सोना स्थिर जबकि चीन से कमजोर मांग की संभावना के बीच बेस मेटल्स में गिरावट

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 10 जून  2021, नई दिल्ली। तेल प्रॉमिसिंग आउटलुक के सहारे चढ़ रहा है, जबकि सोना डॉलर की मजबूती के चलते दबाव में रहा। 

सोना

मंगलवार को स्पॉट गोल्ड लगभग 0.3 प्रतिशत बढ़कर 1893 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ, क्योंकि इस हफ्ते में बाद में आने वाले प्रमुख अमेरिकी मुद्रास्फीति को देखते हुए डॉलर ने मजबूती दिखाई।

दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति के संकेतों के लिए अमेरिकी उपभोक्ता मूल्य के आंकड़ों (गुरुवार को प्रकाशित होने वाले) पर बाजार की गहरी नजर है। अमेरिकी अर्थव्यवस्था में लगातार सुधार के बाद बढ़ती मुद्रास्फीति की चिंताओं ने अमेरिकी फेडरल रिजर्व की ओर से मौद्रिक नीति सख्त करने की संभावनाएं बढ़ा दीं जिससे डॉलर को समर्थन मिला।

अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों को शून्य के स्तर पर बनाए रखा है ताकि अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने में मदद मिल सके। हालांकि, ब्याज दरों में बढ़ोतरी से नॉन-यील्ड सोने को रखने की लागत में वृद्धि होगी जिसने कीमतों पर और दबाव डाला। संभावित मुद्रास्फीति के खतरों के बीच वैश्विक केंद्रीय बैंकों के उदार रुख ने हाल के महीनों में सोने को ऊंचा रखा है।

कच्चा तेल

कल के कारोबारी सत्र में डब्ल्यूटीआई क्रूड 1.2 फीसदी की तेजी के साथ 70 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ था। प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के फिर से खुलने और वैश्विक बाजारों में ईरानी तेल की अप्रत्याशित वापसी के बाद तेल की मांग में रिवाइवल पर दांव ने कच्चे तेल की कीमतों को समर्थन दिया। ईरान के परमाणु डील के रिवाइवल पर तेहरान और दुनिया की अन्य ताकतों के बीच चल रही बातचीत पर बाजारों की पैनी नजर होगी। हालांकि, अमेरिकी विदेश मंत्री ने तेहरान के खिलाफ प्रतिबंध हटाने की संभावना कम होने के संकेत दिए, जिससे तेल की कीमतों को और समर्थन मिला। क्रूड के लिए लाभ सीमित रहा क्योंकि अमेरिकी मुद्रा सप्ताह में बाद में निर्धारित प्रमुख अमेरिकी आर्थिक आंकड़ों के आने से पहले मजबूत हुई, जिसने डॉलर मूल्यवर्ग के कच्चे तेल पर और दबाव डाला। चीन के कच्चे तेल के आयात में मई'21 (वर्ष-दर-वर्ष) में 14.6 प्रतिशत की गिरावट आई है क्योंकि कठोर पर्यावरणीय मानदंडों के बीच चीनी रिफाइनरियों में मेंटेनेंस की वजह से तेल की खपत को सीमित रखा है। प्रमुख तेल खपत वाले चीन की कम मांग ने बाजार की धारणा को कमजोर कर दिया और कीमतों को कम कर दिया।

बेस मेटल्स

मजबूत अमेरिकी डॉलर के बावजूद मंगलवार को एलएमई पर औद्योगिक धातुओं का ऊंचाई के साथ कारोबार हुआ क्योंकि वैश्विक मांग में सुधार के दांव ने कीमतों को ऊंचा रखा। शीर्ष उपभोक्ता चीन से कमजोर मांग की संभावनाओं के बाद औद्योगिक धातु स्पेक्ट्रम में आंख को पकड़ने वाली रैली ने विराम लगा दिया है। औद्योगिक धातु की कीमतें पहले के महीनों में बढ़ीं क्योंकि ग्रीन रिवॉल्युशन पर आशावाद और कम कार्बन वातावरण की ओर बढ़ने से आने वाले समय में मांग में वृद्धि हुई। हालांकि, चीन में सख्त ऊर्जा खपत मानदंड और कमोडिटी की बढ़ती कीमतों ने चीन के औद्योगिक क्षेत्र में बाधा डाली। पीबीओसी द्वारा मौद्रिक नीति को और सख्त किए जाने की चिंताओं के बीच आयातित धातु पर प्रीमियम गिरने, उम्मीद से कम पीएमआई आंकड़े और व्यापार आंकड़ों ने रैली पर रोक लगा दी है। प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के फिर से खुलने पर बाजार खुश हुए; शीर्ष धातु खपत वाले देश चीन से कम मांग आने वाले दिनों में बेस मेटल स्पेक्ट्रम के लिए काफी प्रतिकूल रह सकती है।

तांबा

एलएमई कॉपर की कीमतें 0.6 प्रतिशत से अधिक बढ़कर 9964 डॉलर प्रति टन हो गईं, क्योंकि शीर्ष कॉपर उत्पादक देशों चिली और पेरू से बढ़ती आपूर्ति चिंताओं ने चीन से कमजोर मांग पर चिंताओं को छुपा और लाल धातु की कीमतों का समर्थन किया। श्री प्रथमेश माल्या एवीयापी- रिसर्च, नॉन-एग्री कमोडिटीज और करेंसी, एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन