निवेश करते समय निवेशकों को इन प्रमुख गलतियों से बचना है ज़रूरी : ज्योति रॉय

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 22 मार्च 2022, नई दिल्ली। पिछले कुछ वर्षों में जागरूकता बढ़ने के साथ टियर 2, टियर 3 और उससे नीचे के शहरों के युवा और तकनीकी रूप से जानकार तथा पहली बार निवेश करने वालों की संख्या में कई गुऩा बढ़ोतरी हुई है। यह वृद्धि भारत में डीमैट खातों की संख्या में लगातार इजाफे से स्पष्ट रूप से दिखाई देती है। वित्त वर्ष 2013 से फरवरी 2022 की अवधि के दौरान भारत में डीमैट खातों की संख्या 17.2% सीएजीआर की दर के साथ बढ़कर 87 मिलियन हो चुकी है। जैसे पहली बार निवेश करने वाले निवेशक अधिक संख्या में बाजार में शामिल होते हैं, इसका मतलब है कि अधिक लोगों को पूँजी बाजार के जोखिमों और गलतियों के बारे में जागरूक करने की आवश्यकता है। बिना किसी तैयारी के निवेश की जल्दीबासी धन सृजन की पूरी प्रक्रिया को पटरी से उतार सकती है। यह आपके वित्तीय लाभ को जोड़ने के बजाय धन की हानि का कारण बन सकता है। प्रत्येक निवेशक की जोखिम उठाने की क्षमता अलग होती है, इसलिए आपको वांछित रिटर्न के लिए अच्छी तरह से सोच-समझकर सुव्यवस्थित रणनीति अपनानी चाहिए। संभावित गलतियों की सूची तैयार कर लेने से खराब निवेश की संभावना कम हो सकती है।

उचित शोध के बिना निवेश

अधिकांश निवेशक निवेश के निर्णय लेने में आवश्यक समय और शोध खर्च करते हैं। हालांकि, यह सभी के लिए सच नहीं है। पहली बार निवेश करने वाले आमतौर पर अपनी यात्रा शुरू करने के लिए बहुत उत्सुक होते हैं। योजना और अनुसंधान की कमी के कारण फैसले में जल्दबाजी यहाँ तक कि नुकसान भी हो सकता है। निवेश संबंधी कोई निर्णय लेने से पहले, कंपनी के व्यवसाय मॉडल और पिछले प्रदर्शन का गहन विश्लेषण और समझ प्राप्त करना महत्वपूर्ण है। इससे आपको पता चल जाएगा कि व्यवसाय फल-फूल रहा है या नहीं और इससेनिवेश के फैसले आसान हो जाते हैं। यह आपको इसकी विकास क्षमता के बारे में बेहतर जानकारी भी देगा।

ट्रेंड्स या चलन की पहचान

निवेशक बाजार में ट्रेंडिंग शेयरों से अक्सर प्रभावित हो जाते हैं। साथ ही सोशल मीडिया इसे लेकर एक व्यक्तिगत पूर्वाग्रह पैदा करता है जो किसी विशेष उद्योग या स्टॉक के प्रति झुकाव पैदा करता है। बिना उचित शोध के अफवाहों के आधार पर निवेश करने से निवेश के गलत फैसले हो सकते हैं। हर ट्रेंडिंग जानकारी के लिए, अच्छी तरह से सूचित निवेश करने के लिए स्रोत की पहचान करने और स्वयं भी शोध करने का प्रयास करें।

निवेश पोर्टफोलियो में विविधता नहीं लाना

अधिकांश नए निवेशकों द्वारा नजरअंदाज किया गया एक सुनहरा नियम है, निवेश पोर्टफोलियो का विविधीकरण। जबकि अधिकांश अनुभवी निवेशक अपने फंड को विभिन्न प्रकार के परिसंपत्ति वर्गों में आवंटित करते हैं। जो निवेशक बाजार में नए हैं वे ऐसा करने में विफल रहते हैं। हालांकि, वित्तीय बाजारों में विविधीकरण के सिद्धांत से चिपके रहना हमेशा बेहतर होता है। विविधीकृत पोर्टफोलियो नुकसान के जोखिम को कम करने में मदद करता है। उदाहरण के लिए, यदि आपका कोई निवेश कम हो जाता है, तो यह जरूरी नहीं कि आपके संपूर्ण पोर्टफोलियो को प्रभावित करे। इसलिए सिर्फ एक कंपनी के शेयर खरीदने के बजाय अलग-अलग कंपनियों या परिसंपत्ति वर्ग में निवेश करके अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने की कोशिश करें।

तत्काल परिणाम की अपेक्षा

आज की तेज-तर्रार डिजिटल रूप से सुसज्जित दुनिया में, ज्यादातर लोग निवेश से त्वरित रिटर्न की चाहत रखते हैं। और जब वे अपेक्षाकृत छोटी अवधि में कोई वृद्धि नहीं देखते हैं, तो बाहर निकल जाते हैं। हालांकि, वित्तीय बाजारों में इसका कोई मतलब नहीं है। निवेश एक क्रमिक प्रक्रिया है, और कभी-कभी कोई सार्थक रिटर्न दिखाने में अपेक्षा से अधिक समय लगता है। शेयरों में वृद्धि कंपनी के व्यावसायिक प्रदर्शन पर निर्भर है और इसलिए अपेक्षित रिटर्न दिखाने में अनुमान से अधिक समय लग सकता है। इसलिए, निवेश करते समय यथार्थवादी अपेक्षाएं रखना महत्वपूर्ण है।

निवेश का लक्ष्य स्पष्ट नहीं होना 

अंतिम लक्ष्य निर्धारित किए बिना निवेश यात्रा शुरू करना निश्चित रूप से एक दोषपूर्ण निर्णय हो सकता है। आपके धन में वृद्धि करने के बजाय, यह आपकी निवेश की गई सभी पूँजी को समाप्त कर सकता है। इसलिए, यदि आप पहले से ही निवेश कर रहे हैं या वित्तीय बाजार में अपनी यात्रा शुरू करने की योजना बना रहे हैं, तो पहला कदम एक मौद्रिक लक्ष्य निर्धारित करना है जिसे आप एक निर्धारित अवधि में हासिल करना चाहते हैं। अगला कदम अपनी जोखिम सहनशीलता का निर्धारण करना है। एक बार जब आपके पास यह स्पष्ट हो जाए कि आप क्या हासिल करना चाहते हैं, तो इससे आपको बेहतर योजना बनाने में मदद मिलेगी कि किस परिसंपत्ति वर्ग में निवेश करना है। उदाहरण के लिए, इक्विटी में अल्पावधि में उच्च अस्थिरता होती है, लेकिन लंबी अवधि में यह अन्य परिसंपत्ति वर्गों को मात दे सकती है। इस प्रकार, अधिकतम रिटर्न प्राप्त करने के लिए अपने निवेश का लक्ष्य निर्धारित करना सुनिश्चित करें। अंतिम बात, गलतियाँ करना हर निवेशक की यात्रा का एक हिस्सा है। हालांकि, उन गलतियों के बारे में जानना और उनसे पूरी तरह से बचना, नुकसान को कम करने और लाभ कमाने की संभावनाओं को बढ़ाने का एक उपयोगी तरीका है।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया