काम पर वापस आते व्यवसायों के लिए ऊबर ने कॉर्पोरट शटल सेवा किया लॉन्च

◆ सेवा दिल्ली, कोलकाता, हैदराबाद, चेन्नई, पुणे, मुंबई और बैंगलोर में उपलब्ध होगी।

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 16 सितम्बर  2021, नई दिल्ली। ऊबर ने ऊबर कॉर्पोरेट शटल की शुरुआत की। यह सेवा नई जीवनशैली में कर्मचारियों को काम पर सुरक्षित व किफायती तरीके से लाने ले जाने के लिए कंपनियों को एक नया साधन प्रदान करेगी। ऊबर कॉर्पोरेट शटल कंपनियों के लिए आवागमन की कस्टमाईज़्ड सेवा है, जो एक वाहन में 10 कर्मचारियों से लेकर 50 कर्मचारियों तक को बैठने की सुविधा प्रदान करेगी। एक भरोसेमंद, सुरक्षित व किफायती राईड प्रदान करने के लिए ऊबर की टेक्नॉलॉजी का इस्तेमाल करके यह सेवा कंपनियों को सस्टेनेबिलिटी के उद्देश्य पूरे करने में मदद करेगी और शहरों में वाहनों तथा ऑफिसों के बाहर पार्किंग की भीड़ कम कर प्रदूषण को रोकने में मदद करेगी। 

सुरक्षा ऊबर की सर्वोच्च प्राथमिकता है। ऊबर कॉर्पोरेट शटल में विस्तृत सुरक्षा उपाय, जैसे गो ऑनलाईन चेकलिस्ट, राईडर व ड्राईवर के लिए अनिवार्य मास्क पॉलिसी, ड्राईवर्स के लिए प्रि-ट्रिप मास्क वैरिफिकेशन सेल्फी और सुरक्षा एसओपी पर अनिवार्य ड्राईवर शिक्षा शामिल हैं। यह सेवा दिल्ली, कोलकाता, हैदराबाद, चेन्नई, पुणे, मुंबई और बैंगलोर में उपलब्ध होगी।

ऊबर कॉर्पोरेट शटल के लॉन्च पर अभिनव मिट्टू, हेड ऑफ ऊबर फॉर बिज़नेस, भारत एवं साउथ एशिया ने कहा, ‘‘ऊबर में हम अपने ग्राहकों की बदलती जरूरतों को पूरा करने पर केंद्रित हैं। ऊबर कॉर्पोरेट शटल कंपनियों को अपने कर्मचारियों को सर्वोपरि रखने में मदद करेगी। वो कार्यस्थल पर आवागमन सुरक्षित तरीके से कर सकेंगे और उन्हें ट्रैफिक जाम, पार्किंग के शुल्क एवं कार के मेंटेनेंस की फिक्र भी नहीं होगी । अलग-अलग कर्मचारियों द्वारा एक ही वाहन में आवागमन करने से हमारे शहरों में वाहनों की भीड़, प्रदूषण और वाहनों से निकलने वाले उत्सर्जन को कम करने में मदद मिलेगी। 20 महीनों के मुश्किल समय के बाद भारतीय काम पर फिर से वापस जा रहे हैं और उन्हें इसमें मदद करना गर्व की बात है। ऊबर कॉर्पोरेट शटल ऊबर का एक और उत्पाद है, जो संगठनों को व्यवसायिक सफर का प्रबंधन करने, आवागमन के खर्च को कम करने और कर्मचारियों के अनुभव में सुधार करने का एक ज्यादा प्रभावशाली तरीका प्रदान करता है।

ऊबर के उच्च क्षमता के वाहन कार्यक्रम का यह पहला उत्पाद है, जो भारत में लॉन्च किया जा रहा है। इसे भारत एवं अन्य विकसित होते हुए बाजारों में ऑफिस आने-जाने वाले लोगों की चुनौतियों को ध्यान में रखकर विकसित किया गया है। ऊबर कॉर्पोरेट शटल के लिए टेक्नॉलॉजी एवं उत्पाद-निर्माण के काम का ज्यादातर हिस्सा बैंगलोर में स्थित ऊबर की टेक्नॉलॉजी टीम द्वारा किया गया है। ऊबर कॉर्पोरेट शटल से कंपनियों, कर्मचारियों को लाभ होगा और भविष्य के लिए सस्टेनेबल शहरों के निर्माण में मदद मिलेगी।

कंपनियों के लिए परिवहन की मूलभूत समस्या का समाधान होगा, कंपनी के पैसों की बचत होगी, कर्मचारियों की सुरक्षा बढ़ेगी, उत्पादकता बढ़ेगी और कर्मचारियों के रिटेंशन में मदद मिलेगी।

कर्मचारियों की सेहत सुनिश्चित करते हुए पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभाव को कम करेगी।

उत्पादकता व प्रोत्साहन बढ़ाकर कर्मचारियों पर तनाव को कम करेगी।

कर्मचारियों के लिए भरोसेमंद, सुविधाजनक एवं सुरक्षित आवागमन के साधन मिलेंगे, जिसकी खासकर इस समय बहुत जरूरत है, जब जन परिवहन के विकल्प सीमित हैं।

ट्रैफिक में फंसने से होने वाले तनाव को कम करेगी और दिन में व्यक्तिगत गतिविधियों के लिए ज्यादा समय मिलेगा। कार के रखरखाव के खर्च में काफी बचत होगी।

शहरों के लिए प्रदूषण और ऊर्जा के उपभोग में कमी लाएगी।

ट्रैफिक की भीड़ कम होगी। पार्किंग के लिए इन्फ्रास्ट्रक्चर की जरूरत को कम करके शहरों में आवासीय इलाकों को ज्यादा रहने योग्य बनाएगी।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया