बोन्ज़ोर इंडिया 19 शहरों में 100 दिनों में 100 से ज्यादा ईवेंट्स के साथ भव्य शुरुआत

◆ ईवेंट्स में फोटोग्राफी प्रदर्शनी, लाईव परफॉर्मेंस, सिनेमेटिक गैस्ट्रोनोमिक अनुभव, आधुनिक सर्कस एक्ट, वैज्ञानिक प्रदर्शनी आदि होंगे

◆ भारत की स्वतंत्रता की 75वीं सालगिरह पर फ्रांस की ओर से भारत के नागरिकों को उपहार, बोन्ज़ोर इंडिया

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 29 मार्च 2022, नई दिल्ली। कलात्मक, सांस्कृतिक, शैक्षणिक, एवं साहित्यिक फेस्टिवल, बोन्ज़ोर इंडिया भारत एवं फ्रांस के बीच गठबंधन की खुशी मना रहा है। फ्रांस के दूतावास एवं इसके सांस्कृतिक विभाग, इंस्तित्युत फ्रांसेज़ आँ इंदी की यह पहल तथा अलायंसेज़ फ्रांसेज़ के नेटवर्क और कॉन्सुलेट जनरल ऑफ फ्रांस के साथ, यह फेस्टिवल भारतीयों को इन गर्मियों के दौरान 19 शहरों में 120 क्योरेटेड एवं सहयोगात्मक ईवेंट्स प्रस्तुत करेगा। देश में इस फेस्टिवल का उद्घाटन भारत में फ्रांस के एम्बेसडर, महामहिम श्री इमैन्युअल लेनेन ने नई दिल्ली में रेसिडेंस ऑफ फ्रांस में किया। इस ईवेंट में श्री अयमर दि लियेदेकेर्के बोफो, हेड ऑफ टेरिटरी, इंडिया एवं हेड ऑफ कॉर्पोरेट एंड इंस्टीट्यूशनल बैंकिंग (सीआईबी), इंडिया, बीएनपी पैरिबास इंडिया, मिस स्वाति जानू, फाउंडर - सोशल डिज़ाईन कोलाबोरेटिव, एवं श्री गेल दे केरगेनेक - डायरेक्टर ऑफ अलायंस फ्रांसेज़, अहमदाबाद भी उपस्थित थे।

इस साल, बोन्ज़ोर इंडिया का मैस्कट एंटोनी दे सेंट-एग्ज़ुपरी की किताब से द लिटिल प्रिंस है, जो दोस्ती का प्रतीक है। जब भी भारत में लोग फ्रांसीसी साहित्य के बारे में सोचते हैं, तो द लिटिल प्रिंस दिमाग में आने वाली पहली किताबों में से एक है। दुनिया की सबसे ज्यादा अनुवादित की गई इस गैर-धार्मिक किताब का 13 भारतीय भाषाओं में अनुवाद किया गया है। बोन्ज़ोर इंडिया की शुरुआत कुछ आकर्षक ईवेंट्स के साथ हुई, जिसमें पुणे में ट्रिप टू फ्रांस, 1970 प्रदर्शनी में 1970 के फ्रांस के फोटोग्राफ दिखाए गए, जो श्री परमानंद दलवाडी ने लिए थे। मुंबई में एस. थाला ने एनेट लेडे द्वारा डांस परफॉर्मेंस से दर्शकों को मोहित कर दिया। अहमदाबाद में कन्वर्जेंस ने प्रदर्शित किया कि फोटोग्राफी की खोज के बाद से फ्रेंच फोटोग्राफर्स ने भारत को कैसे देखा है। नई दिल्ली के लोधी गार्डन में ए ट्विस्ट ऑफ फेट के द्वारा, बच्चों और व्यस्कों को विशाल रंगबिरंगे पपेट्स द्वारा अभिनीत प्ले देखने को मिला। अन्य ईवेंट्स में लेट्स डांस! फिल्म फेस्टिवल, रिक-शो और कैफे-सिनेमा थीं।

इस फेस्टिवल के बारे में एम्बेसडर इमेन्युअल लेनेन ने कहा, ‘‘बोन्ज़ोर इंडिया अद्वितीय इसलिए है क्योंकि इसकी ईवेंट्स विशाल भारतीय दर्शकों की अपेक्षाएं पूरी करने के लिए बहुत विस्तृत हैं। ये ईवेंट्स न केवल हजारों लोगों का मनोरंजन करती हैं, बल्कि त्योहारों का जोश उत्पन्न कर दो सालों के प्रतिबंधों के बाद लोगों को एक साथ भी लाती हैं। भारत की स्वतंत्रता के 75 साल और हमारी जीवंत भारत-फ्रेंच मित्रता की खुशी मनाने का सबसे अच्छा तरीका है कि इन ईवेंट्स में शामिल हुआ जाए। बोन्ज़ोर इंडिया ईवेंट्स में शामिल हुआ विशाल जनसमूह इस अभियान की सफलता के बारे में बहुत कुछ कहता है। एक पखवाड़े में ही हम ऑफलाईन और ऑनलाईन, सैकड़ों लोगों तक पहुंच चुके हैं। आने वाले हफ्तों और महीनों में, हमें उम्मीद है कि हम भारत के 19 शहरों में 120 ईवेंट्स द्वारा और ज्यादा लोगों को आकर्षित करेंगे। बोन्ज़ोर इंडिया की ईवेंट्स हर उम्र व हर पृष्ठभूमि के व्यक्ति के लिए खुली हैं और ये सुलभता बढ़ाने के लिए सार्वजनिक स्थानों पर स्थित होती हैं। ज्यादातर ईवेंट्स निशुल्क हैं। यह फेस्टिवल सार्थक वार्ताओं और मैत्रीपूर्ण बहस द्वारा दर्शकों का मनोरंजन करने, उन्हें समृद्ध बनाने, और संलग्न करने के लिए है।

बोन्ज़ोर इंडिया को सहयोग व निधि फ्रांस की सरकार से मिलते हैं, लेकिन फेस्टिवल को भारत एवं फ्रांस के निजी व सार्वजनिक क्षेत्र के अनेक साझेदार सहयोग व योगदान देते रहे हैं। इसने फेस्टिवल को समृद्ध बनाने तथा विस्तृत समुदायों को एक साथ लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। लोगों को साथ लाने के संस्कृति के गुण एवं कला की शक्ति और भारत-फ्रांस संबंधों की शक्ति में अपने दृढ़ विश्वास के कारण खासकर मौजूदा एडिशन के लिए बीएनपी परिबास, पेर्नोद रिकर्ड, एयरबस, जेएसडब्लू ग्रुप, सेंट गोबिन, टाटा संस, गोदरेज सैफरैन, एकोर, ओम बुक्स इंटरनेशनल, चौधरी, न्यूमेरो, बीरा91, ला’ओपेरा आदि जैसे अनेक छोटे व बड़े उद्यम एवं ब्रांड्स ने साथ आकर मौजूदा संस्करण में अपना सहयोग दिया है। वो बोन्ज़ोर इंडिया के अंग हैं और भारत-फ्रांस कूटनीतिक संबंधों तथा भारत में स्वतंत्रता के 75वें वर्ष पूरे होने के अभूतपूर्व अवसर के इस जश्न में शामिल होना चाहते हैं। ईवेंट में श्री अयमर दे लियेदेकेर्के बोफो ने कहा, ‘‘बीएनपी पारिबास को बोन्ज़ोर इंडिया 2022 का प्रेज़ेंटिंग स्पॉन्सर होने पर गर्व है। बीएनपी पारिबास उन प्रयासों एवं अभियानों का ठोस समर्थक है, जो संस्कृति एवं शिक्षा, और इस इंडो-फ्रेंस अभियान को प्रोत्साहित करते हैं। यह दोनों देशों और यहां के लोगों के बीच मजबूत संबंध का प्रमाण है, जो हमारे लिए स्वाभाविक रूप से उत्तम है।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा