जीवास 2021 भारत के जनजातीय शिल्प को बढ़ावा देगा

 

◆ फॉक्सटेल हेरिटेज फैशन एसोसिएशन ने अतुल्य भारत के सहयोग से अरुणाचल प्रदेश पर्यटन द्वारा संचालित और मातृकृति के साथ जीवास 2021 के शुभारंभ की घोषणा प्रेस क्लब ऑफ इंडिया नई दिल्ली में किया

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 7 जुलाई 2021(रेहाना परवीन खान) नई दिल्ली। जीवास 2021 का उद्देश्य अरुणाचल प्रदेश पर्यटन को बढ़ावा देना और अरुणाचल प्रदेश के आदिवासी लोगों और उनके टेक्सटाइल और हथकरघा उद्योग का उत्थान करना तथा ग्रामीण और आदिवासी कलाकारों, कारीगरों को सशक्त बनाना है, जीवास 2021 भारत की समृद्ध विरासत का जश्न मना रहा है जो अरुणाचल प्रदेश- जिससे सुदूर पूर्व में उगते सूरज की भूमि कहते है, वहाँ से शुरू होकर भारत के अन्य हिस्सों की ओर बढ़ेगा।प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद डिजाइनर हरीश के द्वारा झारखंड की आदिवासी कला का प्रदर्शन किया गया, जिन्होंने आदिवासी समुदाय द्वारा बनाए गए झारखंड के टसर सिल्क का प्रदर्शन किया।प्रेस कांफ्रेंस में जीवास टीम के सदस्यशा मिलथे, जिसमें ऋतुपांडे- ओनर & प्रोप्रिएटर मातृकृति, संजय शौकीन, रविरंजन, नितिन चौधरी, राहुल खन्ना, बिक्रम कुमार सेन और सुदेबचटर्जी कुछ नाम हैं।

जीवास 2021 का पहला संस्करण फैशन और ग्लैमर के माध्यम से राज्य की जातीय सुंदरता का प्रदर्शन करके अरुणाचल प्रदेश को बढ़ावा देना है। इस वर्ष यह आयोजन मुख्य रूप से अरुणाचल प्रदेश पर्यटन पर केंद्रित है, अरुणाचल प्रदेश के आदिवासी लोगों तथा उनके कपड़ा और हथकरघा उद्योग के उत्थान और उन्हें रोजगार के अवसर प्रदान करना है।आगे बढ़ते हुए हम जश्न मनाएंगे और भारत के अन्य हिस्सों की संस्कृति और वस्त्र पर ध्यान केंद्रित करेंगे। जीवास 2021 राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय डिजाइनरों के साथ जुड़ा हुआ है- जैसे आशि कुर रहमान बांग्लादे शडिजाइनर, विपिन अग्रवाल, मुकेश दुबे खादी में विशेषज्ञत, तान्या यामी (अरुणाचलप्रदेश), हरीश के वशिष्ठ प्रसिद्ध मेन्स वियर डिजाइनर, हरीश के वशिष्ठ प्रसिद्ध पुरुषों के परिधान डिजाइनर, और जे नुडोयोम अरुणाचल प्रदेश, रूपाजी बैंगलोर और कई अन्य।

जीवास 2021 कैंसर रोगियों के मनोबल को बढ़ाने के लिए एक फण्ड रेसिंग वाला फैशन कार्यक्रम है, जिसका उदेश उनका भावनात्मक और आर्थिक रूप से समर्थन करना है। यह एक ओर, स्थानीय डिजाइनरों औरमॉडलोंकीअपारप्रतिभाकोप्रदर्शितकरेगा, और दूसरी ओर, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपने पारंपरिक डिजाइनों, वस्त्रों, गहनों, संस्कृतियों, व्यंजनों और रचनात्मकता के माध्यम से राज्य की भव्यता पर प्रकाश डालेगा। अब समय आग या है कि दुनिया अरुणाचल प्रदेश, छिपे हुए स्वर्ग के बारे में जाने। 

श्री रिन चिनसांगे जॉन के अध्यक्ष फॉक्सटेल ने कहा कि फॉक्सटेल महिलाओं के कौशल विकास कार्यक्रम का समर्थन कर रहा है, कई बच्चों को शिक्षित कर रहा है और दिल्ली में जरूरतमंद लोगों के कल्याण के लिए दान दे रहा है। जीवास 21 फैशन शो फॉक्सटेल का एक और अभिनव कदम है, जोन केवल अरुणाचल प्रदेश के पारंपरिक कपड़ों को एक ट्रेंडी अवतार में दिखाता है, बल्कि कैंसर के बारे में जागरूकता बढ़ाने और उत्तर पूर्व में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए भी है। कार्यक्रम में शामिल कुछ मॉडल और डिजाइनर स्वयं कैंसर से बचे हैं।उल्लेखनीय फैशन स्टेटमेंट से अधिक, उत्तर जीवियों का दृढ़ संकल्प और सकारात्मकता एक ल्लेखनीय सामाजिक बयान के साथ सुर्खियों में रहेगी।

मिसतानियायामी जीवास और फॉक्सटेल के सीईओ और शो निदेशक और जीवास के श्री राजदीप रॉय शो के निदेशक कहते हैं जीवास 2021 कैंसर रोगियों के मनोबल को बढ़ाने और उन्हें भावनात्मक और आर्थिक रूप से समर्थन देने के लिए एक फण्ड रेसिंग फैशन कार्यक्रम है।यह एक प्रभावशाली सामाजिक संदेश के साथ एक आकर्षक फैशन शो है,जिसका संदेश फैशन, करुणा, मनोरम व्यंजन औरर मणीय स्थलों के साथ हैं। जीवास 2021 उच्च फैशन के साथ-साथ कैंसर से बचे लोगों की आत्मा और आशा का जश्न मनाता है। एक दर्जन डिजाइनरों के उच्य फैशन कृतियों के साथ, मॉडलों और सांस्कृतिक कार्यक्रमों द्वारा मनमोहक प्रस्तुतियां, जीवास 2021 की सुंदर प्रस्तुतियों के साथ, यह कार्यक्रम अरुणाचल प्रदेश के प्राकृतिक सौंदर्य और सांस्कृतिक विविधता के उपहारों को भी प्रदर्शित करेगा। राज्य की विशिष्टता को इसकी सह-मौजूदा संस्कृतियों, सराहनीय व्यंजनों, प्राचीन स्थानों और जबरदस्त प्रतिभा के संदर्भ में पूरी तरह से स्वीकार और सराहा जाना चाहिए।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान