 2022 के बीच संगीत के क्षेत्र में कोई अन्य छात्रवृत्ति अथवा अनुदान पाने वाले उम्मीदवार आवेदन के योग्य नहीं हैं 

किसी कंपनी में पूर्णकालिक अथवा अंशकालिक पेशेवर के रूप में कार्यरत उम्मीदवार आवेदन नहीं कर सकते  

आकाशवाणी में ‘ए’ ग्रेड वाले संगीतकारों समेत पेशेवर संगीतकार आवेदन के योग्य नहीं हैं 

कूरियर से कागज पर भेजे गए आवेदन स्वीकार नहीं किए जाएंगे। ऊपर बताए गए ईमेल पते पर मिले आवेदनों पर ही विचार किया जाएगा

केवल भारतीय नागरिक आवेदन के पात्र हैं

15 जनवरी 2021 के बाद प्राप्त आवेदन स्वीकार नहीं किए जाएंगे 

एनसीपीए चयन समिति का निर्णय अंतिम होगा



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान