प्रेगनेंसी में कौन-कौन सी सब्जियों का बिल्कुल सेवन नही करना चाहिए : डॉ चंचल शर्मा

 

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 21 मई 2022, नई दिल्ली। आशा आयुर्वेदा की फर्टिलिटी एक्सपर्ट डॉ चंचल शर्मा कुछ ऐसी सब्जियों के सेवन न करने की सलाह देती है। जो आपकी प्रेगनेंसी के लिए अच्छी नही होती हैं कुछ ऐसी भी सब्जियां है जिनका सेवन गर्भवती महिलाओं को बिल्कुल भी नही करना  चाहिए। जैसे स्वीट पटौटो, मसरुम, कोर्न, सूरन - सूरज एक प्रकार की सब्जी है तो बहुत सारे राज्यों में खाई जाती है। इस प्रेगनेंसी के लिए ठीक नही होती है। इसलिए इसका सेवन बिल्कुल भी नही करना चाहिए। 

ऐसे भी कुछ सब्जियां है जिनका सेवन आप कभी-कभी कर सकती है। परंतु नियमित रुप में इन सब्जियों का सेवन करना आपके लिए खतरा हो सकता है। जैसे आप अंडे का सेवन करना चाहती है। तो उसका पीला वाला भाग निकाल कर सफेद वाले भाग को कभी-कभी खा सकती है। किसी भी तरह के मसालों का सेवन नही करना है। क्योंकि यह भ्रूण के लिए अच्छे नही माने गये है। प्रेगनेंसी के तीन महीने में इसका सेवन न करें तो आपके लिए बेहतर रहेगा।

प्रेगनेंसी के दौरान जो भी आप खाना बनाती हैं। उसमें देशी घी की मात्रा के थोडी सा ज्यादा रखें। क्योंकि प्रेगनेंसी की शुरुआती तीन महीनों में महिलाओं में पित्त की अधिकता रहती है। क्योंकि अधिकांश गर्भवती महिलाएं आशा आयुर्वेदा में बोलती है। कि उनको उनकी धड़कन सुनाई देती है। या फिर बहुत ज्यादा इंजायटी रहती है या नोजिया रहता है। ऐसी कंडीशन में देशी घी बहुत अच्छा काम करता है। 

प्रेगनेंसी में कौन-कौन से फल खाने चाहिए :

डॉ चंचल शर्मा गर्भवती महिलाओं को अंजीर , आंवला, सेव , अनार , मौसमी , संतरा जैसे सभी फलों को प्रेगनेंसी के तीन महीनों में खा सकती हैं। यह सभी फल प्रेगनेंसी के दौरान सेवन करने पर पुरी तरह से सुरक्षित हैं। नारियल पानी प्रेगनेंसी में बहुत अच्छा होता है। यह हाइड्रेशन को प्रतिबंधित करता है। और बार-बार उल्टी होने की समस्या को भी नियंत्रित करता है। नोजिया फीलिंग को भी कंट्रोल करता है। 

कोकम का सैसे भी आप नियमित रुप से ले सकती हैं। यह भी प्रेगनेंसी में आप ले सकती हैं। इन सभी सब्जियों और फलों का सेवन करते हुए आपको आयुर्वेद के विशेष नियम को भी पालन करना चाहिए। क्योंकि आयुर्वेद में कहा गया है। कि प्रेगनेंसी के तीन महीने तक गर्भवती महिला को सुबह के समय (पायस का सेवन) चावल को उबाल कर उसका स्टार्च निकल कर उसमें थोडा सा घी मिलाकर और शक्कर मिला कर (पायस) को खाते है तो बच्चे की विकास के लिए बहुत अच्छा होता है। 

यदि संभव हो सके तो गर्भवती महिलाएं अपने दिन की शुरुआत पंचामृत से कर सकती हैं। और यदि आप किसी खाद्य पदार्थ का AGGRESSIVE CONSUMPTION करती है। जैसे कच्चा आम है और कोई भी ऐसा फल यदि आपको परेशानी देता है। तो इसका कम से कम या फिर बिल्कुल सेवन नही करना चाहिए। AGGRESSIVE CONSUMPTION कुछ भी नही होना चाहिए यदि आपका बहुत ज्यादा मन है तो ऐसे में बहुत बहुत ही कम मात्रा में उसका सेवन कर सकती है। परंतु रोज नही ।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया