जोखिम वाली संपत्तियों की मांग में वृद्धि ने कच्चे तेल की कीमतों को कम किया

 स्पॉट गोल्ड की कीमतों में 1.4 फीसदी की गिरावट

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 25 सितम्बर  2021मुंबई। एंजेल वन लिमिटेड के नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी रिसर्च एवीपी श्री प्रथमेश माल्या ने बताया कि आपूर्ति की चिंता, यूएस क्रूड इन्वेंट्री में कमी और जोखिम वाली संपत्तियों की मांग में वृद्धि ने कच्चे तेल की कीमतों को कम कर दिया। गुरुवार को डब्ल्यूटीआई क्रूड लगभग 1.5 प्रतिशत बढ़कर 73.3 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। आने वाले महीनों में अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा कठोर रुख अपनाने की संभावनाओं के बावजूद बाजार में जोखिम उठाने की क्षमता और कमजोर अमेरिकी डॉलर ने तेल की कीमतों को कम कर दिया। एनर्जी इंफॉर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन की रिपोर्ट के अनुसार यूएस क्रूड इन्वेंट्री 17 सितंबर’21 को समाप्त सप्ताह में 3.5 मिलियन बैरल तक गिर गई, जो बाजार की 3.3 मिलियन-बैरल गिरावट की उम्मीद को पार कर गई। दो तूफानों के बाद यूएस रिफाइनिंग गतिविधियां धीरे-धीरे फिर से शुरू हुई, जिसके कारण यूएस खाड़ी तट ने यूएस क्रूड स्टॉक में वापसी की। यूएस क्रूड इन्वेंट्री लगभग 3 वर्षों में सबसे निचले स्तर पर है। यूएस सेंट्रल बैंक द्वारा विस्तारवादी नीति की अपेक्षा से जल्द ही तेल की कीमतों पर असर पड़ सकता है। हालांकि, सख्त आपूर्ति और अमेरिकी कच्चे तेल के शेयरों में गिरावट से कुछ समर्थन मिलने की उम्मीद है।

सोना: गुरुवार को स्पॉट गोल्ड 1.4 फीसदी की गिरावट के साथ 1742.6 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ। हालांकि, यूएस सेंट्रल बैंक ने हाल की बैठक में पॉलिसी में कोई बदलाव नहीं किया, लेकिन उम्मीद से पहले आर्थिक समर्थन वापस लेने की योजना ने स्पॉट गोल्ड की कीमतों पर दबाव डाला। फेडरल रिजर्व के अध्यक्ष जेरोम पॉवेल ने कहा कि अगर अमेरिकी अर्थव्यवस्था में मजबूती जारी रही तो वे आने वाले वर्ष में ब्याज दरों में वृद्धि कर सकते हैं। ब्याज दर में वृद्धि से ब्याज रहित बुलियन को होल्ड करने की अवसर लागत में वृद्धि होगी। वैश्विक अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर चीन के एसेट डेवलपर एवरग्रांडे के लोन संकट के प्रभाव को लेकर चिंताओं के बाद सोने पर भी कुछ दबाव महसूस हुआ, क्योंकि समूह ने कहा कि यह कुछ बॉन्ड ब्याज का भुगतान करेगा। हालांकि, यूएस फेड ने नीति में कोई बदलाव नहीं किया है, लेकिन आने वाले महीनों में सोने की कीमतों पर असर पड़ सकता है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान