ऊबर ड्राइवरों के टीकाकरण में मदद के लिए कंपनी रु 18.5 करोड़ खर्च करेगी

◆ ऊबर ने 150,000 ड्राइवरों के पहले बैच के टीकाकरण के लिए नकद प्रोत्साहन राशि का ऐलान

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 1 मई  2021गुरूग्राम। ऊबर ने अगले छह महीनों के दौरान अपने प्लेटफॉर्म से जुड़े 150,000 ड्राइवरों के टीकाकरण के लिए रु 18.5 करोड़ (2.5 मिलियन अमेरिकी डॉलर) के योगदान की घोषणा की है। अपनी इस पहल के माध्यम से ऊबर कोविड-19 संक्रमण की दूसरी लहर के खिलाफ़ भारत की लड़ाई में योगदान देने के लिए प्रतिबद्ध है। कंपनी अपने प्लेटफॉर्म से जुड़े कार, ऑटो एवं मोटो चालकों को उस समय के लिए क्षतिपूर्ति देगी, जब वे टीका लगवाने जाएंगे। टीकाकरण का वैद्य प्रमाणपत्र दिखाने वाले हर ड्राइवर को टीके की दो में से प्रत्येक खुराक के लिए रु 400 की क्षतिपूर्ति दी जाएगी। 30 अप्रैल से पहले टीकाकरण का प्रमाणपत्र दिखाने वाले सभी ड्राइवर भी धनराशि क्लेम कर सकेंगे।

इस पहल के बारे में बात करते हुए पवन वैश, हैड ऑफ सप्लाई एण्ड ड्राइवर ऑपरेशन्स, ऊबर इंडिया साउथ एशिया ने कहा, ‘‘भारत में कोविड संकट से निपटने के लिए बड़े पैमाने पर टीकाकरण बेहद महत्वपूर्ण है और इसके लिए सुनिश्चित करना होगा कि ड्राइवर, राइडर एवं समुदाय के अधिक से अधिक लोग जल्द से जल्द टीकाकरण करवाएं। पिछले साल के दौरान ऊबर के ड्राइवरों ने बार-बार दिखा दिया है कि वे भारत में आवागमन को सुनिश्चित करने एवं लोगों को एक दूसरे के साथ जोड़े रखने में उल्लेखनीय भूमिका निभा रहे हैं, इसलिए हम उनके लिए टीकाकरण को सुलभ बनाकर यथासंभव उनकी मदद करना चाहते हैं। जल्द ही हम अपने सभी ड्राइवरों को इस पहल के बारे में जानकारी देंगे और उन्हें इस ऑफर का लाभ उठाने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।

टीकाकरण अभियान में योगदान, भारत में कोविड-19 प्रतिक्रिया के तहत ऊबर का नया एवं उल्लेखनीय प्रयास है। इसी साल मार्च में ऊबर ने लोगों को नज़दीकी टीकाकरण केन्द्र तक आने-जाने में मदद करने हेतु रु 10 करोड़ की मुफ्त राईड्स उपलब्ध कराने की शपथ ली थी। इस साल, ऊबर डॉक्सऐप के माध्यम से ड्राइवरों एवं उनके परिवारों के लिए 9000 निःशुल्क ऑनलाईन मेडिकल कन्सलटेन्शन सुलभ बना चुका है। महामारी के शुरूआती दिनों से ही, ऊबर उन ड्राइवरों को 14 दिनों की वित्तीय सहायता उपलब्ध करा रहा है, जिनमें कोविड-19 का निदान हुआ हो या जिन्हें सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा सेल्फ-आईसोलेशन की सलाह दी गई हो।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान