प्रेगनेंसी के लिए Fertility Food क्या है : डॉ चंचल शर्मा

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 4 सितम्बर  2021, नई दिल्ली। स्वस्थ और संतुलित आहार महिलाओं के लिए प्रजनन स्वास्थ्य सहित समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में बहुत अच्छी मदद करते है। स्वस्थ भोजन का सेवन शुरू करने के लिए गर्भावस्था की प्रतीक्षा नहीं करनी चाहिए।  गर्भधारण से पहले एक स्वस्थ आहार प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मदद कर करता है। फर्लिटी फूड मां को प्रीक्लेम्पसिया के जोखिम को कम करता है।  और स्पाइना बिफिडा जैसे जन्म दोष वाले बच्चे के होने के जोखिम को कम कर सकता है। प्रेगनेंसी के लिए महिलाओं को अपनी डाइट और सेहत का पूरा ख्याल रखना चाहिए। महिलाओं को अपनी डाइट में उन सूपर फूड्स को जरुर शामिल करना चाहिए। जिससे गर्भधारण करने में आसानी होती है। और साथ ही प्रजनन क्षमता पर कोई भी पूरा असर न पड़ता हो। यदि आप फैमली प्लान कर रही है और आप स्वस्थ नही है तो इससे आपके होने वाले बच्चे की सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। ऐसे में गर्भधारण करने से पूर्व अपनी सेहत और खानपान का पूरा ध्यान देना चाहिए। 

वोमेन इनफर्टिलिटी का बढ़ाने वाले सुपर फूड्स - 

यदि आप जल्दी कंसीव करना चाहती है तो अपनी डाइट में इन सुपर फूड्स को शामिल कर पायें माँ बनने का सुख - 

बीन्स और दाल - बीन्स और दाल में उच्च मात्रा में फाइबर और प्रोटीन होता है, जो ओव्यूलेशन को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। आयुर्वेद के वर्षो तक चलने वालेे अध्ययनों से पता चला है कि वनस्पति स्रोतों से मिलने वाली प्रोटीन ओवुलेटरी इनफर्टिलिटी के जोखिम को कम करती है। ये दोनों फलियां फोलिक एसिड का भी एक उत्कृष्ट स्रोत हैं। यह एक महत्वपूर्ण घटक जो गर्भाधान में सहायता करता है और स्वस्थ भ्रूण विकास में मदद करता है।

जामून - जामुन जैसे एंटीऑक्सीडेंट युक्त खाद्य पदार्थ विटामिन सी और फोलिक एसिड में उच्च होते हैं।  जो गर्भधारण के बाद स्वस्थ भ्रूण विकास प्रदान करते हैं। ब्लूबेरी और स्ट्रॉबेरी में प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इनफ्लामेंटरी गुण गुण होते हैं । यह महिलाओं की  प्रजनन क्षमता में सुधार करते हैं। आयुर्वेद में हुए रिसर्च से पता चला है । कि अधिक फल खाने वाली महिलाओं में बांझपन की संभावना काफी कम होती है। 

दही और पनीर - वसायुक्त खाद्य पदार्थ प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए बहुत अच्छे होते हैं। योगर्ट और चीज़ में कैल्शियम, प्रोबायोटिक्स और विटामिन डी होते हैं।  ये सभी ओव्यूलेशन को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। इसके अलावा, आपको प्रत्येक भोजन से पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन प्राप्त होगा, और अधिक सटीक ओव्यूलेशन चक्रों के माध्यम से एक सफल गर्भावस्था की संभावना को मजबूत करेगा।

अखरोट - अखरोट ओमेगा -3 और ओमेगा -6 से भरे होते हैं । जो महिलाओं के शरीर को स्वस्थ मस्तिष्क कार्यों को बनाए रखने और हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद करते हैं।  रिसर्च से यह भी पता चलता है कि जो महिला नियमित रूप से अखरोट खाती हैं।  वे बेहतर प्रजनन का अनुभव करती है। जिसके परिणामस्वरूप अच्छी क्वालिटी के अंडे तैयार होते है। 

शतावरी  - शतावरी गर्भवती होने की कोशिश करने वालों के लिए सूपर फूड्स  पावरहाउस भोजन है। अध्ययनों से पता चलता है कि एक कप उबला हुआ शतावरी खाने से आपको फोलिक एसिड 60% से अधिक मिलता है।  आपके दैनिक विटामिनको पूरा करने के लिए आप इसे प्रतिदिन ले सकती है। इसमें पर्याप्त मात्रा में जिंक और सेलेनियम भी होता है।  इसलिए महिला एवं पुरुषों दोनों को भी अपने आहार में शतावरी को शामिल करना चाहिए। यह जानकारी आशा आयुर्वेदा की फर्टिलिटी एक्सपर्ट डॉ चंचल शर्मा से एक खास बातचीत के दौरान प्राप्त हुई है। यह आप भी प्रेगनेंसी कंसीव की सोच रहीं हैं तो आशा आयुर्वेदा में संपर्क करें।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन