आजकल क्यों बढ़ रही है, पुरुष निःसंतानता ?

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 21 अगस्त 2021, नई दिल्ली। विभिन्न कारणों से दुनिया भर में बांझपन की दर काफी बढ़ रही है। महिला बांझपन की तुलना में पुरुष बांझपन के कारणों का पता लगाना अपेक्षाकृत कठिन है। पुरुष बांझपन कई कारकों के कारण हो सकता है, जिसमें स्वास्थ्य समस्याएं, अस्वास्थ्यकर खाने की आदतें, व्यायाम की कमी और बच्चे पैदा करने का तनाव शामिल हैं। अंडकोष पुरुष प्रजनन अंगों में सबसे महत्वपूर्ण हैं। यहीं पर शुक्राणु बनते हैं। बीजाणुओं की संख्या में कमी से, उनका आकार और गतिशीलता पुरुष बांझपन में महत्वपूर्ण हैं। पुरुष बांझपन के उपचार में पहला कदम वीर्य परीक्षण के माध्यम से शुक्राणुओं की संख्या का पता लगाना है। परीक्षण किए गए एक मिलीलीटर वीर्य में लगभग 20 मिलियन शुक्राणु होने चाहिए। नहीं तो गिनती कम मानी जाएगी।

पुरुष शुक्राणु की आकृति ठीक न होने की वजह क्यों होती है पुरुष निःसंतानता ?

कुल शुक्राणु का आधा हिस्सा सीधा आगे की ओर होना चाहिए और इसका कम से कम आधा भाग तेज गति वाला होना चाहिए। इसके अलावा, सही आकार कम से कम 30 प्रतिशत होना चाहिए। एक महीने के अंतराल पर किए गए 2 परीक्षणों के परिणामों को भी देखना सुनिश्चित करें। आसन्न स्खलन (imminent ejaculation) , बुखार, तनाव और थकान सभी शुक्राणुओं की संख्या और गुणवत्ता को प्रभावित कर सकते हैं।

पुरुष निःसंतानता के कारण - 

वैरिकाज़ -   पुरुष बांझपन के कारण वैरिकाज़ नसें एक ऐसी स्थिति है।  जिसमें अंडकोष में नसें सिकुड़ जाती हैं और अंडकोष की नसों में अशुद्ध रक्त का निर्माण होता है। बांझपन की समस्या वाले 15% से अधिक पुरुषों में वैरिकाज़ नसें पाई जाती हैं। वैरिकाज़ नसों वाले कुछ लोगों में, अंडकोष के ऊपर नसों के उलझने के कारण रक्त के प्रवाह में वृद्धि और शुक्राणु उत्पादन में कमी के कारण बांझपन होता है।

एज़ोस्पर्मिया - शुक्राणु की कमी (एज़ोस्पर्मिया) एज़ोस्पर्मिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें शुक्राणु में शुक्राणु नहीं होते हैं। सीलिएक रोग शुक्राणु की कमी और शुक्राणु उत्पादन से जुड़े कारकों में एक दोष की विशेषता वाली स्थिति है। नपुंसकता पुरुष बांझपन का एक प्रमुख कारण है।

तनाव  - तनाव शुक्राणुओं की संख्या और गतिशीलता को कम करने का एक महत्वपूर्ण कारक है। यौन ठहराव और इरेक्टाइल डिसफंक्शन जैसी समस्याएं भी तनाव को बढ़ा सकती हैं। एक ऐसी जीवन शैली अपनाना जिसमें नियमित कसरत, व्यायाम और योग गीत सुनना शामिल है, तनाव को कम करने में मदद कर सकता है।

धूम्रपान -  धूम्रपान करने से शुक्राणुओं की संख्या और धूम्रपान करने वालों में गतिशीलता कम हो जाती है।  साथ ही विकृत शुक्राणु की समस्या होती है। जिससे बांझपन होता है। अप्रत्यक्ष धूम्रपान से भी बचना चाहिए। शराबियों में शुक्राणु उत्पादन और शुक्राणुओं की संख्या में कमी के कारण बांझपन होता है। इसके अलावा, शराब शुक्राणु की गतिशीलता को कम करती है।

सर्जरी  - पुरुष जननांग क्षेत्र पर की जाने वाली सर्जरी शुक्राणुओं की संख्या को प्रभावित करती है।

संक्रमण -  संक्रमण से बांझपन हो सकता है। प्रोस्टेट, मूत्रमार्ग, अंडकोष और मूत्रमार्ग के संक्रमण, विशेष रूप से, और वास डिफेरेंस की रुकावट से पुरुष बांझपन हो सकता है।  पुरुष निःसंतानता का आयुर्वेदिक उपचार - पुरुष बांझपन के कारण के आधार पर एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में उपचार अलग-अलग होगा। आयुर्वेदिक चिकित्सा के अंतर्गत आसवन, उल्टी, दस्त, जलसेक और शामक जैसे उपचार भी दिए जाते हैं। आयुर्वेदिक दवाएं शुक्राणु उत्पादन और शुक्राणु की गुणवत्ता में सुधार करती हैं। पुरुष बांझपन को रोकने के लिए डेयरी आलू, शतावरी, गन्ना, टिड्डे, मेवे, केले, ब्लैकबेरी, खजूर, अंगूर, गेहूं और दूध विभिन्न चरणों में दिए जाते हैं। और जितना हो सके तनाव से बचना चाहिए। आशा आयुर्वेदा में हुए इस शोध आधारित जानकारी निःसंतानता विशेषज्ञ तथा आशा आयुर्वेदा की संचालक डॉ चंचल शर्मा से एक खास गोष्ठी के दौरान बताया।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच