हमारा भारत विश्व गुरु था, अभी नहीं : एस .पी. सिंह बघेल

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 16 दिसंबर  2021, नई दिल्ली। राज्य मंत्री एस .पी. सिंह बघेल ने मंगलवार रात समेकित स्वास्थ्य के लिए दो दशकों से समर्पित संस्था आयुष्मान भारत न्यास द्वारा आयोजित आज़ादी के आरोग्य महोत्सव में चिकित्सकों को आईएसएच 2021 में संबोधित करते हुए कहा कि हमारा भारत विश्व गुरु था, अभी नहीं है लेकिन अब शीघ्र ही बनने वाला है। उन्होंने कोरोना महामारी के दौरान तमाम चिकित्सकों की अमूल्य सेवाओं का ज़िक्र करते हुए कहा कि भारतीय चिकित्सकों ने अपने समर्पण और सेवा से इस महामारी में लाखों भारतीयों के प्राण बचाकर अपना ईश्वरीय रूप दिखाया है।  अपनी रोचक और चुटीली शैली में जीवन के खट्टे-मीठे अनुभव को बयां करते हुए राज्यमंत्री श्री बघेल ने आयुष्मान भारत न्यास द्वारा विभिन्न क्षेत्रों के चिकित्सकों को उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए दिए गए ICH अवार्ड की तुलना पद्म अवार्ड से की। 

साथ ही ऐसे प्रयास के लिए आयुष्मान भारत न्यास के अध्यक्ष डॉ. बिपिन कुमार की जमकर सराहना की। उन्होंने कोरोना संकट के दौरान डॉक्टरों की भूमिका अहम बताते हुए कई चिकित्सकों के साथ के साथ कई जगहों पर होने वाले दुर्व्यवहार की निंदा की।  साथ ही उन्होंने चिकित्सकों को भरोसा दिलाया कि वो जल्द ही इस पर क़ानून लाने का प्रयास करेंगे जिससे कि  ऐसी घटनाओं पर विराम लगे। स्थानीय कॉन्स्टिट्यूशन क्लब के सभागार में आज़ादी के आरोग्य महोत्सव को संबोधित करते हुए "ग्रामीण विकास एवं इस्पात"राज्य मंत्री फगन कुलस्ते ने कहा कि भारतीय चिकित्सकों ने कोरोना संकट में जिस तरह मानव और मानवता की सेवा में चुनौतियों के जन-जन का उपकार किया है  प्रशंसनीय व स्तुत्य है। 

उन्होंने भविष्य में भारत में समेकित स्वास्थ्य को बचाने और बढ़ाने की बात कहते हुए आगे भी भविष्य में चिकित्सकों द्वारा नए- नए अनुसंधान करने पर बल दिया।  जन-स्वास्थ्य संरक्षण को समर्पित  संस्था 'आयुष्मान भारत न्यास'के  इस कार्यक्रम में साथ विशिष्ट चिकित्सकों डॉ.अखिलेश शर्मा डॉ. शारिका मेनन,डॉ.वाई. के. गुप्ता डॉ. रमा जय सुंदर, डॉ. डीसी जैन व डॉ. जुगल किशोर के पैनल द्वारा "वैश्विक समेकित स्वास्थ्य व आम जन के स्वास्थ्य संकट  और समाधान पर खुले मंच पर चर्चा की। साथ ही दिल्ली एनसीआर के साल 2020 - 21 के लिए आयुष्मान भारत न्यास द्वारा स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्यों के लिए क़रीब "37 चिकित्सकों" को मंत्रियों के हाथों स्मृति चिन्ह ,शॉल द्वारा सम्मानित किया गया। 

आरंभ में संस्था के अध्यक्ष डॉ. विपिन कुमार ने अतिथियों का भावभीना स्वागत किया  व "संस्था की भविष्य की जन स्वास्थ्य संबंधी योजनाओं का ज़िक्र करते हुए सभी चिकित्सकों से आव्हान किया कि वे संस्था से जुड़कर देश में जन-जन को स्वस्थ बनाने में सहयोग करें।'' इस अवसर पर महिला एवं बाल कल्याण विभाग के निदेशक -आईएएस डाॅ. रश्मि सिंह ने विशेष तौर पर महिलाओं के पोषण, स्वास्थ्य और जीवन स्तर की सभी का ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि जीवन में तन,मन और आत्मा का स्वस्थ रहना बेहद आवश्यक है। आरोग्य महोत्सव में विशिष्ट अतिथि डॉ. अजय त्यागी डॉ. नीता कुमार ने भी संबोधित किया। 

महोत्सव में साहित्यकार मंजूषा रंजन की सद्य प्रकाशित  काव्य कृति स्वर्णिम भारत प्राण जगत के'' का लोकार्पण राज्य मंत्री श्री एस. पी. सिंह बघेल ने किया। मंजूषा रंजन ने अपनी पुस्तक की कुछ कविताओं का वाचन कर भारतीय संस्कृति और राष्ट्र प्रेम का शब्दांकन किया। समारोह का संचालन उदयपुर से आई पत्रकार व कवयित्री डॉ. शकुंतला सरूपरिया ने किया । संस्था की ओर से कारगिल युद्ध रहे कर्नल राजीव रंजन ने धन्यवाद की रस्म अदा की। समारोह में सन 2020 और 21 के लिए कुल 37 में से प्रमुख रूप से सम्मानित होने वाले चिकित्सकों में एम्स के सुप्रसिद्ध डॉ. संजय कुमार राय, डॉ. सुभाष गिरी, डॉ. नबजीत तालुकेदार, डॉ विवेक चतुर्वेदी, डॉ. माला श्रीवास्तव, डॉ. नीता कुमार, अनु कपूर डॉ. राजीव कुमार, डॉ. संतोष कुमार अग्रवाल, डॉ.उमेश शर्मा, डॉ. अनुपम श्रीवास्तव, डॉ. शारिका मेनन व रेजी थॉमस शामिल थे। 

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया