श्रमिक व उधमी सम्मेलन में लेबर कोड़ों का ट्रेड यूनियन नेताओं ने किया विरोध : गंगेश्वर दत्त शर्मा

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 19 फरवरी  2021, (रिपोर्ट रेहाना परवीन खान जोशी) गौतम बुध नगर। माननीय पंडित सुनील भराला अध्यक्ष श्रम कल्याण परिषद उत्तर प्रदेश की अध्यक्षता में 17 जनवरी 2021 को इंदिरा गांधी कला केंद्र सेक्टर 6 नोएडा पर श्रमिक व उद्यमी सम्मेलन हुआ जिसमें सीटू गौतम बुध नगर जिलाध्यक्ष गंगेश्वर दत्त शर्मा, एचएमएस नेता आरपी सिंह चौहान, यूटीयूसी नेता सुधीर त्यागी,यूटीएलएफ नेता राम नरेश यादव आदि ट्रेड यूनियन नेताओं/ श्रमिक प्रतिनिधियों ने मजदूर विरोधी लेबर कोड़ों लागू नहीं करने की मांग उठाई और कहा कि किसी भी तरह का बदलाव करने से पहले ट्रेड यूनियनों के साथ व्यापक विचार विमर्श कर सहमति बनाकर ही श्रम कानूनों में कोई संशोधन किया जाए साथ ही उन्होंने श्रम कानूनों को सख्ती से लागू कराए जाने, श्रमिकों की लंबित मांगों/ समस्याओं का समाधान करवाने, भवन निर्माण मजदूरों के लिए बने बोर्ड को यथा स्थिति में बनाए रखने और योजनाओं का लाभ श्रमिकों को दिलाए जाने की मांग मजदूर नेताओं ने उठाई मजदूर नेता गंगेश्वर दत्त शर्मा ने असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के लिए अलग से बोर्ड बनाकर और उसे बजट देकर सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने की मांग किया उन्होंने घरों में काम करने वाले घरेलू कामगारों, व गिग वर्कर्स के लिए नियम कानून बनाने की मांग भी उठाई।

अपने संबोधन में माननीय सुनील भराला जी ने श्रमिक प्रतिनिधियों द्वारा उठाई गई चिंताओं पर बोलते हुए कहा कि सरकार के स्तर पर इस पर चर्चा की जाएगी और श्रमिक व उद्यमियों के हितों को ध्यान में रखकर निर्णय लिए जाएंगे साथ ही उन्होंने श्रम कल्याण परिषद द्वारा संचालित योजनाओं को रेखांकित करते हुए लाभ लेने के लिए प्रेरित किया। सम्मेलन में राज्य श्रम मंत्री माननीय मनू लाल कोरी एवं उप श्रम आयुक्त श्री पीके सिंह, सहायक कारखाना निदेशक श्री रामबहादुर सहित विभिन्न अधिकारियों/ नेताओं ने संबोधित किया। सम्मेलन में सीटू नेता राम सागर, विनोद कुमार, पूनम देवी, राम स्वारथ सहित विभिन्न संगठनों के नेताओं/ श्रमिकों ने हिस्सा लिया।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान