हॉर्लिक्‍स के नए टीवी विज्ञापन में पौष्टिक पर फैलाई जाएगी जागरुकता

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 24 अगस्त 2021, नई दिल्ली। भारत में हेल्‍थ फूड ड्रिंक कैटेगरी में लंबे समय से बाजार के अग्रणी हॉर्लिक्‍स ने भारत की पोषण सम्‍बंधी जरूरतों में योगदान देने का अपना प्रयास जारी रखा है। 23 महत्‍वपूर्ण न्‍यूट्रीयेंट्स (पोषक-तत्‍वों) से भरपूर, हॉर्लिक्‍स बच्‍चों के पोषण को सुधारने के लिये चिकित्‍सकीय रूप से प्रमाणित^ है। हेल्‍दी डाइट और पर्याप्‍त शारीरिक गतिविधि ही कुपोषण और उससे जुड़ी स्‍वास्‍थ्‍य की समस्‍याओं को रोकने के लिये कारगर रणनीतियाँ हैं। आज के जमाने के केयरगिवर्स को यह समझना चाहिए कि एक संतुलित एवं विविधतापूर्ण डाइट खाना खाने की मात्रा से ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण है। 

एचयूएल में न्‍यूट्रीशन के बिजनेस हेड श्री कृष्‍णन सुंदरम ने कहा, “माताओं के बीच यह गलतफहमी आम है कि अगर बच्‍चे ज्‍यादा  खा रहे हैं जो वह सही खा रहे हैं। हालांकि, असली समस्‍या यह है कि वे पोषक-तत्‍वों के सेवन पर नजर नहीं रख पाती हैं। वे नहीं जानती हैं कि दैनिक आधार पर पोषण सम्‍बंधी आवश्‍यकताओं में अंतर दूर करने के लिये बच्‍चों को क्‍या और कितना खिलाना चाहिये। इसलिये, पोषक-तत्‍वों के सेवन की इस कठिन अवधारणा को एक आसान तरीके से दिखाना महत्‍वपूर्ण है। मौजूदा विज्ञापन आमतौर पर खाये जाने वाले खाद्य पदार्थों के संदर्भ में हॉर्लिक्‍स के न्‍यूट्रीयेंट कंटेन्‍ट को आसानी से समझाने की कोशिश करता है। हमें विश्‍वास है कि अपने बच्‍चे को रेगुलर डाइट के साथ रोजाना हॉर्लिक्‍स देकर पेरेंट्स उसके पोषण की स्थिति को सही रखने के करीब जाएंगे।

मौजूदा टेलीविजन विज्ञापन हॉर्लिक्‍स के न्‍यूट्रीयेंट कंटेन्‍ट की तुलना कुछ खाद्य पदार्थों से करता है। यह उपभोक्‍ताओं द्वारा आमतौर पर खाये जाने वाले खाद्य पदार्थों के संदर्भ में इन पोषक-तत्‍वों की मात्रा को आसानी से समझाने में सहायता करने का प्रयास करता है। इस फिल्‍म की शुरुआत एक परिवार को डिनर टेबल पर दिखाये जाने के साथ होती है। यह भोजन का एक ऐसा अवसर है जब प्राकृतिक खाद्य पदार्थों को नियमित तौर पर खाया जाता है। टीवी विज्ञापन में रूटीन  डाइटरी प्रैक्टिस में उतार-चढ़ाव को प्रस्‍तुत किया गया है जिसमें प्राकृतिक या आमतौर पर खाये जाने वाले खाद्य पदार्थों को नजरअंदाज नहीं किया जाता है। हालांकि, यह इस बात पर शायद ही जोर देता है कि रोजाना की जिन्‍दगी में आहार सम्‍बंधी आदतें हमारी रेगुलर डाइट में पोषक-तत्‍वों के सेवन में अंतर ला सकती हैं।

इस संदर्भ में, हॉर्लिक्‍स एक महत्‍वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। हॉर्लिक्‍स एक पौष्टिक पेय है, जिसमें जरूरी विटामिन्‍स और मिनरल्‍स समेत 23 महत्‍वपूर्ण पोषक-तत्‍व होते हैं। दूध के साथ दी गई हॉर्लिक्‍स की दो सर्विंग्‍स बच्‍चों में लगभग 60% से ज्‍यादा प्रोटीन और 70% से ज्‍यादा कई जरूरी माइक्रो-न्‍यूट्रीयेंट्स की दैनिक आवश्‍यकता की पूर्ति करती है।  यह एक पौष्टिक पेय है जोकि प्रोटीन, विटामिन्‍स और मिनरल्‍स जैसे पोषक-तत्‍व प्रदान करने में  मदद करता है। अगर हर दिन नियमित डाइट के साथ हॉर्लिक्‍स की दो सर्विंग्‍स ली जाएं, तो यह पोषण सम्‍बंधी अंतर दूर करने में मदद करता है। 

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच