डेंगू मलेरिया के बाद अब स्क्रब टाइफस पसार रहा पैर

 

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 6 अक्टूबर 2021, ( के लाल) गौतम बुध नगर। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका से पहले बारिश के कारण मौसमी एलर्जी और इंफेक्शन तेजी से बढ़ रहा है। डेंगू, मलेरिया के बाद अब स्क्रब टायफस की चपेट में आने से लोग बीमार हो रहे हैं। यह वायरल बीमारी कोरोना से अलग है लेकिन इसके लक्षण कोविड-19 से मिलते जुलते हैं। ऐसे में मेट्रो अस्पताल के डॉक्टरों ने अधिक सतर्क रहने को कहा है। मेट्रो अस्पताल के सीनियर फिजिशियन  डॉ एस चक्रवर्ती  बताया कि सक्रब टाइफस माइट यानि कीड़े के काटने से होने वाला बुखार है। यह बुखार खतरनाक जीवाणु ओरिएंटिया त्सुत्सुगामुशी नामक जीवाणु की वजह से फैलता है। 

इससे लिवर, दिमाग और फेफड़ों में कई तरह का संक्रमण होने का खतरा रहता है। इसमें डेंगू की तरह प्लेटलेट्स की संख्या घटने लगती है। यह खुद तो संक्रामक नहीं है, लेकिन इसकी वजह से शरीर के कई अंगों में संक्रमण फैलने लगता है। यह संक्रमण उन जगहों पर जाने से बचना चाहिए जहां यह स्क्रब टायफस आम होता खासतौर से जंगली इलाकों है। यह कीड़ा घास, पौधों या ज्यादा नमी वाले स्थानों पर होता है। बीमारी का शुरुआती स्तर पर पता लगना बहुत जरूरी है। बीमारी का पता लगाने के लिए ब्लड टेस्ट किया जाता है, अगर इस बीमारी का समय पर इलाज नहीं किया जाए तो लंग्स, किडनी और लीवर पर भी इसका असर हो सकता है। समय रहते इलाज नहीं होने पर यह रोग गंभीर होकर निमोनिया का रूप ले सकता है। कुछ मरीजों में लीवर व किडनी ठीक से काम नहीं कर पाती जिससे मरीज बेहोशी की हालत में चला जाता है। 

स्क्रब टायफस के लक्षण:-

बुखार और ठंड लगना 

सिरदर्द, शरीर, जोड़ों, मांसपेशियों में दर्द 

दो हफ्ते के अंदर मरीज को 102-103 डिग्री फारेनहाइट बुुखार हो जाता है

कीड़े के काटने का गोल और ब्लैक मार्क निशान दिखता है, कई लोग में निशान नहीं दिखता

क्या बरतें सावधानी:-

शरीर को स्वच्छ रखें और हमेशा साफ कपड़े पहनें

मरीज को कम तला-भुना और लिक्विड डाइट लेना चाहिए

खेतों में काम करते समय हाथ व पैरों को अच्छे से ढककर रखें

घर के आस-पास घास या झाड़ियां न उगने दें और समय-समय पर सफाई करते रहें

घर के अंदर और बाहर जल जमाव न होने दें और कीटनाशकों का छिड़काव अवश्य करें

पहाड़ी इलाके, जंगल और खेतों के आस-पास यह कीड़े ज्यादा पाए जाते हैं। इसलिए इन जगह पर जाने से बचे।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया