'टोल नाका मुक्त' भारत के लिए लॉजिस्टिक टेक स्टार्टअप की भूमिका महत्वपूर्ण होगी

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 11 फरवरी  2021, मुंबई। 15 फरवरी के बाद से भारत के सभी टोल प्लाजाओं पर बने कैश लेन बंद कर दिए जाएंगे। साल 2016 में शुरू हुआ फास्टैग सेवा अब सभी चार पहिया वाहनों के लिए जरुरी हो गया है। परिवहन मंत्रालय अब जीपीएस आधारित टोल संग्रह सिस्टम पर काम कर रहा है इससे भारतीय टोल प्लाजाओं पर भुगतान के लिए मानवीय हस्तक्षेप की जरुरत नहीं पड़ेगी। इस प्रक्रिया के लिए अगले 2 साल का समय सुनिश्चित किया गया है। व्हील्सआई जैसी लॉजिस्टिक टेक स्टार्टअप कंपनियां सरकार के साथ काम करते हुए इस प्रक्रिया को 4 महीनों में पूरा करने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है। आंकड़ों के अनुसार, कुल टोल ट्रैफिक का लगभग 75% सिर्फ वाणिज्यिक वाहन हैं। वाणिज्यिक वाहनों के लिए अधिकृत एआईएस-140 जीपीएस उपकरणों के सबसे बड़े प्रदाताओं में से एक, व्हील्सआई टेक्नोलॉजी का मानना है कि जीपीएस-आधारित टोल संग्रह को लागू करने का समय काफी कम हो सकता है।

व्हील्सआई के प्रवक्ता सोनेश जैन ने कहा कि, 'जीपीएस आधारित टोल संग्रह सिस्टम लागू हो जाने से देशभर के ट्रक मालिकों को फ्यूल/डीजल खरीद पर काफी बचत होगा। हमारा टारगेट समस्या के जड़ तक जाना है यानि साफ़ साफ़ अगर कहें तो हमें टोल पर ट्रक या अन्य वाहनों की रुकावटें को कम करना है। कैश का उपयोग करने से टोल लेनदेन मुश्किल से 30 सेकंड से 1 मिनट तक होता है लेकिन असल समस्या तब होती है जब टोल की कतार में वाहनों की लंबी कतार लग जाती है। एक टोल बूथ पर ओवरऑल ठहराव 5 से 10 मिनट का होता है। औसतन, एक लंबी दूरी तय करने वाला ट्रक दिनभर में लगभग 10 टोल प्लाजा पार करता है। यदि टोल पर बिना रुकावट वाहनों की आवाजाही जमीनी स्तर पर लागू हो जाती है, तो प्रत्येक यात्रा में ट्रक चालकों को कम से कम एक घंटे की बचत होगी और साथ ही डीजल की बर्बादी से भी राहत मिलेगी। इस नई प्रणाली के साथ ट्रक मालिक समय और पैसे दोनों की जबरदस्त बचत कर पाएंगे।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

जिला हमीरपुर के मौदहा में प्रधानमंत्री आवास योजना में चली गांधी की आंधी