9वें इंटरनेशनल फेस्टिवल ऑफ़ जर्नलिस्म में वर्ल्ड रेडियो डे मनाया

◆ वर्ल्ड रेडियो डे पर रेडियो रायपुर की शुरुआत 

◆ फेक न्यूज़ एक बिमारी की तरह 

शब्दवाणी समाचार, रविवार 14 फरवरी  2021, नई दिल्ली। रेडियो एक ऐसा माध्यम है जो अपनी बात को एक समय में करोड़ो लोगों तक पहुंचा देता है। कोरोना काल में रेडियो ने न सिर्फ गानों से मनोरंजन किया, बल्कि सामाजिक कार्य करने में भी वो पीछे नहीं हटे, चाहे वो मास्क लगाना हो, सेनिटाइज़ करना हो या गांव जाते हुए मज़दूरो को समझाना हो या फिर लोगों को खाना बाँटना हो, या सर्दी में गरीबों के लिए कपड़े जमा करके देना हो, रेडियो ने अपनी भूमिका निभाने में कोई कसर नहीं छोड़ी, मैं तारीफ करना चाहूंगा रेडियो जॉकी की जो अपनी बात को इस तरह प्रभावी ढंग से व्यक्त करते है की हर कोई सुनना चाहता है, आज मैं यह सब बातें इसीलिए कह रहा हूँ क्योंकि आज वर्ल्ड रेडियो डे है और 9वें इंटरनेशनल फेस्टिवल ऑफ़ जर्नलिस्म के दूसरे दिन हम रेडियो डे मना रहे है यह कहना था एएएफटी यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. संदीप मारवाह का, जिन्होंने आज रायपुर रेडियो की शुरुआत की। इस वेबिनार में सीनियर जर्नलिस्ट डॉ. सुनील पाराशर, जर्नलिस्ट सुनील डैंग, फिल्म क्रिटिक मीना अय्यर, एडिटर ओमकारेश्वर पांडे, जर्नलिस्ट राजेश बादल, जर्नलिस्ट अरविन्द के. सिंह और रेडियो ब्रॉडकास्टर अनूप बॉस ने फेक न्यूज़ पर परिचर्चा की। 

इस परिचर्चा में डॉ. सुनील पाराशर ने कहा कि आज हर इंसान पत्रकार होता जा रहा है क्योंकि उसके हाथ में मोबाइल नाम का प्राणी है जो हर चीज़ को कैप्चर कर लेता है, मोबाइल को प्राणी इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि उसमें चलने की क्षमता नहीं है बल्कि लोगो को चलाने की क्षमता बहुत है। ‘फर्जी खबरें नए खतरे के रूप में उभरी हैं, जिनका प्रसार करने वाले खुद को पत्रकार के तौर पर पेश करते हैं और इस महान पेशे को कलंकित करते हैं’’ या यूँ कहे कि कई पत्रकार तो सवाल भी स्वयं करते है और जवाबों के शब्द भी मुँह में ठूस देते है और यहाँ तक की खुद ही न्याय भी कर देते है जिसका असर यह होता है की जवाब देने वाला ही कुछ ऐसे शब्दों का इस्तेमाल कर लेता है जो देशहित में नहीं है लेकिन पत्रकार के लिए यह ब्रेकिंग न्यूज़ बन जाती है।

राजेश बादल ने कहा कि फर्जी खबरें नये खतरे के रूप में सामने आई हैं जो हमारे लोकतंत्र के साथ साथ विश्व स्तर पर भी हमे निम्न स्तर पर दिखाती है, जबकि आज पूरा विश्व हमे विश्व गुरु के रूप में देख रहा है। सुनील डैंग ने कहा की फेक न्यूज़ एक ऐसी बिमारी है या यूँ कहे की फैलता हुआ कैंसर है जिसमें उस पत्रकार की, पत्रकारिता की और उस प्रकाशन की मृत्यु होना अनिवार्य है। अरविन्द के. सिंह ने कहा कि असत्य न्यूज़ से लड़ने का हथियार सत्य न्यूज़ है, मोबाइल क्रांति फेक न्यूज़ को बढ़ावा ही देगी। दिन के अन्य वेबिनार में फिल्म डायरेक्टर राहुल रवैल, लेखक व कवि लक्ष्मी शंकर वाजपेयी, जर्नलिस्ट पूरन सिंह सरीन, अभिजीत ठाकर, आर. के. सिंह, दयानन्द वत्स, अतुल मोहन, मॉडल एंजेलिक मोनेट, विनोद अग्निहोत्री, सहर ज़मान, नाइजीरिया के प्रिंस लाए बेबोर, फ्रांस के फिल्म मेकर बेंसौदा मोहम्मद अहेद ने भाग लिया।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता