फ्लुएंस ने इंडिया टेक्नॉलॉजी सेंटर की घोषणा

 

◆ क्षेत्र के लिए प्रतिबद्धता एवं ग्लोबल प्रोडक्ट स्ट्रेट्जी का क्रियान्वयन प्रदर्शित किया 

◆ बैंगलोर में स्थित फ्लुएंस इंडिया टेक्नॉलॉजी सेंटर भारत एवं विश्व में ग्राहकों की सहायता के लिए उत्कृष्टता के इंजीनियरिंग केंद्र के रूप में काम करेगा

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 8 जुलाई 2022, बैंगलोर। रिन्यूएबल्स और स्टोरेज के लिए एनर्जी स्टोरेज उत्पादों, सेवाओं एवं डिजिटल एप्लीकेशंस में ग्लोबल मार्केट लीडर, फ्लुएंस एनर्जी, इंक. (‘‘फ्लुएंस’’) (नैस्दैकः एफएलएनसी) ने आज बैंगलोर में नया ग्लोबल टेक्नॉलॉजी सेंटर खोलने की घोषणा की। फ्लुएंस इंडिया टेक्नॉलॉजी सेंटर इंजीनियरिंग की क्षमताएं बढ़ाकर और वैश्विक प्रतिभा का विस्तार कर कंपनी की ग्लोबल प्रोडक्ट स्ट्रेट्जी के क्रियान्वयन में मदद करेगा और देश में फ्लुएंस की स्थानीय मौजूदगी को मजबूत करेगा। फ्लुएंस इंडिया टेक्नॉलॉजी सेंटर फ्लुएंस के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। यह पूरी तरह से एशिया में मौजूद कंपनी का पहला टेक्नॉलॉजी सेंटर है। इससे उत्तर अमेरिका और यूरोप में मौजूदा टेक्नॉलॉजी टीमों का विस्तार होगा। कंपनी के टेक्नॉलॉजी केंद्रों की टीमें मिलकर फ्लुएंस के क्षेत्रीय केंद्रण वाले संचालन मॉडल की सहायता करेंगी और नए उत्पादों एवं क्षेत्रीय प्रोडक्ट सपोर्ट के लिए एक मजबूत ढांचे का निर्माण करेंगी।

फ्लुएंस के एसवीपी और चीफ प्रोडक्ट ऑफिसर, रेबेका बोल ने कहा, ‘‘इस टेक्नॉलॉजी सेंटर के लॉन्च के साथ हम अपने उत्पादों, इंजीनियरिंग की क्षमताओं का विस्तार करेंगे और बैटरी पर आधारित एनर्जी स्टोरेज उत्पादों एवं सॉफ्टवेयर में अपनी प्रतिस्पर्धात्मकता का प्रदर्शन करेंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह टीम हमारी जनरेशन 6 उत्पाद श्रृंखला के विस्तार के लिए महत्वपूर्ण होगी, जो पूरी दुनिया में ग्राहकों को महत्वपूर्ण ग्रिड सेवाएं प्रदान कर रहा है। यह टीम अगली जनरेशन के उत्पाद बनाएगी। बैंगलोर में फ्लुएंस के टेक्निकल विशेषज्ञों की टीम सभी महत्वपूर्ण उत्पाद श्रृंखलाओं के लिए कंपनी के वैश्विक सेल्स और वृद्धि के लक्ष्य पूरे करने में मदद करेगी और उत्पाद के विकास में तेजी और लचीलापन लेकर आएगी। कंपनी की सबसे बड़ी वैश्विक टेक्नॉलॉजी टीम के रूप में इंडिया टेक्नॉलॉजी सेंटर के कर्मचारी एन्क्लोज़र, बैटरी, और इन्वर्टर इंजीनियरिंग, सॉफ्टवेयर क्वालिटी एश्योरेंस, प्रोडक्ट मैनेजमेंट आदि के क्षेत्रों में काम कर रहे हैं। इसके अलावा यह टेक्नॉलॉजी सेंटर रिन्यू पॉवर के साथ फ्लुएंट इंडिया के संयुक्त उपक्रम को उत्पादों की डिलीवरी में मदद देगा और अपने स्टोरेज सिस्टम के पूरे जीवनचक्र में मदद करेगा। 

फ्लुएंस के एसवीपी एवं प्रेसिडेंट, एशिया पैसिफिक, जैन टीचमन ने कहा, ‘‘भारत ने 2030 तक 500 गीगावॉट का महत्वाकांक्षी रिन्यूएबल एनर्जी क्षमता का लक्ष्य निर्धारित किया है। फ्लुएंस स्वच्छ ऊर्जा की ओर भारत के सफर में मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है और हमारा टेक्नॉलॉजी सेंटर एवं रिन्यू के साथ संयुक्त उपक्रम इसकी एक शुरुआत है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘क्षेत्र में हमारा निवेश हमें स्थानीय ग्राहकों के साथ साझेदारी करने, स्थानीय बाजार की जरूरतों के लिए विशेषज्ञता प्राप्त करने, क्षेत्र के लिए उत्पाद का विकास करने, और भारत में एनर्जी स्टोरेज की दीर्घकालिक वृद्धि में मदद करने में समर्थ बनाएगा। भारत में फ्लुएंस के फ्लैगशिप बैटरी आधारित एनर्जी स्टोरेज की स्थापना 2019 में दिल्ली में टाटा पॉवर (टीपीडीडीएल) सबस्टेशन में हुई थी। 10 मेगावॉट/10मेगावॉटघंटा का यह प्रोजेक्ट एईएस एवं मित्सुबिशी द्वारा विकसित किया गया और यह दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा एनर्जी स्टोरेज सिस्टम है।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा