आज़ादी की अमृत गाथा आठ में भीकाजी कामा,शहीद कनकलता बरूआ और रामधारी सिंह दिनकर को श्रद्धांजलि दी जाएगी

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 21 सितम्बर  2021, नई दिल्ली। विश्व शांति दिवस (21सितंबर) के उपलक्ष्य में आरजेएस राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन अध्यात्म और योग से उपचार विषय पर अगले रविवार 19 सितंबर को  सीनियर सिटीजन्स काउंसिल(एससीसीपी), पंचकूला के सहयोग से आयोजित है। काउंसिल के अध्यक्ष आरपी मल्होत्रा ने बताया कि इसके माध्यम से हम वरिष्ठ नागरिकों को भी जागरूक करेंगे और जो कोरोना काल में काफी समय‌ तक घरों में बंद रहे,उनके लिए ये वेबिनार एक सुखद अहसास होगा। क्योंकि सुखद और स्वस्थ जीवन का महत्वपूर्ण आधार योग और अध्यात्म है।  आरजेएस राष्ट्रीय संयोजक उदय मन्ना ने कहा कि आजादी की अमृत गाथा के आठवें अंक में अध्यात्म और योग से उपचार: शांति और आनंद का आधार विषय पर चर्चा होगी। योग और अध्यात्म एक दूसरे के पूरक हैं। क्योंकि अध्यात्म का प्रदर्शन योग की निरंतर साधना से ही संभव है।

कोरोना काल में योग और अध्यात्म को समझना बहुत जरूरी है। वेबिनार का आयोजन राम जानकी संस्थान(आरजेएस) और तपसिल जाति आदिबासी प्रकटन्न सैनिक कृषि बिकाश शिल्पा केंद्र (टी जे ए पी एस केबीएसके) द्वारा आयोजित है। टीजेएपीएस केबीएसके के सचिव सोमेन कोले ने बताया कि प्रत्येक रविवार को आजादी की अमृत गाथा के  श्रृंखलाबद्ध कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इसके अंतर्गत रविवार को आयोजित आठवें अंक में मुख्य अतिथि योगी कवि आचार्य प्रेम भाटिया  और मुख्य वक्ता प्रचारक सुरजीत सिंह कोहली होंगे वहीं अध्यक्षता समाज सुधारक स्वामी डाॅ. अमृता परिव्रजिका करेंगी।

आजादी की अमृत गाथा की इस वर्चुअल बैठक में  स्वतंत्रता सेनानी मैडम भीकाजी कामा (जन्मदिन-24 सितंबर) शहीद कनकलता बरूआ (पुण्यतिथि-20 सितंबर) और राष्ट्र कवि रामधारी सिंह दिनकर (जन्म दिन-23 सितंबर) को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी। आरजेएस राष्ट्रीय वेबिनार में अलग-अलग राज्यों की आरजेएस फैमिली जुड़ेंगी।  संयोजक उदय  मन्ना ने आगे बताया कि आजादी की अमृत गाथा का नौवां अंक अंतरराष्ट्रीय पुत्री दिवस पर रविवार 26 सितंबर को आयोजित है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान