क्या अधिक उम्र की महिलाओं में एएमएच लेवल कम हो जाता है : डॉ चंचल शर्मा

 

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 23 जून 2022, नई दिल्ली। जब एक महिला बीस साल की होती है, तो वह बच्चे को जन्म देने के लिए एकदम सही होती है। 30 साल की उम्र के बाद उनकी प्रजनन क्षमता कम हो जाती है। यह उसके अंडों की गुणवत्ता और मात्रा में कमी के कारण है। 35 वर्षों के बाद गिरावट अधिक होती है (आयु के अनुसार गर्भावस्था का प्रतिशत)। 40 की उम्र के बाद प्रजनन क्षमता में तेजी से गिरावट आती है। इस समस्या को लो एएमएच के नाम से जानते है। लो एएमएच का महिलाओं की उम्र का खास प्रभाव होता है। महिलाओं की बढ़ती उम्र इस बात का संकेत देती है। कि महिलाओं में उम्र के साथ अंडे कम होने लगते है और रजोनिवृत्ति तक पहुंचते उनके सारे अंडे समाप्त हो जाते है। और फिर कंसीव करना मुश्किल हो जाता है। 

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप बाहर से कितने युवा हैं। आपके अंडे की समय सीमा समाप्त हो जाती है, इसलिए अपनी प्रजनन क्षमता को कम मत समझो। यदि आपकी आयु 37 वर्ष से अधिक है, तो गर्भाशय ग्रीवा (uterine cervix) की जांच करवाएं। महिलाएं अपने अंडाशय में लगभग 2 मिलियन अंडों के साथ पैदा होती हैं। लड़की के यौवन तक पहुंचने से पहले, हर महीने लगभग 11,000 अंडे मर जाते हैं। इस प्रकार, किशोरावस्था के दौरान एक महिला को केवल 300,000 से 400,000 अंडे ही उपलब्ध होते हैं। प्रति माह लगभग 1000 अंडे का उपयोग किया जाता है। इसका किसी भी तरह के जन्म नियंत्रण, गर्भनिरोधक गोलियों, बदलते स्वास्थ्य, खराब जीवनशैली से कोई लेना-देना नहीं है। आखिरकार, जब एक महिला के पास ऐसा अंडा नहीं बचा होता है, तो वह रजोनिवृत्ति तक पहुंच जाती है।

\

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया