क्या यह सोने में निवेश करने का सही समय है?

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 28 जनवरी  2021, नई दिल्ली। भारतीयों द्वारा निवेश के साधन के रूप में सोने का भी तेजी से उपयोग किया जा रहा है। आखिरकार, यह मुद्रास्फीति और मुद्रा की घट-बढ़ के खिलाफ एक बचाव है। इसलिए, जब केंद्रीय बजट 2021 करीब आ रहा हो तो निवेश के दृष्टिकोण से सोने में निवेश करें या ना करें इस बारे में विश्लेषण कर रहें हैं एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी रिसर्च एवीपी श्री प्रथमेश माल्या। 

सोना ही क्यों?

शुरुआत करने के लिए, सोने में निवेश करने का कोई सही या गलत समय नहीं है। सोना सभी निवेशक पोर्टफोलियो का एक हिस्सा है। इसका उपयोग विविधीकरण और रीबैलेंसिंग के उद्देश्य को पूरा करने के लिए किया जाता है। और, यह एक आकर्षक वस्तु भी है। 2005 के बाद से, सोने ने 7-गुना से अधिक रिटर्न दिया है। दूसरी ओर, बीएसई सेंसेक्स जैसे बेंचमार्क इंडेक्स ने लगभग 5-गुना रिटर्न दिया है। 2020 में ही, सोने ने 25% का रिटर्न दिया। आर्थिक अनिश्चितता के दौर में सोना विशेष रूप से अपना महत्व रखता है। सामान्य तौर पर, एक निवेशक के लिए थंब रूल ही है कि सोने को 10% का वेटेज दिया जाए। हालांकि, आर्थिक अस्थिरता में निवेशक के विवेक के आधार पर यह वेटेज आमतौर पर 15% या उससे अधिक हो जाता है। जब सोने की बात आती है तो निवेशक बेहतर विकल्पों का भी आनंद लेते हैं क्योंकि वे इसे भौतिक और डिजिटल रूप से खरीद सकते हैं। सर्वोत्तम उपलब्ध डिजिटल विकल्पों में से एक भारत सरकार की सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड योजना है। इसमें लॉन्ग-टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स से निवेशकों को छूट देते हुए भंडारण और जोखिम की लागत को भी समाप्त कर दिया जाता है।

वर्तमान में, दुनिया भर में सामाजिक आर्थिक कारकों के कारण बाजार में अनिश्चितता अभी भी बरकरार है, विशेष रूप से यू.एस. और यूरोप में। कोविड-19 महामारी का पुनरुत्थान बाजार के डायनामिक्स को प्रभावित कर सकता है, जिससे सोना निवेशकों के लिए आकर्षक विकल्प बन सकता है। कुछ अनुमान बताते हैं कि सोना 2021 में भी दो अंकों का रिटर्न प्रदान कर सकता है। हालांकि, यदि आप अपने पोर्टफोलियो में सोना बढ़ाने की योजना बना रहे हैं, तो फिर से सोचें। 

पीली धातु के लिए निश्चित रूप से एक मूल्य चुकाना होता है। वह कीमत अभी 50 हजार रुपए प्रति दस ग्राम से ऊपर है। इस मामले में, निवेशक चांदी खरीदने पर भी विचार कर सकते हैं, जो वर्तमान में लगभग 66,000 रुपए प्रति किलो है। तथ्य यह है कि सोने ने पिछले साल लगभग 25% का रिटर्न दिया था, चांदी ने लगभग 50% का रिटर्न दिया है। इसलिए, निवेशकों के लिए चांदी भी अधिक फायदेमंद साबित हुई। एक बिंदु जिसे यहां पर ध्यान देने की आवश्यकता है वह यह है कि चांदी आपको निवेश के दृष्टिकोण से कई विकल्प नहीं देती है। आप इसे केवल शारीरिक रूप से खरीद सकते हैं। इसकी खरीद और भंडारण को ध्यान में रखना होगा।

अंत में, आपको निश्चित रूप से बहुमूल्य धातुओं के लिए अपना वज़न बढ़ाना चाहिए, खासकर इस समय चल रहे व्यापक आर्थिक कारकों को देखते हुए। यह आपके पोर्टफोलियो को एक अस्थिर बाजार से अलग करेगा। साथ ही आप उनमें निवेश करके बेहतर रिटर्न का आनंद ले सकते हैं। याद रखें, सोने का अपना लालच है, जिसमें भारतीयों को गर्व की भावना होती है। हालांकि, आप निवेश गर्व के लिए नहीं कर रहे हैं। आप रिटर्न के लिए निवेश कर रहे हैं। इसलिए, यदि संभव हो तो चांदी के साथ आगे बढ़ें। 

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन