विश्व कैंसर दिवस पर कैंसर पीड़ित बच्चों ने पीएम को पत्र लिखा

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 6 फरवरी  2021, नई दिल्ली। विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर, भारत भर में कैंसर से पीड़ित बच्चे और उनके माता-पिता, पीएम को पत्र लिख रहे हैं और भारत में बच्चों के कैंसर के लिए एक राष्ट्रीय योजना और नीति बनाने का आग्रह कर रहे हैं। भारत जैसे देश के लिए, जो दुनिया के 25% से अधिक बच्चों के कैंसर के लिए जाना जाता है, जहाँ 250 से अधिक सेंटर, कैंसर से पीड़ित बच्चों का इलाज करते हैं, मगर उस में से सिर्फ ३०% कैंसर पीड़ित बच्चे इन सेंटरों में इलाज़ कराने  के लिए जाते हैं; शीर्ष के 10 सेंटरों में भी 13-15% से अधिक कैंसर पीड़ित बच्चे नहीं जाते हैं और सर्वाइवल रेट इन अस्पतालों में 10 - 80% हैं।

इस तरह के आँकड़े भारत में इस गंभीर मामले को को अंकित करने और दर्शाने के लिए पर्याप्त हैं, पिछले 4 वर्षों से, किड्स कैन कनेक्ट (KidscanKonnect), युवा किशोर कैंसर सर्वाइवर के ग्रुप के बच्चों और उन के माँ-बाप ने  300,000 प्रतिज्ञाएँ एकत्र  की हैं। विश्व में हर साल ३ लाख बच्चे कैंसर से प्रभावित होते हैं। यह प्रत्येक बच्चे के लिए एक है, जो कहीं न कहीं बचपन से ही कैंसर से  पीड़ित हैं। सभी प्रतिज्ञाएँ ऑनलाइन या प्रतिज्ञा की पुस्तकों के माध्यम से कैंसर पीड़ित बच्चों के - माता-पिता , स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों- डॉक्टरों, नर्सों और श्रमिकों, अस्पताल के अधिकारियों,  राजनेताओं, मशहूर हस्तियों, दानदाताओं, गैर सरकारी संगठनों, स्कूलों, कॉलेजों, मीडिया और नागरिक संस्थाओं से ली गई हैं। - यह पूरे भारत और विदेशों से 300,000 लोग हैं जिन्होंने साइन अप किया है और चाहते हैं कि भारत में बच्चों के कैंसर के स्वास्थ्य की प्राथमिकता हो।

Cankids संगठन की अध्यक्ष सुश्री पूनम बगई, कैंसर सर्वाइवर ने कहा कि “WHO ग्लोबल इनिशिएटिव फॉर चाइल्डहुड कैंसर (GICC) ने हमारे जैसे निम्न मध्य-आय वाले देश में कैंसर से पीड़ित बच्चों के लिए जीवन रक्षा का 60% लक्ष्य रखा है और कैंसर से पीड़ित सभी बच्चों को कम करने के लिए 2030 तक का लक्ष्य संस्था ने रखा है । उच्च-आय वाले देशों में 80% बच्चे कैंसर से बचे रहेंगे, लेकिन निम्न और मध्यम-आय वाले देशों में, केवल 20% बच्चे ही जीवित रहेंगे। यह डेटा दर्शाता है कि हम कैंसर के खिलाफ लड़ाई में सम्मिलित युद्ध कर रहे हैं - और यह समय इस बीमारी को राष्ट्रीय हेल्थ प्लान और पालिसी में शामिल हो।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

रीढ़ (स्पाइन) संबंधी बीमारी महामारी की तरह फैल रही है : डा. सतनाम सिंह छाबड़ा