एड-टेक स्टार्ट अप ने आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस कोर्स वेयर किया लॉंच

◆ खेल-खेल में अपने बच्चों को दें बेहतरीन एजूकेशन, ताकि वो अनुभव करें और सीखें भी और  भविष्य  बने उज्जवल

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 15 मई  2021, नई दिल्ली। वर्तमान दौर में आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस बहुत तेजी से आगे बढ़ रही है। इसी दौर में शिक्षा के क्षेत्र के अग्रणी परामर्शी और प्रशिक्षण सेवा प्रदाता जुआना टेक्नोल़ॉजीस (JuanaTechnologies) ने एडुफ़िक़ (Edufiq) नाम का एक आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस कोर्सवेयर लाॉंच किया है। एडुफ़िक़ (Edufiq) भारत का सर्वोत्तम कोर्स वेयर है। जिसे कक्षा 5 वीं से 10 वीं तक के छात्रों के संज्ञानात्मक कौशल (Cognitive Skill) को सुधारने के लिए बनाया गया है। एडुफ़िक़ (Edufiq)एक गेम-आधारित और अनुभवात्मक प्लेटफॉर्म है, जो 8 18 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को अपनी ओर आकर्षित करता है। इस कोर्स वेयर से उतकृष्ट शैक्षिक पृष्ठभूमि वाले प्रशिक्षक जुड़े हुए हैं। जो बच्चों को कंप्यूटर साइंस और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के साथ-साथ भविष्य में आने वाली टेक्नोलॉजीस के  बारे में पढ़ाते और प्रशिक्षित करते हैं। 

एडुफ़िक़ (Edufiq)आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस के माध्यम से 5वीं, छठी और 7वीं क्लास के स्टूडेंट्स को गेम्स के माध्यम से एजुकेट करता है। इस मो आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस के कॉन्सेप्ट को 'माइनक्राफ्ट' (Minecraft)नाम के गेमिंग प्लेटफार्म पर सिखाया जाता है। जबकि 8वीं, 9वी और 10वीं क्लास के स्टूडेंट्स को 'माइक्रो प्रोसेसर' किट के माध्यम से आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस के एडवांस कॉन्सेप्ट एक्सपेरिमेंट के माध्यम से बाताय और सिखाया जाता है। माइक्रो प्रोसेसर किट, एडुफ़िक़ (Edufiq) ने डेवलप की है और इसी का ट्रेडमार्क भी है।

एडुफ़िक़ (Edufiq)ने अपने मुख्य पाठ्यक्रम में प्रेक्टिकल नॉलेज को इंट्रोड्यूस करके आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को फिर से परिभाषित (Redefine)किया है। एडुफ़िक़ (Edufiq) के  पाठ्यक्रमों को छात्रों में महत्वपूर्ण सोच को स्पष्ट करने के लिए सुव्यवस्थित किया जाता है। एडुफ़िक़ (Edufiq) जैसे उन्नत शोध के साथ आर्टिफिशियल इंटिलिजेंस बच्चे को सिखाई जात है। जो उसके भविष्य पर बहुत सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। एडुफ़िक़ (Edufiq)की को-फाउंडर स्वाति गांगुली कहती है कि, 'एडुफ़िक़ (Edufiq)के माध्यम से हर बच्चे को सफल होने के अवसर दिए जाने चाहिए...और व्यक्तिगत तौर पर हर बच्चे को सीखने वाली सिखाने वाली हर शैक्षिक पद्यति पहुंचनी चाहिए।

Comments

Popular posts from this blog

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया