अनिल चौहान के सब्जी बेचने से लेकर OYO पैट्रॉन बनने का तक

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 14 सितम्बर  2021, नई दिल्ली। कठिनाईयां अक्सर साधारण लोगों को एक असाधारण भाग्य के लिए को तैयार करती हैं"... ये पुरानी कहावत OYO के संरक्षक अनिल चौहान के जीवन पर एकदम सटीक बैठती है। पिता के निधन के बाद जब अनिल ने अपने कोमल कंधों पर अपने पूरे परिवार की जिम्मेदारी उठाई, तब वह केवल 13 वर्ष के थे। खाली पेट और निरंतर सामने आने वाली कठिनाइयां ही उनके जीवन में एकमात्र स्त्रोत थी, जो उन्हें जीवन में कुछ बड़ा करने की प्रेरणा देती थीं। नोएडा के रहने वाले अनिल ने कभी भी कोई भी अजीब काम करने से नहीं कतराते थे और उन्हें अपने जीवन व शिक्षा को बनाए रखने के लिए जो भी अवसर मिला, उसमें उन्होंने हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन और उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। वह हमेशा से जानते थे कि शिक्षा व्यक्ति की वृद्धि और विकास की आधारशिला है और यही कारण है कि उन्होंने अपने जीवन में कई चुनौतियों के बावजूद अपनी शिक्षा पूरी की।

अपने जीवन के सफर करते हुए अनिल ने बताया, "मैं 8वीं में था जब मेरे पिता हमें छोड़कर चले गए थे, हमने अपना सबकुछ खो दिया था। आम तौर पर, उस उम्र में एक बच्चे को बाहरी दुनिया के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है, लेकिन मेरे पास कठिन रास्तों पर चलने के अलावा और कोई विकल्प नहीं था। मैंने 13 साल की उम्र से काम करना शुरू कर दिया था और हमेशा मानता था कि कोई भी काम छोटा नहीं होता। मैंने कभी किसी से पैसे नहीं मांगे, हमने जीवन और शिक्षा की व्यवस्था उसी पैसे से की जो भी छोटा-मोटा मैं कमाया करता था।"

एक बाल उद्यमी के रूप में उन्होंने एक सब्जी विक्रेता के रूप में शुरुआत की। यह सफर उनके लिए आसान नहीं था। उनके दिन सुबह 4 बजे शुरू होते थे और कभी खत्म नहीं होते थे। लेकिन उन्होंने हमेशा अपने सपनों को जीवित रखा और दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से उन्होंने आगरा विश्वविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई पूरी की और उसके बाद पत्रकारिता में डिप्लोमा किया। बहुत कम लोग जानते है कि अनिल अभिनय के अपने सपने को भी पूरा करते हैं। हालांकि उन्होंने अपने शोबिज़ करियर की शुरुआत एक क्राउड आर्टिस्ट और जूनियर कलाकार के रूप में की थी, लेकिन उनके अभिनय कौशल को जासूस विजय, इंडियाज मोस्ट वांटेड, सनसनी और 1947- द अर्थ और फौजी कॉलिंग, जिसमें श्रेयस तलपड़े और बिदिता बैग भी हैं, जैसी पूर्ण फीचर फिल्मों में पहचान मिली।

उन्होंने कहा, "ये सब मेरे नोएडा फिल्म सिटी अक्सर आने जाने की वजह से शुरू हुआ। कई बार, शो के निर्माता लोगों को भीड़ में खड़े होने के लिए बुलाते थे और हमें नाममात्र का भुगतान मिलता था और एक बार का भोजन खिलाया जाता था। एक बार जब मुझे एक प्रमुख समाचार चैनल से उनके प्रोडक्शन को संभालने का प्रस्ताव मिला, तो मुझे अपनी किस्मत पर विश्वास नहीं हुआ, अब मैं भीड़ का हिस्सा नहीं था। मेरी भूमिका भीड़ को इकट्ठा करने या प्रबंधन करने और जो कुछ भी आवश्यकताएं हैं उसे पूरा करने की थी और मैंने अपने जीवन की सीढ़ियां चढ़ना शुरू कर दिया। कैमरे के पीछे से कैमरे का सामना करने तक, शोबिज में मेरा सफर उसके बाद भी जारी रहा। मैं कभी भी जोखिम लेने से नहीं डरता था और चुनौतियों से दूर भागने के बजाय, मैंने हमेशा उनका डटकर सामना किया। उन्होंने जुनून, कड़ी मेहनत और लगन ने एक-एक करके अपने जीवन की कठिनाइयों को दूर किया और आज उनके पास नोएडा में OYO 71229 कृष्णा रेजीडेंसी सहित दिल्ली-एनसीआर में नौ होटल हैं। उनके जीवन की यात्रा OYO के नवीनतम अभियान 'छोटी शुरुआत, बड़ी उड़ान' का भी हिस्सा बन गई है। इसके तहत कंपनी ऐसे असाधारण लोगों की कहानियां सामने लाती है, जिनकी कहानियां हर किसी को पसंद आती हैं।

उन्होंने आगे बताया, "मेरा हमेशा से एक सपना था कि मैं अपना खुद का व्यवसाय चलाऊं और किसी भी स्थिति में स्थिति में खुद को रुकने न दूं। जब मैं हॉस्पिटैलिटी की दुनिया में अगली छलांग लगाने और अपने करियर में आगे बढ़ने की योजना बना रहा था, तब सबसे उपयुक्त समय पर मददगार के रूप में आगे आने के लिए मैं OYO को जितना भी धन्यवाद कहूंगा वो कम होगा। OYO की टीम के साथ काम करना अद्भुत रहा है और टेक-प्लेटफ़ॉर्म Co-OYO ने मुझे अपनी नौ संपत्तियों में दूर से अपने होटल संचालन की निगरानी में मदद की है। OYO के मार्गदर्शन के साथ मैंने अपने सपने को पूरा करने के लिए कठिन निर्णय लिया और COVID-19 और उसके बाद के लॉकडाउन के दौरान भी नोएडा के प्रतिस्पर्धी बाजार में बाजार नेतृत्व हासिल करने के लिए अपने पोर्टफोलियो का विस्तार किया।

आपको बता दें कि वर्तमान में अनिल चौहान नोएडा क्षेत्र के सबसे सफल संरक्षकों में से एक है और दिल्ली-एनसीआर में ओयो के टेक प्लेटफॉर्म पर कुल नौ होटलों का संचालन करते हैं और साल के अंत तक 10 और होटल खोलने का उनका लक्ष्‍य है। एक ड्राइवर के रूप में टेक्‍नोलॉजी और डाटा छोटे होटल और घर-मालिकों सहित संरक्षकों की यात्रा के प्रत्‍येक टचप्‍वॉइंट को सशक्‍त बनाया है, ओयो अपनी विविध तकनीक और उत्‍पादों की पेशकश के साथ आतिथ्‍य की दुनिया में एक अलग जगह बना रहा है। पार्टनर फेसिंग एप- Co-OYO/OYO OS – स्‍टाफ की भर्ती और प्रशिक्षण, आरक्षण और बुकिंग प्रबंधन, बिल प्रबंधन, हाउसकीपिंग प्रबंधन, डैशबोर्ड और एनालिटिक्‍स, लाइव सपोर्ट के लिए एक एकीकृत क्‍लाउट-आधारित प्रणाली के साथ एक परेशानी-मुक्‍त सपंत्ति प्रबंधन समाधान है। भारत में, वर्तमान में, ओयो के Co-OYO को 70 प्रतिशत लोगों ने अपनाया है, इसके परिणामस्‍वरूप प्‍लेटफॉर्म से नियमित रूप से जुड़कर चार गुना अधिक RevPAR हो रहा है। ओयो ने पिछले सात सालों के दौरान भारत में हजारों सूक्ष्‍य उद्यमियों को रोजगार सृजित करने और उनकी सफलता में योगदान जारी रखने में मदद करने के लिए सशक्‍त बनाया है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन