लव कुश रामलीला में राम बनवास के समय मंच पर राम के साथ 250 से ज़्यादा कलाकार

 

शब्दवाणी समाचार, रविवार 10 अक्टूबर  2021, नई दिल्ली। लाल क़िला के 15 अगस्त पार्क में आयोजित लव कुश राम लीला में चोथे दिन की लीला का मंचन देखने आज राम भक्त शाम पाँच बजे से ही परिवार सहित  लीला ग्राउंड में पहुँचे ! वही दर्शको की प्रति दिन बढ़ती संख्या को देखते हुए कमिटी ने मैदान मेंदर्शकों के लिए आवशयक सुविधाओं का और अधिक विस्तार किया तो वही सुरक्षा के और पुख़्ता इंतज़ाम कर दिए। 

लव कुश राम लीला के  अशोक अग्रवाल के मुताबिक़ आज लीला मंचन शुरू से पहले ही राम भक्त पहुँचने शुरू हो गये थे! लीला मंचन के लिए पहले से सुसज्जित अलग अलग स्टेज पर श्री राम जी के राजतिलक घोषणा से लेकर चित्रकूट पर प्रभु श्री राम , से भरत मिलाप तक की लीला का मचन रात बारह बजे तक किया गया !

श्री अग्रवाल ने बताया की जहां मंथरा कैकेयी के संवाद के द्र्श्य में मैदान में बैठे दशकों के चेहरे उत्तेजित नज़र आए वही श्री राम जी के बनवास द्र्श्य में सभी दशकों की आँखे गीली थी , वही श्री राम सीता लक्ष्मण के बनवास जाने के द्र्श्य को और जीवंत बनाने के लिए 250 से ज़्यादा कलाकारों ने हिस्सा लिया। 

लीला के सचिव अर्जुन कुमार की अनुसार आज लीला मच पर श्री राम और निषाद राज भेंट , दशरथ मरण , भरत कैंकयी संवाद से लेकर चित्रकूट में राम जी से भरत मिलाप तक की लीला का मंचन हुआ! आज विशाल स्टेज पर लेटेस्ट तकनीक और लेटेस्ट तकनीक के साथ दशरथ जी के दरबार में श्री राम जी के राजतिलक की घोषणा के द्र्श्य को प्रभावशाली बनाने के लिए रंगबिरंगी बिजली की रोशनी की गई। 

प्रभु श्री राम के किरदार में टीवी के दिग्गज अभिनेता गगन मलिंक ने अपनी अभिनयकला से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर लीला के उपरांत लीला कमिटी के सदस्यों और आमंत्रित विशेष मेहमानों ने प्रभु श्री राम की आरती की लीला मंत्री अंकुश अग्रवाल के मुताबिक़ कमिटी के पदाधिकारी लीला स्थल पर दर्शकों को सभी आवश्यक सुविधाएँ उपलब्ध कराने में लगे है तो लीला ग्राउंड में सुरक्षा के सभी उपाय किए गये है। 

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान