ARTPARK ने इंजीनियरिंग कॉलेज और यूनिवर्सिटीज मे जेनिटर रोबोटिक्स चैलेंज लॉन्च किया

◆ इस संगठन ने रोबोटिक्स चैलेंज के फाइनल राउंड के लिए पहले ही चार टीमों को चुन लिया

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 22 फरवरी  2022, बेंगलुरु। बेंगलुरु में गैरलाभकारी संगठन, एआई और रोबोटिक्स टेक्‍नोलॉजी पार्क (ARTPARK) ने भारत में रोबोटिक्स सेक्टर के विकास का इकोसिस्टम बनाने के स्पष्ट लक्ष्य के साथ रोबोटिक्स चैलेंज लॉन्च किया है। ARTPARK रोबोटिक्स चैलेंज पूरी तरह ARTPARK के मिशन के साथ मिलकर रोबोटिक्स इकोसिस्टम को समर्थन देता है, उसका पोषण करता है और निर्माण करता है। इस मिशन का उद्देश्य भारत को रोबोटिक्स के निर्माण और इससे जुड़ी तकनीक में ग्लोबल लीडर बनाना है।

सर्विस इंडस्ट्री लगातार बढ़ती हुई श्रम लागत से जूझ रही है। जिसमें बेहतर परफॉर्मेंस के मानकों के स्तर और कर्मचारियों में उत्साह की काफी कमी दिखाई देती है। इन सबके बावजूद मेहनती सर्विस प्रोवाइडर रोजाना मार्केट में अलग-अलग सर्विसेज के मानक की जांच करने और अपनी सर्विस को सर्वश्रेष्ठ साबित करने की लड़ाई लड़ रहे हैं। इन चुनौतों का निपटारा अब रोजमर्रा के कामों को स्वचालित कर किया जा सकता है। इससे कर्मचारियों के जीवनस्तर में सुधार आता है। केवल ऑटोमेटेड टेक्‍नोलॉजी को तैनात कर इन सभी उद्देश्यों की प्राप्ति की जा सकती है।

इस रोबोटिक्स चैलेंज के तहत ARTPARK में अगले चरण के लिए 27 टीमों का चयन किया गया है। इसमें से चार टीमें, सरबेरेसस ग्रिफफाइंडोर्स, गीगा रोबोटिक्स और रोबो ज्योतिन्स पहले ही फाइनल राउंड में पहुंच गई हैं। इस चैलेंज में रोबोट्स को साफ-सफाई से संबंधित सभी कार्यों का प्रदर्शन करने की जरूरत पड़ेगी, जो मुख्य रूप से वॉशरूम या बाथरूम में किए जाते हैं। इस चैलेंज में रोबोट का काम केवल किसी भी तरह की गंदगी की सफाई का होगा। यह गंदगी जमीन पर भी हो सकती है, जिसके बाद सेनिटाइजिंग लिक्विड से वॉशबेसिन और वॉश बेसिन काउंटर की सफाई की जाएगी। 

इसमें मुख्य रूप से जो तकनीकी चुनौतियां सामने आएंगी। इसमें उचित सेंसर्स का इस्तेमाल कर स्वतंत्र या स्वायत्त रूप से वॉशरूम और उसके आसपास की जगहों का सटीक मैप बनाना शामिल है, इन चुनौतियों में रोबोटिक्स प्लेटफॉर्म को डिजाइन करना और गंदगी किस दिशा में है, इसे खोजने की व्यवस्था करना, गंदगी उठाना, झाड़ू लगाने का काम करना और अनुमान और धारणा के आधार पर एलॉगरथिम बनाना भी शामिल है। इससे गंदगी वाले जगहों की पहचान करना, जगह का अनुमान लगाना और वॉशरूम में विभिन्न वस्तुओं को सही जगह पर रखना शामिल है। रोबोट को समय रहते सफलतापूर्वक गंदगी का तलाश करने का थोड़े समय के लिए मौका दिया जाएगा, जिससे रोबोट वातावरण और माहौल का मूल्यांकन कर गंदगी को साफ करने और कूड़ा-करकट को दूर हटाने में इसका प्रतिनिधित्व कर सके।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच