किसानों को सही फसल चुनने में मदद करने के लिए ऐप बनाया

 

◆ तमिलनाडु में 15 वर्षीय लड़के ने मिट्टी के प्रकार और जलवायु परिस्थितियों के आधार पर 

शब्दवाणी समाचार, रविवार 20 मार्च 2022, तमिलनाडु। तमिलनाडु के तिरुवन्नामलाई के एक 15 वर्षीय लड़के अरविंद ने अपने कृषि प्रधान शहर में अक्सर किसानों को कम फसल की पैदावार के बारे में चिंता करते देखा है, जो अक्सर या तो गलत फसल के चयन के कारण होता है या फिर गलत किस्म के बीजों का उपयोग करने से होता है। इन किसानों की सहायता करने के लिए अरविंद ने 'गोल्डन क्रॉप' नामक एक ऐप विकसित करने का फैसला किया जो किसानों की कई फसलों में से, उचित फसल का चयन तथा इससे संबंधित कई पहलुओं पर मार्गदर्शन करता है एवं उन्हें मिट्टी के प्रकार को समझने में भी सहायता करता है। यह ऐप उन फसलों की खेती का सुझाव देता है जो उस जगह की मिट्टी के प्रकार के साथ मिलती-जुलती हैं, साथ ही जलवायु परिस्थितियों की पहचान करके भौगोलिक स्थान के लाभ का उचित विकल्प प्रदान करता है, जिस कारण किसान अपने खेत से बेहतर उपज प्राप्त कर सकता है। इसके अलावा यह ऐप फसल की कटाई के लिए आवश्यक दिनों का सही मूल्यांकन कर, उपयोगकर्ता को अपनी फसल का उचित बाजार मूल्य समझने में सहायता करता है। 

इसके अलावा, ऐप किसानों को मिट्टी का परीक्षण करने की अनुमति देता है और उपयोगकर्ता को सीधे स्थानीय सॉयल टेस्टिंग प्रयोगशालाओं से जोड़ता है जिससे किसानों को सही फसल चयन करने में मदद मिलती है। 'योर क्रॉप' फीचर का उपयोग करके, किसान अपनी फसलों पर नज़र रख सकते हैं और अपनी फसल से जुड़ी हुई, आने वाली अगली महत्वपूर्ण घटना के बारे में  उन्हें पहले से ही एप द्वारा सूचना मिल जाती है। अपनी फसल की तुलना एक स्वस्थ फसल की इमेज से करके, किसान अपनी फसल के स्वास्थ्य की जांच कर सकते हैं। यह ऐप वर्तमान में कार्य कर रहा है इसे अरविंद द्वारा नियमित तौर पर अपडेट किया जाता है जिस कारण किसानों को एप की सारी सुविधाएं ठीक से मिलती रहती हैं। ऐप के अंदर मौजूद इनबिल्ट फीचर के द्वारा अरविंद को किसानों से सीधे फीडबैक प्राप्त होता है जो उन्हें इस ऐप को और भी परिष्कृत करने में सहायता कर रहा है। अरविंद जल्दी ही किसानों के लिए इस ऐप को उनके स्थानीय क्षेत्रीय भाषाओं में उपलब्ध कराएंगे। 

एप के बारे में बताते हुए, वाइटहट जूनियर छात्र अरविंद ने कहा, "मेरा हमेशा से यही सपना था कि मैं एक ऐसी कंपनी बनाऊं जो हमारे दिन प्रतिदिन जीवन की समस्याओं का समाधान करे। मेरा यह सपना व्हाइटहैट जूनियर से जुड़ने के बाद अब सरकार हो गया है। मैंने अपनी कंपनी का नाम 'आईएनबीओ (INBO)' रखा है जो कि भारत को इंद्रधनुष की तरह अद्वितीय एवं आकर्षक बनाने के बारे में  मेरी सोच है। मेरा बचपन किसानों के आस-पास ही गुजरा है और मैंने अक्सर उन्हें अपनी समस्याओं के बारे में बात करते सुना है। 'गोल्डन क्रॉप' मेरा एक छोटा सा प्रयास है ताकि हमारे किसान अपनी फसल से बेहतर उपज अर्जित कर सकें और एक बेहतर जीवन जी सकें। भविष्य में, मैं इस ऐप में और भी सुविधाएं जोड़ता रहूंगा। मुझे पूरी उम्मीद है, जहां मैं रहता हूं वहां के किसान इस ऐप के जरिए बेहतर उपज पा सकेंगे। 

व्हाइटहैट जूनियर में अरविंद के मेंटर नीलकांतन एस ने कहा, “अरविंद ने मुझे अपनी गहरी और व्यावहारिक टिप्पणियों से प्रभावित किया। सार्थक योगदान देने के उनके उत्साह और रिएक्ट नेटिव को सीखने में पूरी प्रतिबद्धता ने उपयोगकर्ताओं के लिए बेहद अनुकूल लेकिन एक जटिल एप्लीकेशन बनाने में मदद की है। कोडिंग प्रोजेक्ट के रूप में जो शुरू हुआ, वह जल्द ही किसान समुदाय के लिए एक समस्या-समाधान ऐप में बदल गया। तकनीकी चुनौतियों के अलावा, अरविंद को शोध कार्य में बाधाओं का सामना करना पड़ा। महामारी के बीच, उनके लिए फील्ड रिसर्च करना और जानकारी प्राप्त करने के लिए लोगों तक पहुंचना बहुत कठिन था।  उन्होंने ऐप के लिए प्रासंगिक जानकारी का पता लगाने के लिए व्हाइटहैट जूनियर शिक्षकों, उनके माता-पिता और अपने आसपास के अन्य लोगों से मार्गदर्शन लिया। अरविंद का मानना है कि प्रौद्योगिकी का उपयोग वास्तविक जीवन की बहुत सारी समस्याओं को हल करने के लिए किया जा सकता है और किसान समस्याओं के अलावा, वह भविष्य में अन्य प्रमुख मौजूदा समस्याओं को भी हल करना चाहते हैं।

व्हाइटहैट जूनियर में अरविंद की एक अन्य मेंटर, जसमीन खान ने कहा, “मैंने अरविंद को उनकी ऐप निर्माण प्रक्रिया के दूसरे भाग के लिए सलाह दी। अरविंद एक अद्भुत छात्र हैं, उनके साथ हर सत्र मेरे लिए मजेदार और चुनौतीपूर्ण था। नई अवधारणाओं को सीखने के उनके उत्साह ने मुझे अपनी सीमाओं से आगे बढ़कर उन्हें  गहरा ज्ञान देने के लिए प्रेरित किया। मैं उनके इस फाइनल ऐप से वास्तव में खुश हूं और उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं देती हूं।

अरविंद के पिता सरवन कुमार (Saravana Kumar) ने कहा "अरविंद द्वारा किसान समुदाय की सहायता करने के प्रयास पर हमें बहुत गर्व है। यह देखना बेहद आकर्षक है कि उन्होंने किसानों के सामने आने वाली समस्याओं को अपनी तकनीकी समझ के द्वारा कितनी आसानी से सुलझा दिया है। मुझे पूरी उम्मीद है की अन्य बच्चे तथा युवा भी अपने समुदाय में आने वाली समस्याओं के समाधान के लिए प्रेरित होंगे।  जब अरविंद अपनी ऐप पर काम नहीं कर रहे होते हैं तो उन्हें रूबिक क्यूब गेम खेलना पसंद है। अरविंद उम्मीद करते हैं की उनकी ऐप 'गोल्डन क्रॉप' देश भर के किसानों को उपलब्ध हो सके और अंततः अरविंद कंप्यूटर-प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया