दिल्ली गुरुद्वारा कमिटी दसवंध के दुरुप्रयोग के मामले में घिरी

◆ डीएसजीएमसी के राहत सामग्री को बाहर भेजने से उठे सवाल

◆ एम्बुलेंसों में राशन भेजा जा रहा

◆ पंजाब नंबर के वाहन चिन्हित हुए

◆ टीम सरना ने सबूत पेश किए

◆ शंटी ने जवाबदेही तय करने के लिए माँग की

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 29 मई  2021, नई दिल्ली। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबधंन कमिटी गुरु के दसवंध के दुरुपयोग के मामले पर घिर गयी है। मामला कमिटी के राहत सामग्री को ट्रक और इनोवा कारो में भरकर पंजाब भेजने को लेकर है। इसका खुलासा शिरोमणि अकाली दल दिल्ली (शिअदद) के महासचिव गुरमीत सिंह शंटी ने किया। शंटी ने डीएसजीएमसी से निकल रहे वाहनों के फ़ोटो और वीडियो मीडिया के सामने प्रस्तुत किए। गाड़ियों के नामांकन आंकड़े भी पेश किए और यह दावा किया की उपयुक्त राहत सामग्री को दिल्ली से बाहर भेजा जा रहा था। जानकारी हो की वर्तमान डीएसजीएमसी शिअद(बादल) के मनजिंदर सिरसा की अगुवायी में चलायी जा रही है। 

दसवंध बनाम प्राइवेट कमीशन

कमिटी को आड़े हाथों लेते हुए शंटी ने कई गंभीर सवाल उठाए । जिसमे दसवंध की परंपरा को प्राइवेटाइज्ड करने का मुद्दा भी है। इतिहास में पहली बार हो रहा है की सिख जगत की महान संस्था डीएसजीएमसी आज दशवंध के नाम पर प्राइवेट कंपनियों को नियुक्त करके काम चला रही है और उसके एवज में उनको 8% कमीशन तक दिया जा रहा है। यह हमारे गुरु साहिब के दसवंध की परम्परा को ही नष्ट करने की तैयारी है।

एम्बुलेंस या राशन ढोने का ट्रक ?

टीम सरना ने कुछ ऐसे फ़ोटो प्रसतुत किए जहाँ एम्बुलेंसों में राशन भरा है। वहीं एम्बुलेश की आड़ में चल रहे वाहनों में कोई मेडिकल सुविधा उपलब्ध नही है। सुबूतों के अनुसार यह एम्बुलेश-बस बिंद्रा ट्रांसपोर्ट के नाम पर रजिस्टर है। 

दिल्ली कमिटी के राहत सामग्री और पंजाब की गाड़ियां 

शिअदद प्रतिनिधि ने कई फोटो और वीडियो दिखाए जिसमे पंजाब नंबर के वाहन दिल्ली कमिटी से निकलते दिख रहे है। सरना दल ने सुबूतों के अनुसार दावा किया कि उपयुक्त वाहन दिल्ली से बाहर भेजे जा रहे है। जहाँ से इनका उपयोग राजनतिक कार्यो में हो रहा है। बादल के लोगो की बात चले तो यह गुरुद्वारों के एक-एक ईंट को निकाल कर अपने कार्यो में उपयोग कर ले। कमिटी के आक्सीजन कंसेंट्रेटर, दवाईयां और दूसरी जरूरी चीजें भी गाड़ियों में भरकर भेजे जा रहे है। 

पारदर्शिता और जवाबदेही तय करने की माँग

डीएसजीएमसी के पूर्व महासचिव ने वर्तमान कमिटी को अल्टीमेटम दिया की वो उनके दिए सबूतों को झूठा साबित करके दिखलाए। कमिटी चुनावो की घोषणा होने के बाद भी लोकलुभावने वादों के जरिए संगत को बरगला रही है। प्रेस वार्ता में पार्टी उपाध्यक्ष सुखबीर सिंह कालरा, डीएसजीएमसी सदस्य करतार सिंह चावला (विकी), सीनियर सदस्य मंजीत सिंह सरना, यूथ विंग के सीनियर उपाध्यक्ष जसमीत सिंह पीतमपुरा,भुपिंदर सिंह पीआरओ मौजूद थे।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन