ध्यान का उद्देश्य ही आत्मसाक्षात्कार है : मनमोहन वोहरा

◆ अखिल भारतीय ध्यान योग संस्थान ने पूर्व अध्यक्ष श्री भोपाल सिंह जी की 13वीं पुण्य तिथि पर किया ध्यान योग शिविर का आयोजन

शब्दवाणी समाचार, सोमवार 24 जनवरी  2022, गाजियाबाद। अखिल भारतीय ध्यान योग संस्थान पंजीकृत द्वारा आर्य समाज गांधी नगर में एवं ऑनलाइन जूम पर संस्थान के पूर्व अध्यक्ष श्री भोपाल सिंह जी की 13 वीं पुण्य तिथि पर ध्यान योग शिविर का आयोजन किया गया। श्री भोपाल सिंह जी ने निष्काम एवं निस्वार्थ भाव से हमारे योग संस्थान को निरंतर प्रगति के पथ पर अग्रसर किया। उन्होंने हमारे संस्थान की नींव के रुप में कार्य किया, उनकी प्रेरणा से आज हमारा संस्थान मानव स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए निरंतर आगे बढ रहा है। 

श्री चतर कुमार जी ने ओ३म् की ध्वनि और गायत्री मंत्र से सत्र को प्रारंभ किया।संस्थान के वरिष्ठ उपाध्यक्ष श्री अशोक शास्त्री जी ने सभी साधकों को हाथों पैरों के सूक्ष्म व्यायाम,प्राणायाम,अनुलोम विलोम,उज्जेई,भ्रामरी व नाड़ी शोधन का अभ्यास कराया और उसके लाभों की चर्चा की। संस्थान के उपाध्यक्ष श्री मनमोहन वोहरा ने साधकों को ध्यान मुद्रा मे बैठाकर मन को नियंत्रित करने वाला मंत्र ओ३म् का श्वांस प्रश्वांस गुंजार कराया और आती जाती श्वासों पर ध्यान केन्द्रीत कराया, प्राण ऊर्जा का नासिका से कंठ तक,कंठ से नाभी तक आरोहण अवरोहण पर ध्यान केन्द्रीत कराया जिससे सभी को परम शांति का अनुभव हुआ।उन्होंने कहा कि ध्यान का उद्देश्य ही आत्मसाक्षात्कार है।

पांचों ज्ञानेंद्रियां अंतर्मुखी हो जाती हैं।पांचों इन्द्रियों का संयम ही प्रत्याहार है।चिदाकाश पर ज्योति की कल्पना का अनुभव,प्रकाश के साथ एकाकार,विचार शून्य स्थिति और आनंद का अनुभव कराया।उन्होंने बताया कि हृदय संबंधी समस्याओं से जूझ रहे लोगों के लिये नियमित ध्यान बेहद मददगार साबित होता है।मानसिक चंचलता और अस्थिरता पर नियंत्रण होता है। सर्वश्री राजेश शर्मा, पूर्व महामंत्री श्री देवेन्द्र हितकारी एवं श्री चरत कुमार जी स्व भोपाल सिंह जी की पुण्य तिथि पर अपने श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए प्रेरणादायी स्मरण सुनाए जिसे सुनकर श्रोतागण भाव विहोर हो गये। मंच का कुशल संचालन यशश्वी अध्यक्ष श्री केके अरोड़ा ने किया उन्होंने शिविर में फिजिकली और ऑनलाइन भाग लेने पर साधकों का आभार व्यक्त किया और कहा कि योग हमारे मन मस्तिष्क को ठीक करता है,इससे हम तनाव मुक्त रहते हैं।

ऑनलाइन शिविर संयोजक प्रदीप त्यागी ने कहा कि ध्यान साधना से एकाग्रता आती है। संस्थान के उपाध्यक्ष श्री राजेश शर्मा ने वैदिक प्रार्थना व शांतिपाठ के साथ कार्यक्रम सम्पन्न कराया। इस अवसर पर मुख्य रूप से सर्वश्री रतन लाल गुप्ता,सीए के के कोहली,हरिओम सिंह, डा.विजय गुप्ता,विजय नगर से डा.आर.के. अग्रवाल,श्रीमती वीना वोहरा,गोविंदपुरम से संदीप रुहेला,राज सिंह जी,प्रमोद कुमार शर्मा एवं श्रीमती सीमा गोयल, दयानन्द शर्मा,प्रवीण आर्य आदि उपस्थित रहे।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया