ऑप्टिमस फार्मा ने कोविड-19 औषधी मोलनुपिराविर का क्लिनिकल परीक्षण पूरा किया

 

◆ इलाज के दौरान दिन 5 और दिन 10 में उत्कृष्ट परिणाम मिले

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 3 नवम्बर  2021, मुंबई। ऑप्टिमस ग्रुप ने सफलतापूर्वक बहुप्रतीक्षित कोविड-19 औषधी मोलनुपिराविर ओरल कैप्सूल फ़ेज़ 3 का क्लिनिकल परीक्षण पूरा करने की घोषणा की है। 18 मई, 2021 को, ऑप्टिमस को भारत के औषधि महानियंत्रक से सीडीएससीओ, डीजीएचएस, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की विषय विशेषज्ञ समिति की सिफारिशों के अनुसार परीक्षण करने की मंजूरी मिली।

ऑप्टिमस फार्मा के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक डॉ. डी. श्रीनिवास रेड्डी ने कहा, “स्वदेशी रूप से विकसित फॉर्मूलेशन के साथ, ऑप्टिमस भारत सरकार की मेक इन इंडिया पहल में अपना विश्वास स्थापित करने की कोशिश करता है। हमारा उद्देश्य कोविड-19 के लिए एक अत्याधुनिक और किफायती उपचार विकल्प विकसित करने के साथ ही इलाज की न्यूनतम अवधि में बीमारी को बेअसर करना है। हम मोलनुपिराविर की आपूर्ति के लिए हम पर भरोसा करने वाले दुनिया के विभिन्न क्षेत्रों में फैले अपने व्यावसायिक भागीदारों का समर्थन करने के प्रति पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं। ऑप्टिमस ने आशाजनक परिणामों के साथ अंतिम नैदानिक परीक्षण रिपोर्ट प्रस्तुत की।

उन्होंने आगे कहा, “इन परिणामों से न केवल कोविड-19 को बेअसर करने के लिए नई उम्मीद जगी है, बल्कि इससे भारतीय केंद्रीय लाइसेंसिंग प्राधिकरण में हमारा विश्वास भी मजबूत हुआ है, जिसने एक निष्पक्ष और वैध परीक्षण सुनिश्चित की और आत्मनिर्भर दवा उद्योग के लिए आवश्यक सहायता दी। विकासशील परिदृश्य में, सीडीएससीओ एशिया में एक विश्वसनीय केंद्रीय लाइसेंसिंग प्राधिकरण के रूप में उभरा है जो फार्मास्युटिकल उद्योग में नवाचार और सख्त नियामक के साथ ही गुणवत्ता के अनुपालन को बढ़ावा दे रहा है।

ऑप्टिमस ग्रुप ने सबसे पहले केंद्रीय लाइसेंसिंग प्राधिकरण के पास मोलनुपिरराविर के तीसरे चरण के क्लिनिकल परीक्षण के लिए आवेदन किया था। ऑप्टिमस के क्लिनिकल परीक्षण के साझेदार, जेएसएस रिसर्च को शुरुआती स्तर पर परीक्षण पूरा करने का काम सौंपा गया था। देश की डेमोग्राफिक कैपिटल का लगभग 96% हिस्सा कवर करते हुए भारत भर में 29 अध्ययन जगहों के साथ, इस परीक्षण का उद्देश्य मानक उपचार विकल्पों की तुलना में मोलनुपिराविर की श्रेष्ठता साबित करने के साथ ही, भारत की जीन पूल विविधता में दवा के असर को भी साबित करना भी है। SARS-CoV-2 संक्रमण के प्रमुख इलाज को लेकर राष्ट्र की अधूरी चिकित्सा मांगों को पूरा करने के लिए, ऑप्टिमस कुशलतापूर्वक और प्रभावी ढंग से मोलनुपिराविर का विनिर्माण और वितरण सुनिश्चित करने के लिए अच्छी तरह से तैयार है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान