शेखर मेहता ने 2021-22 के लिए रोटरी इंटरनेशनल प्रेसिडेंट का पदभार सम्हाला

◆ शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 2 जुलाई 2021, नई दिल्ली। 116 साल पुराने सेवा संगठन का नेतृत्व करने वाले शेखर मेहता चौथे भारतीय बने

रियल ईस्टेट कंपनी, स्काईलाईन समूह के चेयरमैन व फाउंडर एवं रोटरी क्लब ऑफ कलकत्ता-महानगर के सदस्य, शेखर मेहता ने आज रोटरी इंटरनेशनल के 111वें प्रेसिडेंट के रूप में अपना एक वर्षीय कार्यकाल शुरू किया। वो दुनिया में 1.2 मिलियन रोटरी सदस्यों का नेतृत्व करेंगे। प्रेसिडेंट मेहता शिक्षा व संसाधानों की उपलब्धता प्रदान करके दुनिया में लड़कियों को सशक्त बनाने पर ध्यान केंद्रित करेंगे, ताकि उन्हें भविष्य में नेतृत्व के अवसर मिल सकें। श्री मेहता ने कहा, ‘‘समानता मूलभूत मानवाधिकार है। एक शांतिपूर्ण, समृद्ध व स्थिर दुनिया के लिए यह आवश्यक है। उन्होंने कहा, ‘दुनिया में लड़कियां व महिलाएं अभी भी स्वास्थ्य व शिक्षा सहित अनेक क्षेत्रों में असमानता का सामना करती हैं तथा हिंसा व अत्यधिक गरीबी का शिकार होती हैं। रोटरी ऐसी परियोजनाओं को प्राथमिकता देने के लिए क्लब्स व जिलों को प्रोत्साहित करता है, जिनसे दुनिया व समाज में लड़कियों के स्वास्थ्य, सेहत, शिक्षा व आर्थिक सुरक्षा में सुधार हो।

पिछले साल, मेहता भारत में कोविड-19 के खिलाफ रोटरी की प्रतिक्रिया को मजबूत करने में सक्रिय भूमिका निभाते रहे। उनके मार्गदर्शन में भारत में रोटरी क्लब्स ने स्थानीय सरकारों व अधिकारियों के साथ मिलकर वैक्सीनेशन की शुरुआत व आपूर्ति को मजबूत किया तथा अस्पतालों एवं कोविड-19 केयर सुविधाओं को ढांचागत सहयोग प्रदान किया। कोविड-19 महामारी से सर्वाधिक प्रभावित हुए समुदायों के बीच राहत कार्य बढ़ाने में रोटरी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। मेहता इससे पूर्व वंचित समुदायों को स्वच्छ जल व सैनिटेशन, हैल्थकेयर एवं बेसिक एजुकेशन प्रदान करने के भारतव्यापी अभियानों का नेतृत्व कर चुके हैं। उन्होंने भारत सरकार के सहयोग से आपदा से उबरने में समुदायों का सहयोग करने के अभियानों का नेतृत्व भी किया है।

मेहता के ‘सेविंग लिटिल हार्ट्स’ अभियान ने अभी तक दक्षिण एशिया में वंचित परिवारों के कॉन्जेनिटल हार्ट डिफेक्ट से पीड़ित बच्चों की 2500 जीवन-रक्षक हार्ट सर्जरी में मदद की है। वो टीच प्रोग्राम में सक्रिय सहयोग दे रहे हैं, जिसका उद्देश्य भारत को 2027 तक 100 प्रतिशत साक्षरता प्राप्त करने में मदद करना है। इससे पहले वो 2004 में हिंद महासागर में आई सूनामी के बाद बहाली के प्रयासों में मुख्य भूमिका निभा चुके हैं। उन्होंने कहा, ‘‘पिछले 100 सालों में रोटरी भारत में एक क्लब से शुरु होकर 4,000 क्लब्स तक पहुंच चुका है और इसके 1.75 लाख रोटरी सदस्य हैं। दुनिया में रोटरी के 36,000 क्लब एवं 1.2 मिलियन सदस्य हैं। 2019-20 में भारत में रोटरी फाउंडेशन ने 28.4 मिलियन अमेरिकी डॉलर की परियोजनाओं में अपनी मदद दी। भविष्य में रोटरी संयुक्त राष्ट्र के सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स प्राप्त करने में रोटरी के केंद्रण के क्षेत्रों में केंद्र सरकार को सक्रिय सहयोग देगा।

प्रेसिडेंट के रूप में मेहता दुनिया से पोलियो का उन्मूलन करने की रोटरी की सर्वोच्च प्राथमिकता पर ध्यान केंद्रित करेंगे। वैश्विक पोलियो उन्मूलन अभियान में अपने साझेदारों के साथ रोटरी ने 30 साल पहले इस अभियान की शुरुआत करने के बाद पोलियो के मामलों में 99.9 प्रतिशत की कमी दर्ज की है। उसके बाद, रोटरी के सदस्य 122 देशों में 3 बिलियन से ज्यादा बच्चों को इस बीमारी से बचाने के लिए 2.1 बिलियन डॉलर एवं कार्यकर्ताओं का असीमित घंटों का योगदान दे चुके हैं। आज पोलियो वायरस के मामले केवल दो देशों - अफगानिस्तान और पाकिस्तान में देखने को मिलते हैं। 1995 से, रोटरी हर साल राष्ट्रीय टीकाकरण के लिए भारत सरकार के साथ काम कर रहा है, ताकि पाँच साल से कम उम्र के 172 मिलियन बच्चों को टीका लगाया जा सके। भारत पिछले सात सालों से पोलियो-मुक्त देश है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता