एंजेल ब्रोकिंग मना रहा है अपना सिल्वर जुबली

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 25 अगस्त 2021मुंबई। फिनटेक प्लेटफॉर्म एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड (एंजेल ब्रोकिंग या 'कंपनी') इस महीने सफलता के 25 साल पूरे होने का जश्न खुद की रीब्रांडिंग के साथ मना रहा है और अब यह वन-स्टॉप फाइनेंशियल सर्विसेस ब्रांड एंजेल वन हो गया है। एंजेल के लिए यह ढाई दशक का सफर बहुत शानदार रहा है, जिसमें उसने आईपीओ लाने, स्टॉकब्रोकिंग इंडस्ट्री के डिजिटाइजेशन को आकार देने के साथ ही एक पारंपरिक ब्रोकर के फिनटेक डेवलपमेंट के तौर पर विकसित होने की उपलब्धियां हासिल की हैं। अपने बिल्कुल नए अवतार में, कंपनी एडवांस टेक्नोलॉजी के साथ प्लेटफॉर्म बनाने और विकास के कई और सफल वर्षों को जोड़ने के लिए प्रतिबद्ध है।

पहली बार निवेशकों, खास तौर पर मिलेनियल्स, को ध्यान में रखते हुए इनोवेशन को आगे बढ़ाने वाली कंपनी ने प्रत्येक भारतीय के लिए टेक्नोलॉजी-बेस्ड सेवाओं और फाइनेंशियल सर्विसेस को टियर-2, टियर-3 और अन्य छोटे शहरों तक लोकतांत्रिक रूप से बढ़ाया। आईट्रेड (iTrade) प्राइम के तहत कम खर्चीली ब्रोकरेज सेवाओं के साथ एंजेल ब्रोकिंग ने उन लाखों लोगों के लिए वेल्थ क्रिएशन के दरवाजे खोले हैं, जो कैपिटल मार्केट से बहुत दूर थे। कंपनी ने स्मार्ट स्टोर, स्मार्ट मनी, म्यूचुअल फंड के लिए यूपीआई ऑटोपे और चैटबॉट जैसे कई अत्याधुनिक सॉल्युशन लॉन्च कर निवेश परिदृश्य को बदल दिया है। इसके ओपन-आर्किटेक्चर-बेस्ड प्लेटफॉर्म स्मार्टएपीआई ने भी ब्रांड को ग्राहकों को सबसे अधिक यूजर-फ्रेंडली सॉल्युशन उपलब्ध कराने की अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करने में सक्षम बनाया है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) और मशीन लर्निंग (एमएल) जैसी एडवांस टेक्नोलॉजी का लाभ उठाते हुए यह फिनटेक प्लेटफॉर्म अपने मोबाइल ट्रेडिंग ऐप के साथ बिना किसी परेशानी के ट्रेड्स करने, प्रासंगिक मार्केट इनसाइट्स, एडवायजरी सर्विसेस और विदेशी शेयरों में निवेश के मौके प्रदान करता है।

एक समृद्ध विरासत वाला ब्रांड

1996 में पारंपरिक स्टॉकब्रोकिंग कंपनी के रूप में स्थापित एंजेल ब्रोकिंग ने पिछले कुछ वर्षों में एक बेहतरीन ग्रोथ ट्रैजेक्टरी का चार्ट बनाया है। इसने बड़े स्तर पर डिजिटल परिवर्तन किया और फाइनेंशियल सर्विसेस क्षेत्र में अपने योगदान के लिए कई पुरस्कार और सम्मान हासिल किए हैं। टेक्नोलॉजी को अपने डीएनए में शामिल कर एंजेल ब्रोकिंग अपने ग्राहकों को तत्काल कंफर्मेशन प्रदान करने के लिए ट्रेडिंग फ्लोर पर वॉकी-टॉकी का उपयोग करने जैसी कई इंडस्ट्री-फर्स्ट कंसेप्ट पेश कर चुका है। इसने ही 2001 में भारत में वेब आधारित बैक ऑफिस की शुरुआत की। 2004 में इंटरनेट ट्रेडिंग और कमोडिटी ब्रोकिंग सर्विसेस शुरू की। साथ ही 2006 में इसने पोर्टफोलियो मैनेजमेंट सर्विसेस शुरू की।

2011 में स्टॉक ट्रेडिंग के लिए मोबाइल एप्लिकेशन जैसे बेहतरीन इनोवेशंस देकर एंजेल ब्रोकिंग ने खुद को इंडस्ट्री में सबसे आगे स्थापित किया। इसके अलावा, इसने ही अपने ग्राहकों के ऑनलाइन ट्रेडिंग अनुभव को बेहतर बनाने के लिए रूल-बेस्ड इन्वेस्टमेंट इंजन एआरक्यू को लॉन्च किया, जिसे अब एआरक्यू प्राइम नाम से जाना जाता है। एक नए जमाने का फिनटेक प्लेटफॉर्म बनकर एंजेल ब्रोकिंग ने 2015 में देशभर में प्रत्यक्ष शाखाओं के माध्यम से उपस्थित होने से लेकर 2019 तक प्रत्यक्ष ग्राहकों को 100% डिजिटल ऑनबोर्डिंग तक की यात्रा सफलता के साथ पूरी की है।

व्यापार और निवेश में मिलेनियल्स की बढ़ती भागीदारी इंडस्ट्री में कंपनी की तेज वृद्धि को दर्शाती है। एंजेल ब्रोकिंग अब भारत में सभी 98% या 18,874 पिन कोड्स पर 5.7 मिलियन से अधिक ग्राहकों को सेवा प्रदान कर रहा है। जुलाई 2021 में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए डिजिटल ब्रोकर ने अपने कुल क्लाइंट बेस में 145.6% की सालाना वृद्धि, 373% की सालाना वृद्धि डेली एवरेज टर्नओवर में, ट्रेड्स की संख्या में 63% सालाना वृद्धि हासिल की और औसत क्लाइंट फंडिंग बुक में 15.55 बिलियन रुपए तक कारोबार को लेकर गया।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा