उत्तर प्रदेश सरकार ने पेपर फ्री बजट पेश किया

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 23 फरवरी  2021, नई दिल्ली। प्रदेशवासियों को पेपर फ्री बजट नहीं, योगी फ्री बजट चाहिए।  समाजवादी पार्टी नोएडा महानगर के उपाध्यक्ष विपिन अग्रवाल ने बताया कि सरकार को हवाई जहाज की फिक्र  है मगर गन्ना किसानों के बकाये के भुगतान के लिए कोई राशि नहीं , नोटबंदी ,विसंगतिपूर्ण जी०एस० टी० और अनियंत्रित लाक डाउन की मार झेल रहे व्यापारियों के लिये कोई पैकेज नही है, लाक डाउन के बिजली के बिल माफ़ी की कोई व्यवस्था नही की गयी। बीते वर्ष के मुकाबले इस बार के बजट में 7.5 फीसदी का इजाफा हुआ है , लेकिन सरकार की किसानों के प्रति संवेदनहीनता एक बार फिर सामने आई है।

प्रदेश सरकार ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने का लक्ष्य रखा है। ये वो वादा है जो बीते 5 सालों से लगातार किया जाता है , लेकिन उसके लिए कोई ठोस उपाय कभी नहीं किए जाते।  सरकार ने ये तो बताया दिया कि एक हजार करोड़ से ज्यादा का गन्ना किसानों का भुगतान किया लेकिन इस बार बकाया भुगतान के लिए इस बजट में कोई आवंटन नहीं किया। सरकार ने ये भी कहा है कि पशुओं की नस्ल सुधार के लिए पशु प्रजनन नीति के तहत रोग नियंत्रण के लिए पशु चिकित्सालयों का निर्माण होगा. लेकिन पशुपालकों की आय बढ़ाने और उनके लिए कोई नई परियोजना चलाने के बारे में कोई बात की ही नहीं गई। 

विपिन अग्रवाल ने कहां की  कोरोना काल मे जो नौकरियां गयी उन युवाओं के रोजगार के लिए कोई रोडमैप नहीं है। महिला सुरक्षा का नारा लगाने वाली भाजपा सरकार ने इस बार पुलिस महकमे के लिए कोई बड़ा आवंटन ही नहीं किया , इससे साफ है कि महिला सुरक्षा सिर्फ इनके भाषणों में है , नीयत में नहीं । सपा सरकार में शुरू हुआ 1090 अब बंदी की कगार पर है और प्रदेश में आए दिन महिलाओं, बेटियों के साथ जो घटनाएं हो रही हैं उसके प्रति सरकार जरा भी चिंतित नहीं। सपा सरकार में लाखों युवाओं को लैपटाप दिए गए जिससे उनका जीवन बदला, मगर इस सरकार ने उस योजना को न सिर्फ बंद किया बल्कि हर सार की तरह इस बार भी टेबलेट देने का वादा तो कर दिया , देंगे या नहीं ये देखने वाली बात होगी उद्योग के लिए सरकार ने कोई पहल नहीं कि यह निराशाजनक है। 

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान