सिविल्स डेली के स्मैश मेन्स ने 80 फीसदी की प्रभावशाली सफलता दर हासिल किया

◆ यूपीएससी के लिए विद्यार्थियों को केंद्र में रखकर बनाए गए अग्रणी प्लेटफॉर्मों में से एक के महत्वपूर्ण  प्रोग्राम ने 80 फीसदी की आश्चर्यजनक सफलता दर हासिल की

◆ सिविल्सडेली के दूसरों से एक कदम आगे रखकर पढ़ाई कराने के नजरिए से 50 में से 40 विद्यार्थियों ने भारत की सबसे कठिन प्रतियोगी परीक्षाओं में से एक को पास किया

शब्दवाणी समाचार रविवार 24 अप्रैल 2022, नई दिल्ली। यूपीएससी परीक्षाओं की तैयारी के लिए विद्यार्थियों को केंद्र में रखकर बनाए गए प्लेटफॉर्म, सिविल्सडेली के अपनी तरह के अनोखे प्रोग्राम, द स्मैश मेंस का समापन 80 फीसदी की शानदार सफलता दर हासिल करने के साथ हुआ। स्‍मैश मेंस मेंटरशिप से संचालित एक प्रोग्राम है। इस प्रोग्राम के तहत कॅरियर संबंधी सलाह देने वाले कुछ सबसे कुशल और अनुभवी मार्गदर्शकों ने विद्यार्थियों को परीक्षा में सफल होने के लिए तैयारी के नए-नए तरीके बताए, जिसका उपयोग करते हुए सिविल सर्विस की मुख्य परीक्षा में बैठने वाले 50 में से 40 विद्यार्थियों ने इसे क्लियर कर अपनी सफलता का परचम लहरा लिया। इस कार्यक्रम के नए दृष्टिकोण ने 28 विद्यार्थियों का अपने पहले ही प्रयास में मेंस की परीक्षा उत्तीर्ण करना सुनिश्चित किया। 

सिविल्सडेली के नए, प्रभावशाली और महत्वपूर्ण सिद्धांतों ने इसे यूपीएससी की तैयारी कराने वाला बेहद महत्वपूर्ण और विशेष संस्थान बना दिया है। टीम का विश्वास है कि अगर डिजाइन के हिसाब से देखें तो यूपीएससी एक ऐसी परीक्षा है, जिसे पहले प्रयास में क्लियर किया जाना चाहिए। इसके बाद केवल अपनी रैंकिंग सुधारने के लिए ही परीक्षा में बैठना चाहिए। कई पूर्व विद्यार्थी अपनी छोटी-छोटी गलतियो की वजह से केवल थोड़े से अंतर से सफल उम्मीदवारों की लिस्ट में आने से वंचित रह गए। इस समस्या का समाधान यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के संबंध अपनी पूर्व धारणा को छोड़ना, इसे मौजूदा माहौल के अनुसार अपडेट करना और सिविल्स डेली के बताए तरीकों से इन परीक्षाओं की तैयारी करना है।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा