फिल्म समीक्षा : विक्रांत रोना

 

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 29 जुलाई 2022(फिल्म समीक्षक : रेहाना परवीन) नई दिल्ली। फिल्म विक्रांत रोणा उस जमाने की काल्पनिक कहानी है जब देश में इतनी तरक्की नहीं हुई थी। जंगलों की बस्तियों के आसपास आदिवासियों का डेरा था। मोबाइल और टेलीविजन से दूर बच्चे समूह में बैठकर एक दूसरे को फंतासी कहानियां सुनाते थे। फिल्म विक्रांत रोणा की कहानी एक पुलिस इंस्पेक्टर की है जो अपनी लापता बीवी और बच्चे की तलाश में घने जंगलों में बसे एक गांव में आता है और वहां लगातार हो रही बच्चों के अपहरण और हत्याओं की गुत्थी सुलझाने का प्रयास करता है। फिल्म में मुख्य कलाकार के रूप में सुदीप, निरूप भंडारी, नीता अशोक, जैकलीन फर्नांडीस, रविशंकर गौडा, मधुसूदन राव, वज्रधीर जैन, बेबी संहिता, इत्यादि लेखक अनूप भंडारी, निर्देशक अनूप भंडारी नजर आएंगे। फिल्म विक्रांत रोना 28 जुलाई को 3D में पूरी दुनिया में एक साथ प्रदर्शित हो रही है। फिल्म बड़े बजट की है इस फिल्म को मैं 5 में से 4 नम्बर देती हूँ। 

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया