फिल्म समीक्षा : रॉकेट्री (द नांबी इफेक्ट)


शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 1 जुलाई 2022, (फिल्म समीक्षक रेहाना परवीन) नई दिल्ली। फिल्म रॉकेट्री (द नांबी इफेक्ट) भारतीय राकेट वैज्ञानिक नांबी नारायण की जीवनी पर आधारित है। इस फिल्म के माध्यम से लेखक आर माधवन ने भारतीय सोच पर एक सवालिया निशान लगाया की यहां पर अपनी ईर्षा या लाभ के लिए कुछ लोग देश व् समाज का कितना नुक्सान होगा इसकी परवाह नहीं करते उसी की एक बानगी है। भारतीय राकेट वैज्ञानिक नांबी नारायण जो इसरो में वैज्ञानिक थे उन्हें नासा के वैज्ञानिक बनने का प्रस्ताव था पर भारत के लिए उस प्रस्ताव को ठुकरा दिया पर भारत के कुछ लोग ने उनको देश द्रोही बना दिया फिल्म रॉकेट्री (द नांबी इफेक्ट) उन सभी जुनूनी लोगों की कहानी है जो अपने हुनर को अपना हौसला बनाते है, घर परिवार सब छोड़कर अपना सब कुछ अपने काम में लगा देते हैं। 

ये फिल्म उन लोगों की भी कहानी है जिन्हें ऊपर जाता देख उनके आसपास के लोग  स्वार्थ या ईर्षा से नुक्सान पहुँचाने में लग जाते हैं। फिल्म में शारुख खान ने सवाल पूछकर भारतीय राकेट वैज्ञानिक नांबी नारायण के जीवन को जाना। इस फिल्म में मुख्य कलाकार आर माधवन, सिमरन, रजित कपूर, सैम मोहन और शाहरुख खान लेखक और निर्देशक खुद आर माधवन हैं। यह फिल्म 1 जुलाई 2022 को प्रदर्शित हो रही है। फिल्म में अंग्रेजी का इस्तेमाल ज्यादा है इस कारण शायद अंग्रेजी को ना जानने वाले दर्शक को कम पसंद आये। फिर भी में इस फिल्म को पांच में से चार स्टार देती हूँ। इस फिल्म को दर्शकों तक पहुंचाने वाले आर माधवन सहित सभी लोगों का आभार व्यक्त करती हूँ देश को नांबी नारायण के बारे में साथ ही नांबी नारायण को शब्दवाणी समाचार और द वीकली टाइम्स की और से सलूट करती हूँ।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया