जिलाधिकारी ने किया बेसिक शिक्षा कार्यालय एवं विद्यालय निरीक्षक कार्यालय औचक निरीक्षण

 

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 27 मई 2022(अजय कुमार) बाँदा। जिलाधिकारी बांदा श्री अनुराग पटेल द्वारा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय एवं जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय बांदा का औचक निरीक्षण किया गया।निरीक्षण के दौरान वित्त एवं लेखाधिकारी अभिषेक यादव, जिला समन्वयक एम0डी0एम0 भास्कर आसवानी, जिला समन्वयक सिविल मो0 आमिर, जिला समन्वयक सामुदायिक सहभागिता सूर्य प्रकाश एवं नरेन्द्र, कनिष्ट सहायक अनुपस्थि पाये गये। जिलाधिकारी द्वारा अनुपस्थित पाये गये अधिकारी/कर्मचारियों का एक दिन का वेतन रोकते हुये स्पष्टीकरण मांगा गया।

जिलाधिकारी द्वारा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में एम0डी0एम0, परियोजना अधिकारी कक्ष, कम्प्यूटर कक्ष, एम0आई0एस0 कक्ष, लेखाकार कक्ष सहित समेकित शिक्षा कक्षों का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के समय कक्षों में सफाई का अभाव पाया गया एवं अभिलेखों का रख-रखाव सही नहीं पाया गया। जिलाधिकारी द्वारा नाराजगी व्यक्त करते हुये जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया गया कि 03 दिवस के अन्दर अभियान चलाकर कार्यालय की सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करायें तथा अभिलेखों का रख-रखाव दुरूस्त करायें।

जिलाधिकारी द्वारा वरिष्ठ सहायक श्री साबिर से 69000 हजार शिक्षकों की भर्ती में जनपद बांदा में कितने अध्यापकों की नियुक्ति हुई है और कितने अध्यापकों का अभिलेख सत्यापन कराने हेतु कार्यवाही की गयी। मौके पर उपस्थित श्री साबिर द्वारा अवगत कराया गया कि 31000 एवं 69000 अध्यापकों की भर्ती में जनपद में कुल 1058 अध्यापकों की तैनाती हुई और 203 अध्यापकों का अभिलेखों के सत्यापन हेतु पत्राचार किया गया है। जिलाधिकारी द्वारा पत्रावलियों का अवलोकन किया गया। पत्रावली के अनुसार दिनांक 16 नवम्बर, 2021 के बाद अभिलेखों के सत्यापन में कोई पत्राचार नहीं किया गया। जिलाधिकारी द्वारा अवशेष अध्यापकों के सत्यापन सम्बन्धी कार्य को न किये जाने के सम्बन्ध में जानकारी करने पर श्री साबिर द्वार कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया गया। जिलाधिकारी द्वारा 855 अध्यापकों के अभिलेखों के सत्यापन की कार्यवाही न किये जाने एवं कार्यो में लापरवाही बरतने पर श्री साबिर, वरिष्ठ सहायक का अग्रिम आदेशों तक वेतन रोकते हुये तत्काल प्रभाव से प्रतिकूल प्रविष्टि प्रदान करने के निर्देश दिये गये।

राजकीय इण्टर कॉलेज, बांदा के बगल में बने वर्ष 2003 में निर्माणाधीन जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय जो वर्तमान में खण्डहर के रूप तबदील हो गया है। जिलाधिकारी द्वारा इस सम्बन्ध में जानकारी करने पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि इसकी की कोई जानकारी नहीं है। जिलाधिकारी द्वारा जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय का निरीक्षक किया गया। निरीक्षण के समय जिला विद्यालय निरीक्षक विनोद सिंह सहित समस्त कर्मचारी उपस्थित पाये गये। जिलाधिकारी द्वारा राजकीय माध्यमिक विद्यालय, लेखाकार, एन0पी0एम0/ कोचिंग, परीक्षा पटल, सहायक लेखाकार पटलों का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान पटलों में सफाई का संतोषजनक नही पाई गई तथा अभिलेखों का रख-रखाव सही न पाये जाने पर जिलाधिकारी द्वारा नाराजगी व्यक्त करते हुये जिला विद्यालय निरीक्षक को निर्देशित किया कि 03 दिवस में अभियान चलाकर पटलों में सफाई कराते हुये अभिलेखों को दुरूस्त करायें।

जिलाधिकारी द्वारा जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय में 03 कमरों में ताला लगा हुआ पाया गया। जिलाधिकारी द्वारा बन्द कमरों को ताला खुलवाकर देखा गया। कमरों में पुरानी पत्रावलियां, 18 बड़े बक्से, 15 छोटे बक्से, 10 अलमारी, 03 लकड़ी की अलमारी, 05 हरमोनियम, 02 सिलाई मशीन, 03 टेप रिकॉर्डर एवं 02 पुराने प्रेस (स्त्री) कबाड़ के रूप में पड़े हुये पाये गये। कमरों में अत्यधिक गन्दगी पाई गई। कमरों को देखकर एैसा प्रतीत हुआ कि कई वर्षो से कमरों को खुलवाया नहीं गया है और न ही सफाई करायी गई है। जिलाधिकारी द्वारा कार्यालय में अत्यधिक गन्दगी एवं कार्यालय के कमरों में अस्त-व्यस्त पड़े हुये पाये जाने पर जिला विद्यालय निरीक्षक का अग्रिम आदेशों तक के लिये वेतन रोका गया और निर्देशित किया कि कार्यालय में पुराने अभिलेखों एवं निष्प्रयोज्य सामग्री को समिति गठित करते हुये नियमानुसार नीलामी कार्यवाही सुनिश्चित करायें।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया