लघु और मध्यम उद्यमों को डिजिटल रूप से सक्षम बनाने की अमेजन पे की घोषणा

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 9 जून 2022, नई दिल्ली। अमेजन इंडिया के लघु और मध्यम उद्यमों (SMB) को डिजिटल रूप से सक्षम बनाने के प्रयासों के तहत, अमेजन पे ने घोषणा की है कि उसने अपने डिजिटल पेमेंट्स इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ 85 लाख से अधिक ऑफलाइन लघु व्यवसाय मालिकों और उद्यमियों को सशक्त बनाया है। इंडिया और भारत के बीच डिजिटल खाई को पाटने की अपनी यात्रा में, अमेजन पे ने छोटे व्यापारियों और उद्यमियों के विविध समूह को सक्षम बनाया है। 85 लाख से अधिक एसएमबी में से 40 लाख से अधिक खुदरा और शॉपिंग आउटलेट जैसे किराना स्टोर, जनरल स्टोर; 13 लाख से अधिक खाद्य और पेय आउटलेट जैसे रेस्तरां, छोटे भोजनालय, फास्ट-फूड ज्वॉइंट्स, लगभग 30 लाख सेवा प्रदाता जैसे सैलून, मोबाइल रिचार्ज, इंटरनेट कैफे, स्वास्थ्य और चिकित्सा देखभाल, यात्रा और परिवहन, शिक्षा सेवाएं, विविध श्रेणियों के स्टोर मालिक शामिल हैं। 

महेंद्र नेरुरकर, सीईओ और वीपी, अमेजन पे इंडिया ने कहा, "लघु एवं मध्यम उद्यम भारत की आर्थिक विकास की रीढ़ हैं। हमारा लक्ष्‍य ऑफलाइन व्यापारियों को सशक्त बनाना, उन्हें अपने व्यापार का विस्तार करने का अवसर प्रदान करना, और कई अन्य टच प्वॉइंट्स के बीच उनके भुगतान अनुभव को बढ़ाना है, जो उनकी डिजिटल यात्रा को तेज करता है। यह मील का पत्थर उस भरोसे का प्रमाण है, जो भारत के 85 लाख से ज्यादा लघु एवं मध्यम उद्यम हम पर करते हैं और हम उनके प्रति आभारी हैं। हम समग्र पहलों को आगे भी जारी रखने, भारत में भुगतान के तरीके को बदलने और एसएमबी के लिए भुगतान स्वीकृति ईकोसिस्टम को और मजबूत करने के अपने प्रयासों पर आगे भी ध्यान रखना जारी रखेंगे।

अमेजन पे का उपयोग करने के कुछ लाभों को साझा करते हुए, साई, मालिक, अपोलो मेडिकल स्टोर, आंध्र प्रदेश ने कहा, “अमेजन पे का उपयोग करने से सर्विस तेज होती है और हमें कम समस्याओं का सामना करना पड़ता है। प्लेटफॉर्म लेनदेन को संभालने को बहुत ही आसान बनाता है। चूंकि मेरे प्रतिस्पर्धी डिजिटल भुगतान का विकल्प नहीं देते हैं, इसलिए ग्राहक मुझसे खरीदना पसंद करते हैं, जिससे मेरे व्यवसाय को बहुत लाभ हुआ है।

पश्चिम बंगाल के बारासत में फूड ज्वॉइंट चलाने वाले पवन ने कहा अमेजन पे जैसी डिजिटल लेनदेन सेवाओं के साथ, मेरे जैसे औसत खुदरा स्टोर मालिक को ग्राहक के खातों पर नजर रखना आसान हो जाता है। पहले, जब नकद का अधिक उपयोग होता था, तब हमें अक्सर अपने बैंक खातों में रोज-रोज पैसे जमा करना बड़ा मुश्किल लगता था - क्योंकि छोटे-छोटे लेनदेन छुट्टे पैसों के साथ होता था, जिन्हें बैंक में जमा नहीं किया जा सकता था।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया