एमजी एस्टर में होंगे यह 5 शानदार फीचर्स

◆ एमजी एस्टर के यह 5 शानदार फीचर्स बनाते हैं उसे बेहद प्रतिस्पर्धी मिड-साइज एसयूवी

शब्दवाणी समाचार, सोमवार 11 अक्टूबर  2021, नई दिल्ली। एमजी (मॉरिस गैरेज) ने जून 2019 में भारत में हेक्टर लॉन्च की थी तो उसने सबको चौंका दिया था। दिखने में इतनी खूबसूरत, भरपूर फीचर वाली बड़ी एसयूवी देखकर सब दंग रह गए थे। हेक्टर ने एमजी को ब्रांड के तौर पर विकसित किया तो जेडएस ईवी और ग्लॉस्टर ने इस कहानी को आगे बढ़ाया। और अब, एस्टर के साथ एमजी तैयार है, जो कंपनी को देश के बेहद प्रतिस्पर्धी मिड-साइज एसयूवी सेगमेंट में प्रवेश का प्रतीक है। आइए नई एमजी एस्टर के टॉप 5 फीचर्स के बारे में जानें।

फोन ही कार की 'की' है :

एमजी ने एस्टर के लिए इस सेग्मेंट में पहली बार 'डिजिटल की' की पेशकश की है। यदि आप अपनी चाबी खो देते हैं या इसे कहीं भूल जाते हैं, तो आप आसानी से अनलॉक/लॉक कर सकते हैं और डिजिटल की फीचर से अपनी कार शुरू कर सकते हैं, जो कि आई-स्मार्ट ऐप में उपलब्ध है और ब्लूटूथ से संचालित होती है। अगर किसी ने आपका स्मार्टफोन चुराकर और डिजिटल की की मदद से आपके एमजी एस्टर को अनलॉक करने की कोशिश की तो क्या होगा? आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है। अपनी कार को लॉक करने के बाद बस डिजिटल की को डिसेबल करना होगा। इसके बाद जब आप इसका इस्तेमाल करना चाहेंगे तो यह पासवर्ड प्रोटेक्टेड होने से पहले पासवर्ड मांगेगा। सुरक्षा उद्देश्यों के लिए आप अपना डिजिटल पासवर्ड किसी से शेयर न करें और उसी समय अपना फोन न खो दें।

दिमाग वाली कार:

एस्टर में डैशबोर्ड पर छोटा रोबोट है जो आपके पर्सनल एआई असिस्टेंट के रूप में काम करेगा। यह डैशबोर्ड पर मूर्ति की जगह लेता है। यूएस की कंपनी स्टार डिजाइन ने इस रोबोट को डिजाइन किया है और यह रोबोट इमोटिकॉन्स के रूप में चित्रित भावनाओं को प्रदर्शित करके अपनी प्रतिक्रिया भी करता है। यह जिस व्यक्ति से बात कर रहा होता है, उसकी ओर अपना सिर घुमाता है। वॉइस असिस्टेंट की तरह यह रोबोट एक महिला की आवाज में बोलता है। इसके अलावा यह आपके लिए गाना गा सकता है, चुटकुला सुना सकता है और विकिपीडिया की जांच करके और समाचार पढ़कर आपकी शंकाओं को दूर कर सकता है। रोबोट वाहन की स्थिति पर भी नजर रखता है। यह सनरूफ खोल सकता है और नेविगेशन चालू कर सकता है। ये एस्टर में लगभग 80 कनेक्टेड कार फीचर्स में से एक हैं।

लेवल 2 एडीएएस :

एस्टर को सेग्मेंट-फर्स्ट एडवांस ड्राइवर असिस्टेंस सिस्टम (एडीएएस) भी मिलता है। इस सिस्टम में 14 ऑटोनोमस फीचर के बीच एडवांस क्रूज कंट्रोल, फॉरवर्ड कोलिजन वार्निंग, ऑटो इमरजेंसी ब्रेकिंग, लेन कीप असिस्ट, लेन डिपार्चर प्रिवेंशन, ब्लाइंड-स्पॉट डिटेक्शन और स्पीड असिस्ट शामिल हैं। इसके अलावा, कार में छह एयरबैग, हिल होल्ड, हिल डिसेंट, चारों पहियों पर डिस्क ब्रेक, 360-डिग्री कैमरा, कॉर्नरिंग असिस्ट फॉगलैम्प और इलेक्ट्रिक पार्क ब्रेक भी हैं।

एस्टर में लेन असिस्ट फंक्शन की तिकड़ी मिलेगी :

एमजी ने लेन फंक्शन के तौर पर तीन फीचर पेश किए हैं- लेन डिपार्चर वार्निंग, लेन कीप असिस्ट और लेन डिपार्चर प्रिवेंशन। लेन कीप असिस्ट वाहन के सामने लगे एक कैमरे के जरिए काम करता है जो लेन मार्किंग्स को मॉनिटर करता है और ड्राइवर को उस लेन से चिपके रहने में सहायता करता है जिस पर कार चल रही है। लेन डिपार्चर वार्निंग लेन में बदलाव के दौरान ड्राइवर को सूचना भेजता है, और लेन डिपार्चर प्रोटेक्शन ब्रेक लगाकर वाहन को लेन बदलने से रोकता है। जब वाहन 60 किमी/घंटा की गति से टकराता है तो वे सक्रिय हो जाते हैं। लेन डिपार्चर वार्निंग एक्टिव हो जाता है जब ड्राइवर बिना इंडिकेटर के अपनी लेन से बाहर निकलना शुरू कर देता है और चालक को अलर्ट भेज दिया जाता है।

एडॉप्टिव क्रूज कंट्रोल :

एडॉप्टिव क्रूज कंट्रोल नियमित क्रूज कंट्रोल का एक एडवांस वर्जन है, जो आधुनिक कारों में बहुत ही सामान्य फीचर बन गया है। सिस्टम कार की गति का मिलान सामने वाले वाहन के साथ करता है और आगे बढ़ रहे वाहन की गति के आधार पर तेज और धीमा होता है। एसीसी तब सक्रिय होता है जब ड्राइवर स्टीयरिंग व्हील के पीछे यॉ स्टिक को अपनी ओर खींचता है। एसीसी को सक्रिय करने के लिए कार की न्यूनतम गति कम से कम 30 किमी प्रति घंटा होनी चाहिए। कार की क्रूजिंग स्पीड को क्रमशः लीवर को ऊपर या नीचे धकेल कर बढ़ाया या घटाया जा सकता है। लीवर के अंत में सेट बटन क्रूजिंग स्पीड को ठीक करता है। कार स्थिर गति से आगे बढ़ती है जब वह निर्धारित गति या उस गति तक पहुंचती है, जिस गति से सामने वाला वाहन आगे बढ़ रहा है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया