ग्राम उजाला मुद्दे पर सीईएसएल कंपनी की स्टेटमेंट

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 15 अक्टूबर  2021, नई दिल्ली। कन्वर्जेंस एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड (CESL) द्वारा कार्यान्वित की जा रही 'ग्राम उजाला योजना' (Gram UJALA Scheme) के तहत उपभोक्ताओं को 3 साल की वारंटी के साथ 7 वाट और 12 वाट के एलईडी बल्ब (LED Bulb) 10 रुपये प्रति बल्ब की दर से दिए जाते हैं। शेष राशि कार्बन क्रेडिट की बिक्री के माध्यम से वसूल की जाती है। CESL, एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (EESL) की 100 प्रतिशत सहायक कंपनी है। EESL ने दुनिया के सबसे बड़े गैर सब्सिडी एलईडी बल्ब वितरण कार्यक्रम "उजाला" (UJALA) को लागू किया था, जिसका शुभारंभ 5 जनवरी 2015 को माननीय प्रधानमंत्री द्वारा किया गया था। गौरतलब है की ग्राम उजाला योजना उजाला स्कीम का ही ग्रामीण विस्तार है। 

ग्राम उजाला योजना के तहत सीईएसएल ने उत्तर प्रदेश एवं बिहार राज्यों में लगभग 30 लाख एलईडी बल्ब सफलतापूर्वक वितरित किए हैं। इस परियोजना के तहत दिए गए एलईडी बल्बों का कितने उपभोक्ता इस्तेमाल कर रहे हैं, यह जानने के लिए  यादृच्छिक (Randomly) रूप से चयनित परिवारों में डेटा मीटर लगाए गए हैं। डेटा मीटर द्वारा कैप्चर बल्ब यूज करने के घंटों की संख्या का उपयोग पुराने बल्बों के स्थान पर एलईडी बल्बों के उपयोग से उत्पन्न कार्बन क्रेडिट की संख्या की गणना के लिए किया जाता है। डेटा मीटर घर में उपभोक्ता की सहमति से 90 दिनों की अवधि के लिए लगाया जाता है और इसके बाद डेटा मीटर हटा दिया जाता है। डेटा मीटर उस समय अवधि को कैप्चर करता है, जितने वक्त बल्ब चालू था। यह सूचना केंद्रीय सर्वर को वायरलेस रूप से मोबाइल नेटवर्क का उपयोग करके भेजी जाती है और इसलिए डेटा मीटर में सिम कार्ड की आवश्यकता होती है। उत्तर प्रदेश में डाटा मीटर लगाने का काम हमारी अधिकृत एजेंसी द्वारा 3 अक्टूबर 2021 को शुरू किया गया था।

इसलिए यह स्पष्ट किया जाता है कि एलईडी बल्ब की स्थापना के समय डेटा मीटर में इस्तेमाल किया गया सिम कार्ड एक वैध अभ्यास है और यह किसी भी प्रकार की अवैध गतिविधि नहीं है। हम स्थिति को स्पष्ट करने के लिए सक्षम प्राधिकारी के संपर्क में हैं और किसी भी तरह की अटकलों पर विराम लगाने के लिए तैयार हैं। एतद्द्वारा अनुरोध किया जाता है कि इस राष्ट्रीय पहल को किसी भी प्रकार की अवैध गतिविधि से न जोड़ें। सीईएसएल यह स्पष्ट रूप से रिकॉर्ड में रखना चाहता है कि ग्राम उजाला योजना से संबंधित आरोप निराधार और झूठे हैं। हम डेटा मीटर मैकेनिज्म के बारे में ज्यादा जागरूकता पैदा करने के लिए काम करेंगे। अतः अनुरोध है कि आम जनता ऐसी झूठी खबरों से घबराए नहीं ना ही उन पर विश्वास करें।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान