प्रवासी कामगारों को लेकर सीटू कार्यकर्ताओं ने उप श्रम आयुक्त कार्यालय गाजियाबाद पर किया प्रदर्शन

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 9 अक्टूबर  2021ग़ाज़ियाबाद। प्रवासी मजदूरों के वेतन, रोजगार, जीविका, राशन, भोजन और आवास आदि मुद्दों को लेकर सीटू के राष्ट्रीय फैसले के अनुसार अभियान चलाकर सीटू गाजियाबाद के सीटू कार्यकर्ताओं द्वारा आज 8 अक्टूबर 2021 को उप श्रम आयुक्त कार्यालय गाजियाबाद पर धरना/प्रदर्शन कर माननीय श्रममंत्री भारत सरकार नई दिल्ली एवं माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार लखनऊ को संबोधित ज्ञापन उप श्रम आयुक्त श्री रवि श्रीवास्तव जी को दिया गया। 

ज्ञापन में अंतरराज्यीय प्रवासी कामगार अधिनियम 1979 को पुनः स्थापित करने और सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशों के अनुसार इसका प्रभावी कार्यान्वयन सुनिश्चित करने।* सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार 31 दिसंबर 2021 से पहले सभी प्रवासी कामगारों का पंजीकरण सुनिश्चित करने।* प्रवासी कामगारों को रोजगार देने वाले प्रतिष्ठानों का पंजीकरण करने।* महिला मजदूरों सहित प्रवासी मजदूरों को भी समान काम का समान वेतन सुनिश्चित कराने।* पूरे देश में वन नेशन वन राशन कार्ड को प्रभावी ढंग से लागू करने।* सभी प्रवासी मजदूरों को आश्रय/ मकान उपलब्ध कराने।* सभी प्रवासी कामगारों को सूखा राशन उपलब्ध कराने।* प्रमुख स्थानों जहां बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर निवास करते हैं पर सामुदायिक रसोई खोलने और जरूरतमंद प्रवासी मजदूरों के लिए मुफ्त भोजन उपलब्ध करवाने।* अपनी नौकरी गंवाने वाले सभी प्रवासी कामगारों को ₹7500 प्रति माह का नगद हस्तांतरण करने आदि मांगे की गई है। 

प्रदर्शनकारियों को सीटू जिला महासचिव कामरेड दिनेश मिश्रा कोषाध्यक्ष कामरेड श्री कृष्ण सिंह, बृजेश सिंह चौहान ने संबोधित किया अध्यक्षता कामरेड जी एस तिवारी के द्वारा की गई। प्रदर्शन में कॉमरेड जीत बहादुर सिंह, नरगिस बेगम, रुखसाना बेगम,जन्नत, कौशल, मंजू,आयशा, लीलावती, रुखसाना, नेत्रपाल, सोना देवी, शाहीन बेगम, रंजीत सिंह, तेजपाल, शंभू कन्हैया, वेदपाल, जयकुमार, सुशील चौधरी, रामराज, खड़क सिंह, वीरेंद्र,महावीर सिंह, अमित आदि सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ताओं/मजदूरों ने भाग लिया। 

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान