पीवीआर ने अपना पहला मल्टीप्लेक्स पीवीआर साकेत नए अवतार में खोला

• जेम्स बॉन्ड की बहुप्रतीक्षित मूवी ‘नो टाईम टू डाई’ की रिलीज़ के साथ पुनः खुला।

• 1997 ने मनोरंजन के भविष्य की शुरुआत की। इस गेम चेंजर ने भारतीयों का सिनेमा जाने का तरीका हमेशा के लिए बदल दिया।

• पेपरलेस तरीके से टिकट के सुरक्षित व स्वयं निर्माण के लिए बॉक्स ऑफिस के टिकट काउंटर की जगह सेल्फ टिकटिंग कायोस्क के साथ डिजिटल युग की ओर पलायन

• बेहतर लेगरूम के साथ नई आरामदायक सीटें मूवी देखने के अनुभव में सुधार करेंगी

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 2 अक्टूबर  2021, नई दिल्ली। भारत में सबसे बड़ी एवं सर्वाधिक प्रीमियम फिल्म एक्जि़बिशन कंपनी, पीवीआर लिमिटेड ने आज अपनी फ्लैगशिप मल्टीप्लेक्स प्रॉपर्टी पीवीआर साकेत (तत्कालीन अनुपम) को पुनः खोलने की घोषणा की है। यह प्रॉपर्टी कम्युनिटी सेंटर, साकेत में स्थित है। इसके पुनः खुलने के साथ दिल्ली की प्रतिष्ठित हस्तियों के लिए बहुप्रतीक्षित जेम्स बॉन्ड मूवी ‘नो टाईम टू डाई’ की विशेष स्क्रीनिंग की जाएगी। जेम्स बॉन्ड की 25वीं मूवी, जो 6 सालों के विराम के बाद आई है, यह डेनियल क्रेग की पाँचवीं मूवी है और इसमें जेम्स बॉन्ड के रूप में वो अंतिम बार आए हैं। 

भारत के पहले मल्टीप्लेक्स के रूप में, पीवीआर साकेत (तत्कालीन अनुपम) अपने युग में आधुनिक सिनेमा थिएटी की प्रतिमा रहा है और इसे दो दशकों तक दर्शकों का अपार स्नेह मिला है। जब पीवीआर ने 1997 में भारत में मल्टीप्लेक्स के कॉन्सेप्ट की शुरुआत की, उस समय यह ‘भारतीयों की मौलिक समझ’ और मूवी के प्रति उनके प्रेम में समाहित था। यद्यपि एक तरफ एक पीढ़ी पूरी दुनिया घूम चुकी थी और सर्वश्रेष्ठ सिनेमा का आनंद ले रही थी, तो दूसरी तरफ, एक और पीढ़ी को इंटरनेट के कारण सर्वश्रेष्ठ ग्लोबल सिनेमा देखने को मिल रहा था। पीवीआर ने मूवीप्रेमियों की इस बढ़ती हुई अपेक्षा को पूरा किया और उनके भरोसे के साथ उड़ान भरने वाला यह पहला मनोरंजन केंद्र बन गया। 

इसके लॉन्च के साथ ही राजधानी दिल्ली में रातोंरात सिनेमा के लिए कभी न मिटने वाली भूख पैदा हो गई। मल्टीप्लेक्स ने बीमार फिल्म उद्योग का पुनरोत्थान कर दिया और उपभोक्ताओं को शो के विभिन्न समयों पर मूवी देखने का विकल्प, विश्वस्तरीय वातावरण, अत्याधुनिक टेक्नॉलॉजी, भव्य आराम, शानदार रिफ्रेशमेंट, अव्वल दर्जे की हॉस्पिटलिटी, स्वच्छ व सुरक्षित वातावरण प्रदान किया, जिसके कारण उन्हें बेहतरीन पारिवारिक मनोरंजन मिला। इसलिए दर्शक वापस सिनेमा हॉल में मूवी देखने के लिए आए, दर्शकों की संख्या व टिकट के मूल्य में सुधार हुआ और फिल्म उद्योग के लिए राजस्व बढ़ा।

ब्रांड की विरासत की सराहना करते हुए, श्री अजय बिजली, चेयरमैन एवं मैनेजिंग डायरेक्टर, पीवीआर लिमिटेड ने कहा, ‘‘नए अनुभव एवं अभिनवताओं का निर्माण पीवीआर के डीएनए में है, जो हमारे हर प्रयास द्वारा प्रदर्शित हुआ है। हमारी विरासतपूर्ण प्रॉपर्टी का दर्शकों के लिए दोबारा खुलना एक गर्व का क्षण है। दर्शक इसका बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। पीवीआर साकेत हमारे दिल से जुड़ा है क्योंकि यह भारत में हमारा पहला मल्टीप्लेक्स था, जहां से इस नवजात उद्योग में हमने अपनी सीख व कौशल प्राप्त किए। यहां से मूवी एक्जि़बिशन के क्षेत्र में पीवीआर का सफर शुरू हुआ। हमने अपनी संपूर्ण प्रॉपर्टी को अल्ट्रा-मॉडर्न विशेषताओं द्वारा मजबूत किया है, ताकि आज के परिपक्व दर्शकों की अपेक्षाओं को पूरा किया जा सके। सिनेमा आउट-ऑफ-होम एंटरटेनमेंट का सबसे सस्ता रूप है और यह समय की कसौटी पर खरा उतरा है। हम आज भी अपने प्रशंसकों को मूवी देखने का उत्तम अनुभव प्रदान कर रहे हैं मूवीप्रेमियों के मन में दबी हुई भारी मांग के साथ, हम अपने स्वच्छ व सुरक्षित सिनेमा में उनका स्वागत करने और मूवी देखने जाने की उनकी आदत को पुनः स्थापित करने के लिए उनका भरोसा फिर से स्थापित करने के लिए तैयार हैं।’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘कोरोना महामारी के असर को हमारे दिमाग से निकलने में समय लगेगा, लेकिन हमें उम्मीद है कि 2021 दर्शकों के लिए बड़े पर्दे के मनोरंजन का वैभव वापस लेकर आएगा। वो लंबे समय से अपने घर पर मनोरंजन प्राप्त कर रहे हैं और इस अनुभव से वंचित हैं। पीवीआर साकेत अपनी पिछली प्रतिष्ठा को फिर से जीवंत कर अपने गतिमान एवं खुशनुमा वातावरण के साथ दर्शकों का मनोरंजन करता रहेगा। अपनी छोटी सी शुरुआत की ओर जब हम देखते हैं, तो भारत में ब्रांड की पहुंच मजबूत करने के लिए कठोर परिश्रम करने के लिए पीवीआर परिवार की पीठ थपथपाते हैं। हम अपने प्रशंसकों के आभारी हैं, जिन्होंने विकसित होती रुचि व रूझान को पूरा करने में नए मानक स्थापित करने के लिए हमें प्रेरित व सहयोग किया।

मल्टीप्लेक्स व्यवसाय, सिनेमा एक्जि़बिशन उद्योग का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और यह रोजगार के सृजन में भारी योगदान देता है, जो 1000 लोगों की नियुक्ति कर उन्हें प्रशिक्षण देता है एवं उनके जीवन स्तर में सुधार करता है। भारतीय सिनेमा में आई सबसे बड़ी क्रांति के साथ आज मल्टीप्लेक्स भारत के बड़े शहरों में काफी वृद्धि तथा बढ़ते शहरीकरण एवं बढ़ती आय के साथ छोटे शहरों में काफी विस्तार कर चुके हैं। नव निर्मित मल्टीप्लेक्स का उद्देश्य देश की राजधानी में मूवीप्रेमियों को मूवी देखने का सबसे खास अनुभव प्रदान करना है। यह मल्टीप्लेक्स बेहतर ऑडिटोरियम, खूबसूरत फोयर, ज्यादा क्रियाशील कंसेशनल एरिया, साफ-सुथरे वॉशरूम्स के साथ आधुनिक मल्टीप्लेक्स के मानकों के अनुरूप पुनः डिज़ाईन किया गया है। बदलते समय के अनुरूप, पीवीआर साकेत को सेगमेंट की सर्वश्रेष्ठ इन-सिनेमा टेक्नॉलॉजी के साथ तैयार किया गया है, यह दिल्लीवासियों को मूवी देखने का दिलचस्प अनुभव प्रदान करती है। मुख्य फोयर के क्षेत्र की खूबसूरती अद्वितीय थीम की ‘लीगेसी वॉल’ बढ़ाती है, जो पीवीआर साकेत खुलने के बाद से यहां पर दिखाई गई ब्लॉकबस्टर फिल्मों का चित्रण करने के लिए बनाई गई है। मुख्य फोयर की सीलिंग और वॉल पर विशाल व लगातार चलने वाली एलईडी स्क्रीन पीवीआर में आने वाले प्रशंसकों को डाइनामिक और यादगार मल्टीमीडिया अनुभव प्रदान करती है। इस प्रॉपर्टी में सीढि़यों, मुख्य फोयर एवं अन्य क्षेत्रों में अनेक फ्रेम का कस्टम आर्ट डेको आर्टवर्क है, जो ‘पुर्नजागरण’ की थीम से प्रेरित है। यह भारतीय सिनेमा और हॉलिवुड के महान अभिनेताओं एवं अभिनेत्रियों का चित्रण करता है। इस लॉन्च के साथ पीवीआर सिनेमा ने दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में अपनी पहुंच को 35 प्रॉपर्टी में 155 स्क्रीन और उत्तर भारत की 60 प्रॉपर्टी में 265 स्क्रीन के साथ पुनः स्थापित किया है।

पीवीआर साकेत में 4-स्क्रीन के सिनेमा थिएटर अनुभव के साथ बेहतरीन इंटीरियर और अंतर्राष्ट्रीय डिज़ाइन पैटर्न है। यह 745 लोगों के बैठने की क्षमता के साथ आधुनिक व प्रीमियम इंटीरियर में डिज़ाइन किया गया है। इसके सबसे बड़े ऑडिटोरियम में 302 दर्शक बैठ सकते हैं और सबसे छोटे ऑडिटोरियम में 93 दर्शक बैठ सकते हैं। सभी ऑडिटोरियम में ज्यादा चौड़ाई और ज्यादा लेगरूम के साथ सीटिंग की व्यवस्था की गई है, ताकि मूवी देखने का आरामदायक अनुभव मिले। लेदरेट अपहोल्स्टरी, यूएसबी चार्जर, डाईन-इन की सुविधा के लिए स्विवेल टेबल और संपूर्ण आराम के लिए रिक्लाईनिंग मोटर मैकेनिज़्म के साथ उच्च क्वालिटी एवं आधुनिक डिज़ाइन के रिक्लाईनर प्रीमियम अनुभव प्रदान करते हैं। इन ऑडिटोरियम्स में क्रिस्टी 4के प्रोजेक्टर हैं, जो अल्ट्रा-हाई रिज़ॉल्यूशन, सबसे क्लीन, सबसे शार्प एवं सबसे ब्राईट इमेज प्रदान करते हैं। इन ऑडी में हार्कनेस की क्लारस एवं पर्लक्स स्क्रीन लगी हैं, जो दुनिया की एक प्रमुख स्क्रीन टेक्नॉलॉजी कंपनी है। जहां क्लारस स्क्रीन व्यंईंग के ज्यादा रोचक और आकर्षक अनुभव के लिए ज्यादा गहरा 3डी कंटेंट निर्मित करती हैं, वहीं पर्लक्स स्क्रीन शानदार ब्राईटनेस, अल्ट्रा-वाईड व्यूईंग एंगल, बेहतर यूनिफॉर्मिटी एवं बेहतर कलर के साथ श्रेष्ठ प्रेज़ेंटेशन क्वालिटी प्रदान करती हैं। सराउंड साउंड के अतुलनीय अनुभव के लिए इस प्रॉपर्टी में एडवांस्ड इमर्सिव इन-थियेट्रिकल टेक्नॉलॉजिकल समाधान, जैसे प्रो-रिबन एचएफ के साथ डॉल्बी एटमॉस साउंड हैं। यह कॉम्बिनेशन हाई वॉल्यूम लेवल पर भी बेहतरीन इंटैलिजिबिलिटी एवं बिना किसी डिस्टॉर्शन के क्रिस्टल-क्लियर, हाई-डेफिनिशन इमर्सिव ऑडियो प्रदान करता है।

खाने के शौकीनों को स्वाद का अद्वितीय अनुभव देने के लिए पीवीआर साकेत के शेफ्स ने मूवी के पारंपरिक स्नैक की जगह आधुनिक क्विज़ीन प्रस्तुत किया है। सिनेमा के आम व्यंजनों के अलावा, दो मंजिलों पर फैले आइलैंड शो किचन ग्राहकों को रोलिंग पिज़्ज़ा या पास्ता और पैन सियरिंग व्यंजनों के साथ ग्राहकों को विशेषज्ञों द्वारा निर्मित खास व्यंजन प्रस्तुत करते हैं। हंसते-बोलते रहने वालों में लिए यहां पर स्टीम्ड एडामाम है, वहीं चाईनीज़ प्रेमियों के लिए डिम सम है। हैंड प्रेस्ड बर्गर इस अनुभव को और ज्यादा खास बना देते हैं, जो भारतीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्वाद के मिश्रण से प्रेरित हैं। इसके अलावा क्योरेटेड इंटरनेशनल मील बाउल्स भी हैं।

पीवीआर राज्यों व केंद्रशासित प्रांतों की अनुमति से हाल ही में चरणबद्ध रूप से दोबारा खुलना शुरू हुआ है। यहां पर 100 प्रतिशत स्टाफ वैक्सीनेटेड है। पीवीआर में सूचना व प्रसारण मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुरूप हाईज़ीन, सोशल डिस्टैंसिंग एवं अन्य एसओपी के कठोर प्रोटोकॉल्स का पालन होता है। ई-वॉलेट्स द्वारा डिजिटल भुगतान के अलावा, मूवी टिकटिंग को भी पेपरलेस कर दिया गया है। क्यूआर कोड्स को स्कैन करके ग्राहक अपने फोन द्वार सिनेमा में प्रवेश कर सकते हैं। आप कतार में लगने और कन्सेशन काउंटर पर वेटिंग टाईम से बचने के लिए पीवीआर ऐप से मील्स प्रि-बुक कर सकते हैं। स्पर्श में आने वाली अधिकांश सतहों पर एंटी-माईक्रोबियल फिल्म की कोटिंग और हॉस्पिटल-ग्रेड के वायरुसाईड से हर टचप्वाईंट का हर घंटे डिसइन्फेक्शन, सभी फूड पैकेजिंग को स्टरलाईज़ करने के लिए यूवी कैबिनट का इस्तेमाल यहां के मानक सुरक्षा प्रोटोकॉल्स में शामिल हैं, जिनका पालन किया जाता है। इस मल्टीप्लेक्स प्रॉपर्टी की शुरुआत 1997 में की गई और अब इसे विरासत रखने वाली प्रॉपर्टीज़ में से एक के रूप में रेनोवेट किया गया है, जो पीवीआर के सफर का प्रदर्शन कर दिल्ली के युवाओं को आकर्षित करती है। शहर में विकसित होते दिल्लीवासियों के साथ पीवीआर साकेत दर्शकों को उनकी यादों में वापस ले जाएगा और उन्हें उस जगह की याद दिलाएगा, जहां से उन्हें मूवी से प्यार हुआ था। इस शुरुआत के साथ पीवीआर वित्तवर्ष 2021-22 में 72 शहरों (भारत व श्रीलंका) में 177 प्रॉपर्टीज़ में 849 स्क्रींस के साथ अपनी वृद्धि की गति को मजबूत कर रहा है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया