एसवीपी ग्लोबल की सहायक कंपनी ने ओमान के टेक्सटाईल प्लांट में शुरू किया कमर्शियल संचालन

• 150 मिलियन अमेरिकी डॉलर का निवेश किया

• एक अनुमान के मुताबिक ओमान प्लांट का सीओडी सितम्बर 2021 से एसवीपी के कुल राजस्व में योगदान देगा

• ओमान सुविधा के विस्तार से सामरिक, संचालनात्मक एवं लॉजिस्टिक्स संबंधी फायदे होंगे जैसे यूएसए, तुर्की एवं अन्य देशों के साथ एफटीए, पूंजी एवं पावर की कम लागत, 25 साल की कॉर्पोरेट कर छुट्टी आदि

• एसवीपी ग्लोबल शीर्ष पायदान की 2 फीसदी भारतीय निर्माताओं में से एक है, जिनकी तकनीक 5 साल से भी कम पुरानी है और जो प्रति शिफ्ट 153-154 ग्राम प्रति स्पिंडल का आउटपुट देते हैं

• एसवीपी ग्लोबल को अग्रणी ब्राण्ड्स जैसे आईकेईए और ज़ारा के लिए अनुमोदित आपूर्तिकर्ता के रूप में मान्यता दी गई है

• कंपनी की ऑर्डर बुक रु 5000 करोड़ पर रही; वित्तीय वर्ष 21 की बात करें तो कोविड-19 के बावजूद कंपनी ने रु 25 करोड़ का शुद्ध मुनाफ़ा दर्ज किया, EBITDA रु 234 करोड़ रहा और शुद्ध बिक्री रु 1422 करोड़ रही

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 18 अगस्त 2021, नई दिल्ली। भारत के 75वें स्वतन्त्रता दिवस के जश्न के साथ, देश की सबसे बड़ी कॉम्पैक्ट कॉटन यार्न निर्माता एसवीपी ग्लोबल वेंचर्स लिमिटेड ने ओमान स्थित अपने बड़े टेक्सटाईल प्लांट में कमर्शियल संचालन शुरू करने की घोषणा की है। समूह ने ओमान के सोहर फ्री ट्रेड ज़ोन में 1.5 लाख स्पिन्डल्स और 3,500 रोटर्स सुविधा की स्थापना में 150 मिलियन डॉलर (तकरीबन रु 1100 करोड़) का निवेश किया है। उम्मीद है कि प्लांट सितम्बर, 2021 तक अपनी चरम उपयोगिता तक पहुंच जाएगा और कंपनी के राजस्व में बड़ा योगदान देगा।  1898 में श्री वल्लभ पिट्टी द्वारा स्थापित एसवीपी ग्रुप मुख्य रूप से पॉलिस्टर, पॉलिस्टर एवं कॉटन ब्लेंड और 100 फीसदी कॉटन यार्न (कपास के धागे) के निर्माण में सक्रिय है, ये निर्माण कार्य झालावाड़ (राजस्थान), रामनद (कोयम्बटूर) और सोहर (ओमान) में किए जाते हैं। कंपनी ने यार्न, फैब्रिक एवं गारमेन्ट्स (धागा, कपड़ा और परिधान) के निर्माण में पूरी तरह से एकीकृत एवं विश्वस्तर पर अग्रणी कंपनी बनने का दृष्टिकोण तय किया है। 

इस अवसर पर श्री चिराग पिट्टी, डायरेक्टर, एसवीपी ग्रुप ने कहा, ‘‘1.5 लाख स्पिन्डल्स और 3500 रोटर्स के साथ ओमान प्लांट का विस्तार कार्य पूरा कर लिया गया है, उम्मीद है कि इससे सितम्बर, 2021 से वित्तीय प्रदर्शन में बहुत अधिक सुधार होगा। ज़्यादा मार्जिन वाले कॉम्ब्ड कॉम्पैक्ट कॉटन यार्न की उंची मांग तथा विभिन्न समझौतों के मद्देनज़र हमें विश्वास है कि हम इस नई क्षमता का पूरा उपयोग कर सकेंगे और अपने सभी हितधारकों के लिए बेहतर मूल्य का निर्माण कर सकेंगे। हमने दुनिया में अग्रणी एकीकृत टेक्सटाईल निर्माता बनने का लक्ष्य तय किया है। ओमान स्थित सोहर फ्री ट्रेड ज़ोन में एसवीपी ग्रुप के विस्तार से आने वाले समय में संचालन एवं लॉजिस्टिक्स संबंधी कई फायदे होंगे। 25 वर्ष की कॉर्पोरेट कर छुट्टी के अलावा यह 100 फीसदी विदेशी स्वामित्व, पूंजी की कम लागत और विद्युत की कम लागत को भी सुनिश्चित करेगा। भारत के घरेलू बाज़ार की तुलना में विद्युत की लागत यहां 40 फीसदी कम है। ओमान ने यूएसए, तुर्की और कई अन्य देशों के साथ मुक्त व्यापार समझौते भी किए हैं। इसके अलावा यह शून्य फीसदी आयात एवं पुनः-निर्यात ड्यूटी भी पेश करता है। सोहर में विस्तार कार्य पूरा होने के बाद, कंपनी की कुल संचालन क्षमता बढ़कर 4 लाख स्पिन्डल्स और 5900 रोटर्स तक पहुंच गई है। 

मेजर जनरल ओपी गुलिया, एसएम, वीएसएम (सेवानिवृत), ग्रुप के सीईओ ने कहा, हमारी निर्माण सुविधाएं तकरीबन चरम क्षमता पर काम कर रही हैं और योजना के मुताबिक ओमान युनिट सितम्बर, 2021 तक चरम उपयोगिता तक पहुंच जाएगी। हमारी सामरिक विकास पहलों, क्षमता वर्धन एवं संचालानात्मक दक्षता, उत्पाद एवं भोगौलिक विस्तार के कारण उच्च मार्जिन वाले उत्पादों को बढ़ावा मिलेगा, जिससे कंपनी का मुनाफ़ा बढ़ेगा और कंपनी के विकास में मदद मिलेगी। वर्तमान में समूह टेक्सटाईल की सम्पूर्ण मूल्य श्रृंखला में प्रवेश के लिए तैयार है। कंपनी की ऑर्डर बुक वर्तमान में रु 5000 करोड़ पर है जो अगले 2-3 साल के राजस्व के समकक्ष है।

कंपनी ने वित्तीय वर्ष 2022 की पहली तिमाही के लिए सशक्त आंकड़े दर्ज किए है। जून 2021 को समाप्त होने वाली पहली तिमाही के लिए एसवीपी ग्लोबल की नेट सेल्स रु 412 करोड़ रही, कंपनी ने 300 फीसदी साल-दर-साल की बढ़ोतरी दर्ज की। वित्तीय वर्ष 2022 की पहली तिमाही के लिए EBITDA रु 91 करोड़ रहा (EBITDA मार्जिन 22.2 फीसदी) और शुद्ध मुनाफ़ा रु 39 करोड़ रहा (कर के बाद मुनाफे का मार्जिन 9.5 फीसदी)। वित्तीय वर्ष 2021 के लिए, कंपनी ने रु 1422 करोड़ की कुल आय दर्ज की, EBITDA रु 234 करोड़ और कर के बाद मुनाफ़ा रु 25 करोड़ रहा। एसवीपी ग्लोबल शीर्ष पायदान की 2 फीसदी भारतीय निर्माताओं में से एक है, जिनकी तकनीक 5 साल से भी कम पुरानी है और जो प्रति शिफ्ट 153-154 ग्राम प्रति स्पिंडल का आउटपुट देते हैं, यह उद्योग जगत में सर्वोच्च है। कंपनी की निर्माण सुविधाएं आधुनिक तकनीक वाली ऑटोमेटेड मशीनरी से युक्त हैं, जो ब्लो रूम से लेकर विंडलिंग तक एआई एवं आईओटी क्षमताओं से लैस हैं। एसवीपी ग्लोबल को अग्रणी ब्राण्ड्स जैसे आईकेईए और ज़ारा के लिए अनुमोदित आपूर्तिकर्ता के रूप में मान्यता दी गई है।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा